Submit your post

Follow Us

'बॉम्बे बेगम्स' की ख़ास बातें, जिसमें अरसे बाद पूजा भट्ट तगड़ा रोल कर रही हैं

एक नई वेब सीरीज़ आ रही है. नाम है ‘बॉम्बे बेगम्स’. आज सुबह इसका ट्रेलर भी रिलीज़ किया गया.  तभी से ट्रेलर पर भर-भर के ‘कांट वेट फॉर इट’ टाइप्स कमेंट आ रहे हैं. हमने भी ट्रेलर देखा. बताएंगे उसकी खास बातें. कहानी क्या है, कास्ट कैसी है, और इसे बना कौन रहा है. सब पर एक-एक कर बात होगी.

Bombay Begums Title
ट्रेलर को अच्छा रिस्पॉन्स मिल रहा है.

# Bombay Begums की कहानी क्या है?

पांच औरतें. पांच अलग दुनिया. कुछ औरतें राज़ करने के लिए बनी हैं. ऐसी ही है रानी. एकदम क्वीन. मन ही मन चाहती हैं कि अपनी दुनिया की रानी बन सकें. इस ब्रैकेट में फिट होती हैं फातिमा और आएशा. कुछ औरतें सरवाइवर होती हैं. और शायद, बॉम्बे की असली क्वीन भी. ट्रेलर में ये लाइन लिली के लिए यूज़ हुई है. लिली जो एक बार डांसर है. जो कर रही है सिर्फ अपने बेटे के लिए. इन चार किरदारों के अलावा एक और किरदार है. शाय. रानी की सौतेली बेटी.

Bombay Begums
लिली को सिर्फ पैसा नहीं चाहिए, साथ में चाहिए पूरी इज़्ज़त.

एक दिन रानी की गाड़ी से लिली के बेटे का एक्सीडेंट हो जाता है. हालत थोड़ी क्रिटिकल है. रानी मामला सेटल करने की कोशिश करती है. लेकिन लिली को बदले में सिर्फ पैसा नहीं चाहिए. साथ में चाहिए इज़्ज़त. दूसरी ओर फातिमा की कहानी चल रही है. करियर में अपना मार्क छोड़ना चाहती है. लेकिन पर्सनल लाइफ की अपनी कुछ कमिटमेंट हैं. आएशा रानी की कंपनी में ही काम करती है. कॉर्पोरेट लैडर चढ़ना चाहती है. लेकिन इस ‘शॉट टू सक्सेस’ के पीछे क्या कुछ छुपा हुआ है, उन सब से अनजान है. कैसे ये पांच औरतें इस पेट्रिआर्कल सोसायटी से लड़ते हुए पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ में अपना मार्क छोड़ पाती हैं, यही सीरीज़ की कहानी है.

# Bombay Begums का ट्रेलर कैसा है?

औरतों को ही अपनी कहानी कहने दो. अक्सर ये सुना जाता है. क्यूंकि मर्द औरतों की कलम से लिखने लगते हैं तो कहानी का रस कहीं पीछे छूट जाता है. यहां ये बात सटीक बैठती है. औरतों की कहानी, औरतें ही बयां कर रही हैं. शो की एक और खास बात है. अपने स्पेक्ट्रम में सिर्फ एक किस्म के किरदारों को ही जगह नहीं दी. पूरा इंद्रधनुष लिया और समाज के हर तबके से आए किरदारों से भर दिया. स्टिरियोटाइप तोड़ने के इरादे से बनाई इस सीरीज़ ने एक स्टिरियोटाइप तो ट्रेलर में ही तोड़ दिया. कहानी की पांच में से चार औरतें ‘वेल-टू-डू’ हालत मे हैं. लेकिन फिर भी उनके अपने-अपने स्ट्रगल हैं. सिनेमा में एक तबके के किरदारों को एक जैसी समस्या देना बड़ा कॉमन है. जैसे अमीर हो तो फलां तकलीफ. एक समस्या जो एक ब्रैकेट के लोगों के लिए कॉमन है. इससे उस किरदार का अपना वजूद विलुप्त-सा हो जाता है. यहां ऐसा नहीं है. लिली के मुकाबले रानी, आएशा, शाय और फातिमा की आर्थिक हालत मज़बूत है. लेकिन फिर भी इनके सपने अलग हैं. इनकी जंग एक-दूसरे से अलग है.

