Submit your post

Follow Us

'मोदी बहुत काम कर रहे हैं' छापने वाली वेबसाइट के बारे में क्या पता चला?

भारत में कोरोना बेकाबू हो चुका है. ऐसा सिर्फ हम नहीं, पूरी दुनिया कह रही है. ‘न्यू यॉर्क टाइम्स’ ने दिल्ली की एक तस्वीर छापी. श्मशान में जलती चिताओं की. साथ में लिखा, ‘भारत में कोविड 19 के बढ़ते कहर के बीच मौतों की गिनती में बेइमानी’. ब्रिटिश अखबार ‘द गार्डियन’ ने अपने संपादकीय में सीधे-सीधे नरेंद्र मोदी को जिम्मेदार बताया. लिखा, ‘डोनाल्ड ट्रम्प की तरह मोदी ने भी महामारी बढ़ने के बावजूद चुनावी रैलियों में हिस्सा लेना नहीं छोड़ा. भारत में पांच राज्यों में चुनाव हुए और मोदी बिना मास्क के रैलियां करते रहे.’ ऑस्ट्रेलिया के अखबार ‘द ऑस्ट्रेलियन’ ने लिखा कि मोदी की वजह से भारत कयामत की स्थिति में पहुंच गया है. भारतीय सरकार से जवाबदारी लेते हुए कुछ ऐसा ही ‘गल्फ न्यूज़’, ‘टाइम मैगजीन’ और ‘वॉशिंगटन पोस्ट’ ने भी लिखा.

विदेशी मीडिया की ऐसी कवरेज से देश की जनता दो पक्षों में बंटी दिखी. कुछ कहते दिखे कि सरकार की जवाबदारी तय होनी चाहिए. तो ‘आंतरिक मामले’ को सपोर्ट करने वाले दूसरे पक्ष ने कहा कि इससे सरकार की छवि धूमिल हो रही है. इसी बीच 11 मई को एक और न्यूज़ आर्टिकल ट्विटर पर शेयर किया जाने लगा. लेकिन यहां मोदी सरकार की आलोचना नहीं हो रही थी. बल्कि, तारीफ की गई, कि वो कितने मेहनतकश हैं. ये किसी को नहीं दिखता. बस ऑक्सीजन और दवाइयों की किल्लत का टोकरा उनके सिर रख दिया गया है. आर्टिकल था ‘द डेली गार्डियन’ से. इसका ब्रिटिश अखबार से ‘द गार्डियन’ से कोई वास्ता नहीं.

The Daily Guardian
बीजेपी से जुड़े 9 नामों ने ये न्यूज़ स्टोरी शेयर की. फोटो – ट्विटर

बीजेपी से जुड़े कई बड़े नामों ने इस न्यूज़ आर्टिकल को शेयर किया. यूनियन मिनिस्टर अनुराग ठाकुर, किरण रिजिजू, डॉ. जितेंद्र सिंह, प्रल्हाद जोशी, रघुबर दास भी शेयर करने वालों की लिस्ट में शामिल थे. यहां तक कि बीजेपी आईटी सेल हेड अमित मालवीय ने भी इसे अपनी टाइमलाइन पर शेयर किया. साथ में लिखा कि मौत बड़ी खबर है, लेकिन रिकवरी नहीं. दावा किया कि 85 प्रतिशत लोग बिना हॉस्पिटल में एडमिट हुए ठीक हो गए. इतनी जगह शेयर होने के बाद लोग ‘द डेली गार्डियन’ की उत्पत्ति जानने को इच्छुक थे. जो कोरोना महामारी में भी मोदी सरकार को डिफेंड कर रहा था. लोग वेबसाईट चेक करने लगे. इस कदर कि ‘द डेली गार्डियन’ का पेज क्रैश कर दिया. इसके ऑरिजिन पर सवाल करने लगे. एक ने लिखा,

द डेली गार्डियन क्या है मालवीय जी. कहां का पेपर है. खुलता ही नहीं.

दूसरे यूज़र ने लिखा,

मिस्टर अमित मालवीय, ये द डेली गार्डियन वेबसाईट का रजिस्ट्रेशन उत्तर प्रदेश से है. अव्वल दर्जे के लीचड़ पार्टी हो यार. लोग मर रहे हैं, तुम्हें नीरो की इमेज की फिक्र है. वो भी फर्जी मीडिया वेबसाईट के नाम पर.

 

किसी ने अक्षय कुमार वाला मीम शेयर किया. वो ‘जोर जोर से बोल के सबको स्कीम बता दे’ वाला. साथ में लिखा,

जब आप गार्डियन नहीं खरीद सकते और लोकल गार्डियन से काम चलाते हैं.

