Submit your post

Follow Us

अरुंधति की किताब, जिसका हीरो एक हिजड़ा है

जहांआरा बेगम सरमद की दरगाह पर पहुंचती हैं और अपने बेटे आफताब को प्यार करने की दुआ मांगती हैं. बेटे को प्यार की दुआ. दरअसल आफताब हिजड़ा है. और जहांआरा इस सच से खौफजदा हैं. मगर वो उससे पार पाती हैं. आफताब का सफर शुरू होता है. वो बड़ा होता है, अपनी हकीकत जानता है और पहुंच जाता है खाबगाह. जहां और भी हिजड़े रहते हैं. और भी ऐसे लोग रहते हैं जो दुनिया की तयशुदा यौनिकता के दायरे में खुद को फिट नहीं मानते.

आफताब का यहां के रस्मो रिवाज से भी जी उकता जाता है. और आखिर में वो जिंदगी संवारने पहुंचता है एक कोने में बने बिना किसी नाम के कब्रिस्तान. यहां वो कब्रों को बीच अपना आशियाना बनाता है. और मौत के मातम के बीच जिंदगी के रेशे उगते देखता है. द मिनिस्ट्री ऑफ अटमोस्ट हैपीनेस नाम यहीं से उपजा.

 

16298988_1210594379030852_3887991849742695293_n

 

किताब में एक पैरलल प्लॉट भी है. चार दोस्तों का. जो नाटक साथ करते थे. फिर उनकी जिंदगियां नाटकीय हो गईं. एक लड़की, तिलोत्तमा. तीन लड़के. नागा, मूसा और बिप्लब. तिलो से तीनों प्यार करते हैं. तिलो तीनों पर भरोसा करती है. मगर प्यार. प्यार वो मूसा से करती है. फिर उसी प्यार के चलते वो नागा से शादी करती है. और आखिर में उसी प्यार के चलते बिप्लब के पास रहने आ जाती है. आखिर में उसे भी मिनिस्ट्री में हाजिरी देनी है.

इन दो सेंट्रल प्लॉट के बीच हैं कई साइड के मगर याद रह जाने वाले किरदार. कुछ की मियाद ज्यादा, मसलन सद्दाम, डॉ. आजाद भारतीय या मेजर अमरीक सिंह. कुछ की कम, मसलन, कमांडर गुलरेज.

किरदारों के बीच खूब पॉलिटिक्स है. इसकी उम्मीद भी होनी ही चाहिए. आखिर ये अरुंधति रॉय का नॉवेल है. इसमें इमरजेंसी है. सिख विरोधी दंगे हैं. गुजरात दंगे हैं. अन्ना हजारे का आंदोलन है. उना के दलितों पर हुआ अत्याचार है. वाकये हैं तो उनके केंद्र में रहे राजनीतिक किरदार भी. मगर सबका सीधा नाम नहीं लिया गया. नाम की डिक्शनरी कुछ यूं है

संजय गांधी- संजय गांधी (पहला उदाहरण, मगर अपवाद)
अटल बिहारी वाजपेयी- द लिस्पिंग पोएट पीएम (अटक कर बोलने वाला कवि प्रधानमंत्री)
मनमोहन सिंह- केज्ड रैबिट (पिंजरे में बंद खरगोश)
नरेंद्र मोदी – गुजरात का लल्ला
अरविंद केजरीवाल- मिस्टर अग्रवाल

खूबी और खामी

अरुंधति सुंदर गद्य लिखती हैं. तब तफसील से होती हैं तो आपके सामने पूरा मंजर खींच देती हैं. इतना कामयाब कि आप हवा लें तो वहां की खुशबू आए. टटोलें तो हाथ में रंग लग जाए. कई जगह डार्क ह्यूमर है. ट्रैजिक हालात को बयां करने का एक सटीक तरीका. कई जगह दर्शन है. कहीं लंबा आत्मालाप है. पैंफलेट की शक्ल में, किताब की शक्ल में. मसलन, कश्मीर में रहने के दौरान लिखी तिलोत्तमा की डायरी, जो असल में एक टेक्स्ट बुक है, जिसके आखिर में सवाल भी हैं. मगर ये सवाल ऐसे हैं, जिनके जवाब आसानी से नहीं मिल सकते. न किताब में और न ही उसके बाहर.

