Submit your post

Follow Us

दोस्ती और गरीबी पर सबसे अच्छी बातें विनोद खन्ना ने कही थीं

96.92 K
शेयर्स

विनोद खन्ना. आज ही के दिन 1946 में पेशावर में पैदा हुए थे. गुरुदासपुर से सांसद थे. वहां से चार बार सांसद चुने गए थे. चार बच्चों के पिता थे. ऊपरवाले का दिया सब कुछ था. दौलत, शोहरत, नाम… बस बीमारी ठीक नहीं हुई. चले गए. मुंबई के रिलायंस फाउंडेशन अस्पताल में आखिरी सांस ली.

उनके जन्मदिन पर हम आपको पर्दे पर उनके ही बोले कुछ डायलॉग्स पढ़ा रहे हैं.

#1 बंटवारा 

Vinod khanna 12

#2 जनम कुंडली Vinod khanna 11#3 कोयलांचल 

Vinod khanna 10#4 सत्यमेव जयते  Vinod khanna 9#5 हलचल  Vinod khanna 8#6 क्षत्रिय 

Vinod khanna 7#7 सूर्या  Vinod khanna 6#8 मुकद्दर का सिकंदर 

Vinod khanna 5

#9 रिस्कVinod khanna 4

##10 प्लेयर्स Vinod khanna 3#11 चांदनी  Vinod khanna 2#12 मुकद्दर का सिकंदर  Vinod khanna 1



लल्लनटॉप शो आ रहा है लखनऊ, पूरी टीम, सरपंच और ख़ासम-ख़ास लोगों के साथ

ये भी पढ़ें

विनोद खन्ना के 8 किस्सेः उनके और अमिताभ बच्चन के बीच असुरक्षा का सच

3 वजहें जिनसे विनोद खन्ना की ये फिल्म किसी भी दौर की फिल्म पर भारी पड़ेगी

लीजेंड्री एक्टर विनोद खन्ना नहीं रहे, मुंबई में निधन

 

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

जोकर: मूवी रिव्यू

मूवी इतनी डार्क है कि थियेटर का अंधेरा आपको पर्दे से बेहतर लगता है.

सैरा नरसिम्हा रेड्डी: मूवी रिव्यू

जानिए ऋतिक-टाइगर की 'वॉर' के साथ रिलीज़ हुई चिरंजीवी-अमिताभ की ये ढाई सौ करोड़ की फिल्म कैसी है?

वॉर मूवी के हमारे रिव्यू से नाराज़ दर्शकों के लिए एक छोटा सा जवाब

कोई भी रिव्यू देखने, पढ़ने से पहले ये छोटी सी बातें जान लें.

वॉर: मूवी रिव्यू

जानिए क्यूं ऐसा लगता है कि 'वॉर टू' ज़रूर आएगी.

'बोले चूड़ियां' का टीज़र वीडियोः जिसमें नवाजुद्दीन की जिंदगी की असली कहानी बताई गई है

टीज़र देखने पर फिल्म एक रोमेंटिक लव स्टोरी लग रही है.

गार्डन में होती हैं क्यारियां, मरजावां का ट्रेलर देख निकली 20 भयानक शायरियां

ये एक महान फिल्म का ट्रेलर है, जिसमें बाहुबली से लेकर गुंडा फिल्म की छाप मिलती है.

फिल्म रिव्यू: पल पल दिल के पास

सनी देओल ने तो जैसे-तैसे अपना काम कर दिया है लेकिन करण को काफी मेहनत करनी पड़ेगी.

फिल्म रिव्यू: प्रस्थानम

कैसी है संजय दत्त-मनीषा कोइराला स्टारर पॉलिटिकल ड्रामा?

फिल्म रिव्यू: दी ज़ोया फैक्टर

'किस्मत बड़ी या मेहनत' वाले सवाल का कन्फ्यूज़ कर देने वाला जवाब.

फिल्म रिव्यू: सेक्शन 375

ये फिल्म एक केस की मदद से ये आज के समय की सबसे प्रासंगिक और कम कही गई बात कहती है.