दिनभर वेबसाईट की पीएम मोदी वाली स्टोरी का लिंक डाउन रहा. हालांकि, शाम को ओपन होने लगा. जब खुला, तो हमनें भी चेक किया. और पाया कि ये एक संपादकीय था. स्क्रॉल करते-करते नीचे पहुंचे तो ये बात समझ आई. क्योंकि वहां लिखा था,

इसे लिखने वाले बीजेपी मीडिया रिलेशन्स डिपार्टमेंट के कन्वेनर हैं और टीवी डिबेट में पार्टी प्रवक्ता की भूमिका भी निभाते हैं. उन्होंने ‘नरेंद्र मोदी: द गेम चेंजर’ नाम की बुक भी लिखी है. यहां लिखे विचार उनके व्यक्तिगत विचार हैं.

संपादकीय के अंत में जोड़ी इन दो लाइनों को पढ़कर लोग खुद ‘टू प्लस टू’ कर लेंगे.


वीडियो: अरविंद सुब्रमण्यम ने वैक्सीन कीमत विवाद से बचने के लिए कौन से तीन सुझाव दिए हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

चोरी हुई साइकल ने बना दिया अली को सदी का सबसे महान बॉक्सर

चोरी हुई साइकल ने बना दिया अली को सदी का सबसे महान बॉक्सर

वो मुक्केबाज जिसके मुक्के पर ताला जड़ दिया, लेकिन वो फिर लौटा नायक बनकर.

कहानी हॉलीवुड के फेमस MGM स्टूडियो की, जिसने वर्ल्ड सिनेमा को ये 10 शानदार फ़िल्में दी

कहानी हॉलीवुड के फेमस MGM स्टूडियो की, जिसने वर्ल्ड सिनेमा को ये 10 शानदार फ़िल्में दी

शेर के लोगो वाली इस कंपनी की कितनी फ़िल्में आपने देखी हैं? अब इस प्रॉडक्शन कंपनी को अमेज़न ने मोटा पैसा देकर खरीद लिया है.

इबारत : जवाहर लाल नेहरू की वो 15 बातें, जो देश को कभी नहीं भूलनी चाहिए

इबारत : जवाहर लाल नेहरू की वो 15 बातें, जो देश को कभी नहीं भूलनी चाहिए

'दीवारों से तस्वीरें बदलकर इतिहास नहीं बदला जा सकता'.

मई-जून में आने वाली इन 13 फिल्मों और वेब सीरीज़ पर नज़र रखिएगा!

मई-जून में आने वाली इन 13 फिल्मों और वेब सीरीज़ पर नज़र रखिएगा!

काफी डिले के बाद 'द फैमिली मैन' का दूसरा सीज़न भी रिलीज़ हो रहा है.

शरद जोशी की वो 10 बातें, जिनके बिना व्यंग्य अधूरा है

शरद जोशी की वो 10 बातें, जिनके बिना व्यंग्य अधूरा है

आज शरद जोशी का जन्मदिन है.

जूनियर एनटीआर की 10 जाबड़ फिल्में, जिन्होंने बॉक्स ऑफिस पर गदर मचा दिया

जूनियर एनटीआर की 10 जाबड़ फिल्में, जिन्होंने बॉक्स ऑफिस पर गदर मचा दिया

आज यानी 20 मई को जूनियर एनटीआर का 38वां जन्मदिन है.

अंतिम संस्कार जैसे सब्जेक्ट पर बनी ये 7 कमाल की फिल्में, जो आपको जरूर देखनी चाहिए

अंतिम संस्कार जैसे सब्जेक्ट पर बनी ये 7 कमाल की फिल्में, जो आपको जरूर देखनी चाहिए

सत्यजीत राय से लेकर मृणाल सेन जैसे दिग्गजों की फिल्में शामिल हैं.

आर.के. नारायण, जिनका 'मालगुडी डेज़' देख मन में अलग धुन बजने लगती थी

आर.के. नारायण, जिनका 'मालगुडी डेज़' देख मन में अलग धुन बजने लगती थी

स्वामी और उसके दोस्तों को देखते ही बचपन याद आता है.

TVF Aspirants के पांचों किरदारों की वो बातें, जो सीरीज़ में दिखीं पर आप नोटिस न कर पाए

TVF Aspirants के पांचों किरदारों की वो बातें, जो सीरीज़ में दिखीं पर आप नोटिस न कर पाए

SK, अभिलाष और गुरी तो ठीक हैं, मगर असली कहर संदीप भैया ने बरपाया है.

मंटो की वो 15 बातें, जो ज़िंदगी भर काम आएंगी

मंटो की वो 15 बातें, जो ज़िंदगी भर काम आएंगी

धर्म से लेकर इंसानियत तक, सब पर सब कुछ कहा है मंटो ने.