Submit your post

Follow Us

इन पांच जगहों पर ऑनसाइट म्यूज़ियम बनवाएगी मोदी सरकार

वित्त मंत्र निर्मला सीतारमण ने बजट 2020-21 पेश करते हुए पांच पुरातात्विक स्थलों को विकसित करने की घोषणा की है. ये जगह हैं राखीगढ़ी(हरियाणा), हस्तिनापुर(उत्तर प्रदेश), शिवसागर (असम), धोलावीरा (गुजरात) और आदिचनल्लूर(तमिलनाडु).

न्यूज़ एजेंसी ANI का ट्वीट देखिए.

इन पांचों जगहों पर ऑन-साइट म्यूजियम बनाए जाएंगे.आइए इनके बारे में जानते हैं-

#1. राखीगढ़ी, हरियाणा

राखीगढ़ी हरियाणा के हिसार जिले में सरस्वती नदी के क्षेत्र में स्थित एक ऐतिहासिक स्थान है. राखीगढ़ी करीब 6500 ईसा पूर्व की सिंधु घाटी सभ्यता का स्थल है. पुरातत्वविदों ने यहां खूब सारा रिसर्च किया है. यहां पर खुदाई से मिले कंकालों की कार्बन डेटिंग से पता चला है कि ये प्राचीन सिंधु घाटी सभ्यता से संबंधित हैं. इंडिया टुडे की एक रिपोर्ट बताती है कि राखीगढ़ी के लोग संभवतः कोई द्रविड़ भाषा बोलते थे.

Rakhigarhi
राखीगढ़ी में कई मानव कंकाल मिले हैं और उन पर रिसर्च जारी है. (फोटो: Vasant Shinde | DCPGRI)

#2. हस्तिनापुर, उत्तर प्रदेश

हस्तिनापुर उत्तर प्रदेश के मेरठ गंगा नदी के नजदीक बसा हुआ है. इसकी जड़ें महाभारत काल से जुड़ी हुई हैं. ये कौरवों की राजधानी मानी जाती है. महाकाव्य महाभारत में वर्णित घटनाएं हस्तिनापुर में घटी घटनाओं पर आधारित है. हस्तिनापुर को मुग़ल शासक बाबर ने नुकसान पहुंचाया था. पुरातत्व विभाग हस्तिनापुर की स्थिति और स्मृति को ईसा से एक हजार वर्ष पूर्व की मानता है.

#3. शिवसागर, असम

शिवसागर असम का एक जिला है.  राजधानी दिसपुर से करीब 350 की दूरी पर है. शिवसागर ब्रह्मपुत्र की सहायक नदी दिखू के किनारे स्थित है. शिवसागर करीब 100 साल तक अहोम साम्राज्य की राजधानी रही है. अहोम साम्राज्य ने करीब 600 सालों तक असम में शासन किया. शिवसागर को पहले रंगपुर के नाम से जाना जाता है. असम की संस्कृति और सभ्यता में अहोम का अहम स्थान है.

Shivsagar
शिवसागर में एक पुराना मंदिर (फोटो: विकिपीडिया)

#4. धोलावीरा, गुजरात

गुजरात के धोलावीरा को भारत में स्थित दो हड़प्पा शहरों में से दूसरा शहर माना जाता है. इस शहर को लेकर माना जाता है कि 1800 ईसा पूर्व से 3000 ईसा पूर्व के बीच बसा था. इस पुरातात्विक साइट का सबसे पहली बार पता साल 1967 में चला था. 1990 के बाद से इसकी पूरी जानकारी लेने के लिए व्यवस्थित रूप से खुदाई की जा रही है. यहां खुदाई से प्राचीन मेसोपोटामिया के साथ व्यापार लिंक के भी संकेत मिले हैं. इस सबको लेकर रिसर्च चलती रहती है. पुरातत्व और इतिहासकारों का मानना है कि यह बहुत विकसित सभ्यता थी. यह शहर कई बार बसा और उजड़ा है.

#5. आदिचनल्लूर, तमिलनाडु

आदिचनल्लूर तमिलनाडु राज्य के तूतुकुड़ी जिले में स्थित है. तूतुकुड़ी को पहले तूतिकोरिन के नाम से जाना जाता था. खुदाई में मिले कलाकृतियों की कार्बन डेटिंग के बाद इसे प्राचीन तमिल सभ्यता के एक हिस्से के रूप में माना गया है. वैज्ञानिकों का मानना है कि 905 ईसा पूर्व और 696 ईसा पूर्व के बीच की यहां जीवन संभव था. यहां से लिखित इतिहास से पहले के दौर की कई चीजें पुरातत्व विभाग को मिली हैं.

निर्मला सीतारमण ने बजट 2020 पेश करते हुए इन 5 पुरातात्विक स्थलों को विकसित करने की घोषणा की है.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू- जवानी जानेमन

जब 50 का आदमी फिल्म में 40 का दिखे. और उसी उम्र में पहले बाप और फिर नाना बने, बात तो इंट्रेस्टिंग है.

नसीरुद्दीन शाह और अनुपम खेर की रगों में क्या है?

एक लघु टिप्पणी दोनों के बीच विवाद पर. जिसमें नसीर ने अनुपम को क्लाउन यानी विदूषक कहा था.

पंगा: मूवी रिव्यू

मूवी देखकर कंगना रनौत को इस दौर की सबसे अच्छी एक्ट्रेस कहने का मन करता है.

फिल्म रिव्यू- स्ट्रीट डांसर 3डी

अगर 'स्ट्रीट डांसर' से डांस निकाल दिया जाए, तो फिल्म स्ट्रीट पर आ जाएगी.

कोड एम: वेब सीरीज़ रिव्यू

सच्ची घटनाओं से प्रेरित ये सीरीज़ इंडियन आर्मी के किस अंदरूनी राज़ को खोलती है?

जामताड़ा: वेब सीरीज़ रिव्यू

फोन करके आपके अकाउंट से पैसे उड़ाने वालों के ऊपर बनी ये सीरीज़ इस फ्रॉड के कितने डीप में घुसने का साहस करती है?

तान्हाजी: मूवी रिव्यू

क्या अपने ट्रेलर की तरह ही ग्रैंड है अजय देवगन और काजोल की ये मूवी?

फिल्म रिव्यू- छपाक

'छपाक' एक ऐसी फिल्म है, जिसके बारे में हम ये चाहेंगे कि इसकी प्रासंगिकता जल्द से जल्द खत्म हो जाए.

हॉस्टल डेज़: वेब सीरीज़ रिव्यू

हॉस्टल में रह चुके लोगों को अपने वो दिन खूब याद आएंगे.

घोस्ट स्टोरीज़ : मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

करण जौहर, अनुराग कश्यप, ज़ोया अख्तर और दिबाकर बनर्जी की जुगलबंदी ने तीसरी बार क्या गुल खिलाया है?