Submit your post

Follow Us

'आपकी साइकिल लेकर जा रहा हूं, मुझे माफ कर देना' मजदूर की चिट्ठी सोशल मीडिया में वायरल

लॉकडाउन में काम न होने, पैसा राशन खत्म होने और रहने का ठिकाना नहीं होने के चलते मजदूर घर जा रहे हैं. सरकार की ओर से पुख्ता बंदोबस्त न होने के चलते मजदूर घर जाने को ‘आत्मनिर्भर’ बन रहे हैं. घर जाने के लिए जो भी सहारा मिल रहा है, उसका उपयोग कर रहे हैं. घर जाते मजदूरों के कई तरह की फोटो और वीडियो सामने आए हैं. इनमें पैदल, ट्रकों में लदकर, रिक्शा, बैलगाड़ी, हाथगाड़ी, साइकिल के सहारे सफर पर निकले मजदूर नज़र आते हैं.

एक खबर राजस्थान के भरतपुर से आई है. यहां पर उत्तर प्रदेश का एक मजदूर घर जाने के लिए कथित तौर पर साइकिल चुरा कर ले गया. कहा जा रहा है कि उसने साइकिल मालिक के लिए एक चिट्ठी भी छोड़ी. यह चिट्ठी सोशल मीडिया पर वायरल है.

क्या लिखा है चिट्ठी में

नमस्ते जी,

मैं आपकी साइकिल लेकर जा रहा हूं. हो सके तो मुझे माफ कर देना जी. क्योंकि मेरे पास में साधन नहीं. मेरा एक बच्चा है. उसके लिए मुझे ऐसा करना पड़ा. क्योंकि वो विकलांग है. चल नहीं सकता. हमें बरेली तक जाना है.

आपका कसूरवार
एक यात्री
मजदूर एवं मजबूर
मोहम्मद इकबाल खान
बरेली

सोशल मीडिया पर यह लेटर काफी वायरल हो रहा है.
सोशल मीडिया पर यह लेटर काफी वायरल हो रहा है.

और मामला क्या है

इंडिया टुडे के पत्रकार सुरेश फौजदार ने बताया कि चोरी की गई साइकिल के मालिक का नाम साहिब सिंह है. साइकिल चोरी की घटना सहनावली गांव में तीन दिन पहले यानी 13 मई की रात की है. यह गांव भरतपुर-आगरा हाइवे पर पड़ता है और बॉर्डर के पास है.

घरवालों ने क्या कहा

घरवालों ने बताया कि सुबह उठे तो घर के बाहर साइकिल नहीं मिली. आसपास  तलाश की पर पता नहीं चला. ऐसे में साइकिल चोरी होने की आशंका हुई. इसी दौरान झाडू लगाते समय एक कागज मिला. इस पर कुछ लिखा था. पढ़ा तो पता चला कि किसी मजदूर घर जाने के लिए साइकिल ले गया.

गांव वाले पर ही चोरी का शक

साइकिल मालिक साहिब सिंह के बड़े भाई प्रभु दयाल ने बताया कि रात को चार बजे के करीब साइकिल चोरी हुई. घर के लोग अंदर थे और साइकिल बाहर खड़ी थी. चोरी की यह हरकत किसी गांव वाले की है. कोई बाहर का आदमी इसमें शामिल नहीं है. कोई आसपास का व्यक्ति ही साइकिल लेकर गया है.

उन्होंने कहा कि साइकिल चोरी की शिकायत पुलिस में दर्ज कराने के लिए भी सोचा. लेकिन चिट्ठी पढ़ने के बाद शिकायत नहीं कराई. साथ ही साइकिल भी काफी पुरानी थी.

भारत में कोरोना वायरस के मामलों का स्टेटस


Video: दिल्ली के निजामुद्दीन ब्रिज पर बैठे मजदूर की कहानी आपको रुला देगी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

वो देश, जहां मिलिट्री सर्विस अनिवार्य है

क्या भारत में ऐसा होने जा रहा है?

'हासिल' के ये 10 डायलॉग आपको इरफ़ान का वो ज़माना याद दिला देंगे

17 साल पहले रिलीज़ हुई इस फ़िल्म ने ज़लज़ला ला दिया था

4 फील गुड फ़िल्में जो ऑनलाइन देखने के बाद दूसरों को भी दिखाते फिरेंगे

'मेरी मूवी लिस्ट' में आज की रेकमेंडेशंस हमारी साथी स्वाति ने दी हैं.

आर. के. नारायण, जिनका लिखा 'मालगुडी डेज़' हम सबका नॉस्टैल्जिया बन गया

स्वामी और उसके दोस्तों को देखते ही बचपन याद आता है

वो 22 एक्टर्स जिनको यशराज फिल्म्स ने बॉलीवुड में लॉन्च किया

यश और आदि चोपड़ा के इस प्रोडक्शन हाउस ने इस साल 50 बरस पूरे कर लिए हैं.

इन 8 बॉलीवुड सेलेब्स के मदर्स डे वाले वीडियोज़ और फोटो आप मिस नहीं करना चाहेंगे

बच्चन ने मां को गाकर याद किया है, वहीं अनन्या पांडे ने बचपन के दो बेहद क्यूट वीडियोज़ पोस्ट किए हैं.

मंटो, जिन्हें लिखने के फ़ितूर ने पहले अदालत फिर पागलखाने पहुंचाया, उनकी ये 15 बातें याद रहेंगी

धर्म से लेकर इंसानियत तक, सबपर सब कुछ कहा है मंटो ने.

सआदत हसन मंटो को समझना है तो ये छोटा सा क्रैश कोर्स कर लो

जानिए मंटो को कैसे जाना जाए.

महाराणा प्रताप के 7 किस्से: जब वफादार मुसलमान ने बचाई उनकी जान

9 मई, 1540 को पैदा होने वाले महाराणा प्रताप की मौत 29 जनवरी, 1597 को हुई.

दुनिया के 10 सबसे कमज़ोर पासवर्ड कौन से हैं?

रिस्की पासवर्ड का पता कैसे चलता है?