खामी ये है कि अपनी राजनीतिक सोच को कई बार उपन्यासकार अरुंधति प्लॉट पर हावी हो जाने देती हैं. तब लगता है कि एक खास प्रिडिक्टिबल ढंग से किरदारों को जबरन ठेला जा रहा है. कश्मीर के मसले पर वो वहां के मुस्लिमों के हालात बयां करती हैं. तफसील में. मगर पहलू और भी हैं. आतंकवाद क्यों पनपा. कश्मीर पंडितों के साथ क्या हुआ. वहां कश्मीरियों के नाम पर ठेकेदारी करने वाले हुर्रियत ने क्या किया. इन सब पर अरुंधति उतना गौर नहीं करतीं. उसी तरह नक्सल के भी वह एक ही पहलू को पेश करती हैं. ये उनका वैचारिक आग्रह है. आप जब नॉवेल पढ़ें तो जाहिर है कि इसका ख्याल रखें.

इसे पढ़ना चाहिए. चाहे आलोचना के लिए, चाहे सराहना के लिए. सिर्फ इसलिए नहीं कि अरुंधति के पहले, पिछले, अब तक इकलौते नॉवेल द गॉड ऑफ स्माल थिंग्स को बुकर मिला था. इसलिए क्योंकि अरुंधति की सोच में एक सम्मोहित कर देने वाला बेखौफपन है. वो सही हों या गलत, अपनी बात आंख में आंख डालकर कहने की हिम्मत रखती हैं. गालीबाजों के गिरोह से नहीं डरतीं. और किसी भी किस्म की सत्ता की खिल्ली उड़ाने का दम दिखाती हैं. उनके कई विचार आपको असंगत लगेंगे. प्रैक्टिल रुख से दूर लगेंगे. मगर विचार ही तो हैं, उनसे संवाद में क्या गुरेज है.


ये भी पढ़ें:

सीता के ये सत्य मुझे चौंकाते हुए खुश कर गए

क्या खुलासे किए हैं कन्हैया कुमार ने अपनी किताब ‘बिहार से तिहाड़ तक’ में

‘जब उसका पांचवां पति भी मानसिक रोगी निकलता है, तो वो उसे छोड़ देती है’

चेतन भगत क्या वाकई बुरे लेखक हैं?

चेतन भगत को औरतों के बारे में लिखने की तमीज नहीं है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

वो 7 इंडियन एक्टर्स/सेलेब्रिटीज़, जिन्होंने आत्महत्या कर ली थी

इस लिस्ट में लीजेंड्स से लेकर स्टार्स सब शामिल हैं.

सुशांत सिंह राजपूत के 50 ख्वाब, जो उन्होंने पर्चियों में लिख रखे थे

उनके ख्वाबों की लिस्ट में उनके व्यक्तित्व का सार छुपा हुआ है.

डेथ से पहले इन 5 प्रोजेक्ट्स पर काम कर रहे थे सुशांत सिंह राजपूत

इनमें से एक फिल्म अगले कुछ दिनों में रिलीज़ होने वाली है, जो सुशांत के करियर की आखिरी फिल्म होगी.

इंडियन आर्मी ऑफिसर्स पर बन रही 7 फिल्में, जिन्हें देखकर छाती चौड़ी हो जाएगी

इन फिल्मों में इंडिया के सबसे बड़े सुपरस्टार्स काम कर रहे हैं.

ये FICCI, ASSOCHAM, CII वगैरह सुनाई तो खूब देते है, पर होते क्या हैं?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 11 जून को इंडियन चैंबर ऑफ कॉमर्स (ICC) के सेशन को संबोधित किया.

बड़े बजट और सुपरस्टार्स वाली वो 5 फिल्में, जो किसी भी हाल में ऑनलाइन रिलीज़ नहीं होंगी

ये 2020 की सबसे बड़ी और बहुप्रतीक्षित फिल्में हैं.

इबारत : गिरफ़्तारी भागने का मौक़ा होने के बाद भी शहीद रामप्रसाद बिस्मिल भागे क्यों नहीं?

काकोरी केस में गिरफ़्तार किए गए थे बिस्मिल.

भारत के लिए खेले इन क्रिकेटर्स के पास कौन सी डिग्री है?

बड़ी डिग्री वाले हैं ये क्रिकेटर.

वो 8 बॉलीवुड फिल्में, जो थिएटर्स के बदले सीधे ऑनलाइन रिलीज़ होने जा रही हैं

इस लिस्ट में इंडिया के सबसे बड़े सुपरस्टार्स से लेकर दिग्गज फिल्ममेकर्स की फिल्में भी शामिल हैं.

कोरोना से जुड़ी आठ अफवाहें, जिनको लोगों ने बिना सोचे-समझे, धड़ल्ले से शेयर किया

वायरस से ज्यादा तेज़ी से तो ये अफवाहें फ़ैलीं.