Submit your post

Follow Us

हर मर्द, हर औरत देखे कल्कि का ये वायरल वीडियो

इस वीडियो को देखिए. एक बार नहीं. बार बार. ईयरफोन लगाकर. स्पीकर तेजकर. अकेले. दोस्तों के साथ. तब तक. जब तक इसकी एक एक आवाज, एक एक शब्द, एक एक भाव रोएं रोएं से भीतर न पैठ जाए.

ये कल्कि कोएचलिन हैं. ये उनकी लिखी कविता है. या कि एक सच्चाई. एक खौफ. जिसके हम सब जो पढ़ रहे हैं, हिस्सेदार हैं. कविता का शीर्षक है द प्रिटिंग मशीन. जो आवाज करती है- चर टक टक टाका डाका टक च्री. और फिर क्या होता है. एक चमकदार अखबार निकलता है. आयरन किया हुआ. या फिर एक ग्लॉसी शीट वाली मैगजीन. और क्या होता है इस दुनिया में. जिससे हमारी दुनिया की सुबह शुरू होती है. खबरें. अपनी पॉलिटिक्स के साथ आतीं. कि मासिक धर्म है गर औरतों को तो धर्म के घर मंदिर में नहीं जा सकती हैं वे. कि एक और बच्ची का गैंगरेप हो गया.

ये आवाज जो याद दिलाती है. सिंड्रेला की स्टोरीज में खोई लड़कियों. अब घर जाओ. रात के 10 बज चुके हैं. राजकुमार नहीं राक्षस घूम रहे हैं. ये मशीन, जो गिनवाती है सर. बाजार भाव की तरह. और तय करती है. इतने सर में बदला और इतने में तो युद्ध ही होगा. इनमें कुछ खांचे भी होते हैं. औरतों की बोली लगाते. मगर बात बदलकर. कहीं टेलिफोन ऑपरेटर की जरूरत है तो कहीं सच्ची दोस्ती या मसाज के लिए लड़कियों की.

और जो इनसे ऊपर हैं. जो ये अखबार पढ़ रहे हैं. उनके लिए क्या हैं. सॉफ्ट बेबी पिंक पसंद करवाया जाता है जिन्हें, वो लड़कियां. फेयर एंड लवली की तलबगार लड़कियां. उनके लिए बड़े बड़े हर्फों में सेल के ऐड छपे हैं. उन्हें सजना है. खुद को बनाकर रखना है. इन सबके इर्द गिर्द है भंवर. ट्वीट. स्टेटस अपडेट, व्हाट्सएप चैट से बना. स्माइली और चुम्मी वाले गोलुओं से लटपट. और फिर प्यार होता है. शादी भी. पर ये जरूरी नहीं. कि दोनों एक ही मुकाम पर पहुंचें. और औरत के लिए ऑप्शन भी कितने हैं. वो लड़ नहीं सकती. ब्रा और पैंटी में. उसे बिकिनी पहना दो. लुभाने दो.

तभी बच पाएगी वो. वर्ना डार्विन की थ्योरी का क्या काम. जो फिटेस्ट के सरवाइवल की बात करती है. और आखिर में है खौफ के पार एक बात. जो आंख में भोथरे चाकू सी धंसती है. धीमे धीमे. कि इस महान मुल्क की महानता पर चौड़े रहने वालों. ये विरासत मासूमों की दया के लिए कदमों पर गिरेगी एक दिन.

वीडियो अपनी संपूर्णता में भी एक असर पैदा करता है. शब्द हैं. बीच में आवाजें हैं. बदलती तस्वीरें हैं. अखबार की कतरने हैं. अंधेरा है. चीख है. जो कहीं पीछे से गूंजती आती रहती है. ये वीडियो कल्कि के ब्लश प्रोजेक्ट का एक हिस्सा है. इसमें औरत होने का गर्व बताया जाता है. बिना किसी माफी और अगर मगर के.

द प्रिंटिंग मशीन

इससे पहले इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में भी कल्कि ने ऐसी ही एक झकझोरने वाली परफॉर्मेंस दी थी अपनी कविता के जरिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

सआदत हसन मंटो को समझना है तो ये छोटा सा क्रैश कोर्स कर लो

जानिए मंटो को कैसे जाना जाए.

महाराणा प्रताप के 7 किस्से: जब वफादार मुसलमान ने बचाई उनकी जान

9 मई, 1540 को पैदा होने वाले महाराणा प्रताप की मौत 29 जनवरी, 1597 को हुई.

दुनिया के 10 सबसे कमज़ोर पासवर्ड कौन से हैं?

रिस्की पासवर्ड का पता कैसे चलता है?

'इक कुड़ी जिदा नां मुहब्बत' वाले शिव बटालवी ने बताया कि हम सब 'स्लो सुसाइड' के प्रोसेस में हैं

इन्होंने अपनी प्रेमिका के लिए जो 'इश्तेहार' लिखा, वो आज दुनिया गाती है

शराब पर बस ये पढ़ लीजिए, बिना लाइन में लगे झूम उठेंगे!

लिखने वालों ने भी क्या ख़ूब लिखा है.

वो चार वॉर मूवीज़ जो बताती हैं कि फौजी जैसे होते हैं, वैसे क्यूं होते हैं

फौजियों पर बनी ज़्यादातर फिल्मों में नायक फौजी होते ही नहीं. उनमें नायक युद्ध होता है. फौजियों को देखना है तो ये फिल्में देखिए.

गहने बेच नरगिस ने चुकाया था राज कपूर का कर्ज

जानिए कैसे शुरू और खत्म हुआ नरगिस और राज कपूर का प्यार का रिश्ता..

सत्यजीत राय के 32 किस्से: इनकी फ़िल्में नहीं देखी मतलब चांद और सूरज नहीं देखे

ये 50 साल पहले ऑस्कर जीत लाते, पर हमने इनकी फिल्में ही नहीं भेजीं. अंत में ऑस्कर वाले घर आकर देकर गए.

ऋषि कपूर की इन 3 हीरोइन्स ने उनके बारे में क्या कहा?

इनमें से एक अदाकारा को ऋषि ने आग से बचाया था.

ईश्वर भी मजदूर है? लेखक लोग तो ऐसा ही कह रहे हैं!

पहली मई को दुनियाभर में मजदूरों के हक़ की बात कही जाती है.