2
इस एक स्क्रीनशॉट से समझ आ रहा है कि रानी की अपनी फैमिली के साथ कैसी अंडरस्टैंडिंग है. फोटो – यूट्यूब

एक और पहलू जिसकी तारीफ होनी चाहिए. ट्रेलर को देखकर ये नहीं लगा कि इन औरतों का मसीहा बन कोई मर्द प्रकट होगा. जो कि हमारे सिनेमा की बहुत पुरानी रीत है. औरतें कितना भी कर लें, लास्ट में हीरो आएगा और सारा क्रेडिट ले उड़ेगा. यहां देखकर लग रहा है कि सब अपनी जंग खुद ही लड़ रही हैं. चाहे जैसे बन पड़े. हीरो को कैमरे के दूसरी ओर बैठकर शो इन्जॉय करना होगा.

सीरीज़ में हर किरदार अपनी जंग खुद लड़ रहा है. फोटो - यूट्यूब
सीरीज़ में हर किरदार अपनी जंग खुद लड़ रहा है. फोटो – यूट्यूब

# कौन-कौन हैं Bombay Begums में?

# पूजा भट्ट: रानी का किरदार निभाया है. लंबे समय बाद स्क्रीन पर नज़र आएंगी. वो भी लीड रोल में. रानी के अपने स्ट्रगल हैं. लिली को हैंडल करना हैं. शाय से रिश्ते सुधारने हैं. प्रोफेशनल लाइफ का ध्यान रखना है. और ट्रेलर में रानी बनी पूजा भट्ट इस सब को तरीके से संभाल रही हैं.

Pooja Bhatt
लंबे समय बाद पूजा भट्ट लीड रोल में नज़र आएंगी. फोटो – यूट्यूब

# अमृता सुभाष: अमृता यहां लिली का रोल प्ले कर रही हैं. एकदम बेबाक और स्ट्रॉन्ग. लेकिन ये पहली बार नहीं है जब वो किसी स्ट्रॉन्ग महिला का किरदार निभा रही हैं. ‘सेक्रेड गेम्स सीज़न 2’ की कुसुम तो आपको याद होगी ही. जो गणेश गायतोंडे का जीना मुश्किल कर देती है. वो किरदार भी अमृता ने ही निभाया था. 2013 में आई अपनी मराठी फिल्म ‘अस्तु’ के लिए नैशनल अवॉर्ड भी जीत चुकी हैं.

Amruta Subhash
अमृता ने ‘गली बॉय’ में रणवीर सिंह की मां का रोल किया था. फोटो – यूट्यूब

# प्लबिता बोरठाकुर:  सीरीज़ में आएशा का रोल प्लबिता ने किया है. इससे पहले ‘ब्रीद: ‘इनटू दी शैडोज़’ और ‘लिपस्टिक अंडर माय बुर्का’ जैसे प्रोजेक्ट्स का भी हिस्सा रह चुकी हैं.

Ayesha 1
प्लबिता ने आएशा का रोल अदा किया है. फोटो – यूट्यूब

# शाहाना गोस्वामी: पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ के बीच फंसी फातिमा का रोल निभाया है शाहाना ने. ‘हीरोइन’, ‘रा वन’ और ‘रॉक ऑन’ जैसी फिल्में कर चुकी हैं. नेटफ्लिक्स पर पिछले साल रिलीज़ हुए शो ‘अ सूटेबल बॉय’ का भी पार्ट रह चुकी हैं.

इनके अलावा फिल्म में आध्या आनंद, विवेक गोंबर, राहुल बोस, मनीष चौधरी और दानिश हुसैन जैसे एक्टर्स भी दिखाई देंगे.

