Submit your post

Follow Us

वायरल वीडियो : हरियाणा में मुस्लिमों की बस पर लगे पाकिस्तानी झंडे का सच

14.71 K
शेयर्स

साल 2002. (घबरायें नहीं, आगे भी पढ़ें.) फ़िल्म आई देवदास. दनादन चमकते हुए सेट आर भौंहे उठाये माधुरी दीक्षित ने शाहरुख खान से अभी अभी कहा, “हम पे ये किसने हरा रंग डाला…” साल 2002 होने के बावजूद ये गाना उस कदर सांप्रदायिक नहीं था जिस कदर ये आज के दिन रिलीज़ होने पर हो सकता था. वजह – हरा रंग.

दुनिया में कई ऐसी चीज़ें होती हैं जो ट्रिगर का काम करती हैं. वो आंखों के सामने आ जाएं और आप एक विशिष्ट प्रकार की हरकत करने लग जाएं. आपके शरीर में ऐसी हरकतें हों जिनके लिए आपको कोई खास प्रयास न करना पड़े. देश में वही हाल हरे रंग का है. हरा रंग दीखते ही आदमी हल्क और देवदास की माधुरी दीक्षित की बजाय पड़ोसी मुल्क पहुंच जाता है. ताज़ा उदाहरण आया है हरियाणा से. पश्चिम बंगाल की एक बस हरियाणा की सड़क पर दौड़ रही थी. इस पूरे वाकये का एक विडियो मिला है जो सोशल मीडिया पर काफ़ी तेज़ी से शेयर हो रहा है.

हरियाणा पर चल रही इस बस को एक कार में बैठे कुछ लोगों ने ताड़ लिया. उन्हें दिखाई पड़ी एक बस और उसके पीछे हरा रंग – हरे रंग का झंडा. झंडे पर चांद और तारा. चांद और तारे से भी एक समय था जब इंसान कहो न प्यार है के ‘चांद सितारे फूल और शबनम, ये तो सारे नज़ारे हैं…’ गाने पर पहुंच जाता था. लेकिन अब नहीं. अब वो पड़ोसी मुल्क पर पहुंचता है. कार में बैठे देश के होनहार भी पहुंच गए. उन्होंने चार गालियां निकालीं, और लगे बस को रुकवाने.

west bengal haryana bus national flag

बस के आगे अपनी गाड़ी रोकी और बस से लोगों को नीचे उतरवाया. बस से नीचे दो बुज़ुर्ग उतरे. उन्हें जी भर गालियां दीं. जितनी भद्दी गालियां दी जा सकती थीं, दे दी गईं. उन बुज़ुर्ग लोगों को इस बात का अहसास करवाया गया कि उन्होंने पाकिस्तान का झंडा बस पर लगाया हुआ था. इसके बात उन्हें उस झंडे पर पैर रखने को कहा. इसके बाद भी मन नहीं भरा तो उन बुजुर्गों से ‘पाकिस्तान मुर्दाबाद’ कहने को कहा गया. उन्होंने तुरंत ही वो भी कह दिया. कार में बैठे ‘सज्जन’ ने झंडे को पैर से उड़ाकर हवा में फेंक दिया और चार गालियां बककर  चलते बने. उनका काम हो गया. देश सुरक्षित हो गया क्यूंकि हरे रंग का चांद सितारे वाला झंडा अब हरियाणा की सड़क पर पड़ा था न कि किसी बस पर लगा हुआ था.

बस असल में अजमेर शरीफ जा रही थी. और उस पर जो झंडा लगा हुआ था वो पाकिस्तान का नहीं बल्कि इस्लामिक झंडा था. इस्लामिक झंडा यानी पॉपुलर कल्चर की बात करूं तो भगवा झंडे का अपोज़िट. जैसे कितने ही घरों पर भगवा झंडे लहराते हुए दिख जाते हैं वैसे ही ये इस्लामिक झंडा भी उतना ही ‘एक्सेप्टेबल’ है. इन दोनों ही झंडो की उतनी ही अहमियत है और ये उतने ही लीगल हैं. ज़रुरत है कि अगली ‘मन की बात’ में इस बात को भी एड्रेस किया जाए और देश भर को एक इस्लामिक झंडे और पाकिस्तान के झंडे के बीच के अंतर को समझाया जाए. एक हरे बैकग्राउंड पर सफ़ेद रंग के चांद और सितारे को देख उसे पाकिस्तान का झंडा समझ लेना वैसा ही है जैसे चुनाव हारने पर ‘पाकिस्तान की साज़िश है’ जैसा बयान दे देना.


ये भी पढ़ें:

क्या है SC-ST ऐक्ट, जिसमें सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा बदलाव किया है

 तय कर लो कि इस लड़की ने गीता पर पेशाब किया या कुरान पर, जिसकी इसे ये सजा मिली?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

वॉर का ट्रेलर: अगर ये फिल्म चली तो बॉलीवुड की 'बाहुबली' बन जाएगी

ऋतिक रोशन और टाइगर श्रॉफ का ये ट्रेलर आप 10 बारी देखेंगे!

इस टीज़र में आयुष्मान ने वो कर दिया जो सलमान, शाहरुख़ करने से पहले 100 बार सोचते

फिल्म 'बाला' का ये एक मिनट का टीज़र आपको फुल मज़ा देगा.

'इतना सन्नाटा क्यों है भाई' कहने वाले 'शोले' के रहीम चाचा अपनी जवानी में दिखते कैसे थे?

जिस आदमी को सिनेमा के परदे पर हमेशा बूढा देखा वो अपनी जवानी के दौर में राज कपूर से ज्यादा खूबसूरत हुआ करता था.

शोले के 'रहीम चाचा' जो बुढ़ापे में फिल्मों में आए और 50 साल काम करते रहे

ताउम्र मामूली रोल करके भी महान हो गए हंगल सा'ब को 7 साल हुए गुज़रे हुए.

जानिए वर्ल्ड चैंपियन पी वी सिंधु के बारे में 10 खास बातें

37 मिनट में एकतरफा ढंग से वर्ल्ड चैंपियन का खिताब अपने नाम कर लिया.

सलमान की अगली फिल्म के विलेन की पिक्चर, जिसके एक मिनट के सीन पर 20-20 लाख रुपए खर्चे गए हैं

'पहलवान' ट्रेलर: साउथ के इस सुपरस्टार को सुनील शेट्टी अपनी पहली ही फिल्म में पहलवानी सिखा रहे हैं.

संत रविदास के 10 दोहे, जिनके नाम पर दिल्ली में दंगे हो रहे हैं

जो उनके नाम पर गाड़ियां जला रहे हैं उन्होंने शायद रविदास को पढ़ा ही नहीं है.

'सेक्रेड गेम्स' वाले गुरुजी के ये 11 वचन, आपके जीवन की गोची सुलझा देंगे

ग़ज़ब का ज्ञान बांटा है गुरुजी ने.

'मैं मरूं तो मेरी नाक पर सौ का नोट रखकर देखना, शायद उठ जाऊं'

आज हरिशंकर परसाई का जन्मदिन है. पढ़ो उनके सबसे तीखे, कांटेदार कोट्स.

वो एक्टर, जिनकी फिल्मों की टिकट लेते 4-5 लोग तो भीड़ में दबकर मर जाते हैं

आज इन मेगास्टार का बड्‌डे है.