सीरीज़ में आपको 'सर' वाले विवेक गोंबर भी दिखाई देंगे. फोटो - यूट्यूब
सीरीज़ में आपको ‘सर’ वाले विवेक गोंबर भी दिखाई देंगे. फोटो – यूट्यूब

# Bombay Begums बनाई किसने है?

सीरीज़ की राइटर और डायरेक्टर हैं अलंकृता श्रीवास्तव. क्रिटिकली अकलेम्ड ‘लिप्स्टिक अंडर माय बुर्का’ और पिछले साल आई ‘डॉली किट्टी और वो चमकते सितारे’ जैसी फिल्मों की भी राइटिंग और डायरेक्शन कर चुकी हैं.

Fatima
औरतों के लिए बनी रेयर इंडियन सीरीज़ में अपना नाम दर्ज करवा देगी. फोटो – यूट्यूब

# आ कब रही है Bombay Begums?

तो जवाब है इंटरनेशनल विमेन्स डे वाले दिन. यानि कि 8 मार्च को. बताया जा रहा है कि शो को 6 एपिसोड्स में बांटा गया है, जिन्हें आप 8 मार्च से नेटफ्लिक्स पर स्ट्रीम कर पाएंगे.

अगर अब तक शो का ट्रेलर नहीं देखा है तो यहां देख डालिए –


विडियो: प्रभास और पूजा हेगड़े के ‘राधे श्याम’ का टीज़र, जिसने आते ही सोशल मीडिया पर गदर काट दिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू- डूब: नो बेड ऑफ रोजेज़

इरफान के गुज़रने के बाद उनकी पहली फिल्म रिलीज़ हुई है. और 'डूब' का अर्थ वही है, जो आप समझ रहे हैं.

मूवी रिव्यू: मास्साब

नेक कोशिश वाली जो मुट्ठीभर फ़िल्में बनती हैं, उनमें इस फिल्म का नाम लिख लीजिए.

आयरन मैन, स्पाइडर मैन छोड़िए, बचपन में टीवी पर आने वाले ये 5 देसी सुपरहीरो याद हैं आपको?

उस वक़्त का टीवी आज से ज़्यादा स्मार्ट था. आज के मुकाबले कंटेंट कम था लेकिन जितना था, लाजवाब था.

'ओ बेटा जी' वाले भगवान दादा की 34 बातें: जिन्हें देख अमिताभ, गोविंदा, ऋषि कपूर नाचना सीखे!

हिंदी सिनेमा के इन बड़े विरले एक्टर को याद कर रहे हैं.

FAU-G गेम रिव्यू : एक ही बटन पीटते-पीटते थक गया हूं ब्रो!

अच्छे मौक़े को गंवाना कोई इनसे सीखे.

मूवी रिव्यू: दी व्हाइट टाइगर

कई पीढ़ियों में एक बार पैदा होता है व्हाइट टाइगर, इसलिए खास है. पर क्या फिल्म के बारे में भी ये कहा जा सकता है?

फिल्म रिव्यू- मैडम चीफ मिनिस्टर

मैडम चीफ मिनिस्टर जिस ताबड़तोड़ तरीके से शुरू होती है, वो खत्म होते-होते वापस उतनी ही दिलचस्प और मज़ेदार हो जाती है. मगर दिक्कत का सबब है वो सब, जो शुरुआत और अंत के बीच घटता है.

वेब सीरीज़ रिव्यू- तांडव

'तांडव' बड़े प्रोडक्शन लेवल पर बनी एक छिछली पॉलिटिकल थ्रिलर है, जिसे लगता है कि वो बहुत डीप है.

मूवी रिव्यू: त्रिभंग

कैसा रहा काजोल का डिजिटल डेब्यू?

फिल्म रिव्यू - मास्टर

साल की पहली मेजर फिल्म कैसी है, जहां दो सुपरस्टार आमने-सामने हैं?