Submit your post

Follow Us

वो 7 बॉलीवुड सुपरस्टार्स, जिनकी आखिरी फिल्में उनकी मौत के बाद रिलीज़ हुईं

6 जुलाई को एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज़ किया गया. 14 जून, 2020 को अपने घर में मृत पाए गए सुशांत की ये आखिरी फिल्म होगी. अजीब बात ये कि सुशांत की आखिरी फिल्म कास्टिंग डायरेक्टर मुकेश छाबड़ा (बतौर डायरेक्टर) और एक्ट्रेस संजना सांघी के करियर की पहली फिल्म होगी. हालांकि ये पहली बार नहीं है, जब किसी एक्टर के गुज़रने के बाद उनकी फिल्म रिलीज़ होने जा रही हैं. इससे पहले ये चीज़ हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के कई दिग्गजों के साथ हो चुकी है. आज हम सुशांत के अलावा आपको ऐसे ही 7 बॉलीवुड स्टार्स के बारे में बता रहे हैं, जिनकी फिल्में उनकी मौत के बाद रिलीज़ की गईं. लेकिन उस सबसे पहले सुशांत सिंह राजपूत की फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर देखिए:

1) मधुबाला

मौत की तारीख23 फरवरी, 1969

आखिरी फिल्मज्वाला.

रिलीज़ ईयर– 1971. ये मधुबाला के करियर की इकलौती फिल्म थी, जो पूरी तरह से कलर में शूट की गई थी. उनकी ब्लॉकबस्टर फिल्म ‘मुगल-ए-आज़म’ के कुछ हिस्सों को टेक्निकलर में री-शूट करके रिलीज़ किया गया था.

फिल्म 'ज्वाला' के पोस्टर पर मधुबाला. फिल्म में मधुबाला के साथ सुनील दत्त ने लीड रोल किया था.
फिल्म ‘ज्वाला’ के पोस्टर पर मधुबाला. फिल्म में मधुबाला के साथ सुनील दत्त ने लीड रोल किया था.

2) मीना कुमारी

मौत की तारीख31 मार्च, 1972

आखिरी फिल्मगोमती के किनारे.

रिलीज़ डेट– 22 नवंबर, 1972. ‘पाकीज़ा’ की रिलीज़ के दो महीने बाद मीना कुमारी की डेथ हो गई. कहा जाता है, इस चीज़ ने ‘पाकीज़ा’ को ब्लॉकबस्टर बना दिया. लेकिन ‘गोमती के किनारे’ इतिहास नहीं दोहरा पाई और डूब गई.

मीना कुमारी की आखिरी फिल्म 'गोमती के किनारे' का डीवीडी कवर. फिल्म में मीना कुमारी के अलावा मुमताज और भारत भूषण ने भी काम किया था.
मीना कुमारी की आखिरी फिल्म ‘गोमती के किनारे’ का डीवीडी कवर. फिल्म में मीना कुमारी के अलावा मुमताज और भारत भूषण ने भी काम किया था.

3) संजीव कुमार

मौत की तारीख– 6 नवंबर, 1985

आखिरी फिल्म– संजीव कुमार की मौत के बाद ‘क़त्ल’, ‘बात बन जाए’, ‘लव एंड गॉड’, ‘दो वक्त की रोटी’ और ‘नामुमकिन’ समेत कुल 10 फिल्में रिलीज़ हुईं.  ‘प्रोफेसर की पड़ोसन’ उनकी आखिरी फिल्म साबित हुई, जो उनकी मौत के 8 साल बाद रिलीज़ हुई.

रिलीज़ डेट– 22 दिसंबर, 1993 (प्रोफेसर की पड़ोसन). जब संजीव गुज़रे तब इस फिल्म की 25 फीसदी शूटिंग बाकी थी. उन्हें रिप्लेस करने की बजाय कहानी में बदलाव कर फिल्म से गायब कर दिया गया. यानी उनकी आवाज़ सुनाई दे रही थी लेकिन वो दिख नहीं रहे थे. उनकी डबिंग सिंगर सुदेश भोसले ने की थी.

'प्रोफेसर की पड़ोसन' के पोस्टर पर संजीव कुमार, पद्मिनी कोल्हापुरे और आशा पारेख. अमिताभ बच्चन ने फिल्म में सूत्रधार यानी नैरेटर की भूमिका निभाई थी.
‘प्रोफेसर की पड़ोसन’ के पोस्टर पर संजीव कुमार, पद्मिनी कोल्हापुरे और आशा पारेख. अमिताभ बच्चन ने फिल्म में सूत्रधार यानी नैरेटर की भूमिका निभाई थी.

4) दिव्या भारती

मौत की तारीख5 अप्रैल, 1993

आखिरी फिल्म– दिव्या की मौत के बाद उनकी तीन फिल्में रिलीज़ हुईं. इनमें से एक तेलुगू फिल्म ‘थोली मुद्धू’ थी, जिसकी शूटिंग के दौरान ही एक्सीडेंट में दिव्या की डेथ हो गई. उनकी डेथ के बाद दो हिंदी फिल्में ‘रंग’ और ‘शतरंज’ रिलीज़ हुईं.

रिलीज़ डेट– 17 दिसंबर, 1993 को रिलीज़ होने वाली शतरंज‘ दिव्या के करियर की आखिरी फिल्म रही. ये फिल्म उनकी मौत के 8 महीने बाद रिलीज़ हुई. अपने हिस्से की शूटिंग तो दिव्या कर चुकी थीं लेकिन उनकी आवाज़ के लिए डबिंग आर्टिस्ट का इस्तेमाल करना पड़ा.

फिल्म 'शतरंज' के पोस्टर पर दिव्या भारती, जैकी श्रॉफ, मिथुन चक्रवर्ती और जूही चावला.
फिल्म ‘शतरंज’ के पोस्टर पर दिव्या भारती, जैकी श्रॉफ, मिथुन चक्रवर्ती और जूही चावला.

5) शम्मी कपूर

मौत की तारीख14 अगस्त, 2011

आखिरी फिल्मरॉकस्टार.

रिलीज़ डेट– 11 नवंबर, 2011. इस फिल्म में शम्मी पहली बार अपने पोते रणबीर कपूर के साथ नज़र आए. फिल्म में उनका किरदार एक दिग्गज म्यूज़िशियन का था. ‘रॉकस्टार’ उनकी मौत के 3 महीने बाद रिलीज़ हुई और रणबीर के करियर की सबसे बड़ी फिल्म बनी.

इम्तियाज अली डायरेक्टेड फिल्म 'रॉकस्टार' के एक सीन में शम्मी कपूर और रणबीर कपूर. फिल्म में शम्मी ने 'उस्ताद जमील खान' नाम के लीजेंड्री शहनाई वादक का रोल किया था.
इम्तियाज अली डायरेक्टेड फिल्म ‘रॉकस्टार’ के एक सीन में शम्मी कपूर और रणबीर कपूर. फिल्म में शम्मी ने ‘उस्ताद जमील खान’ नाम के लीजेंड्री शहनाई वादक का रोल किया था.

6) राजेश खन्ना

मौत की तारीख 18 जुलाई, 2012

आखिरी फिल्म– जब राजेश खन्ना की डेथ हुई, तब उनकी दो फिल्मों पर काम चल रहा था. ‘जानलेवा ब्लैक ब्लड’, जो कभी रिलीज़ नहीं हो पाई और ‘रियासत’. ‘रियासत’ राजेश खन्ना के करियर की आखिरी फिल्म थी, जो उनकी मौत के बाद रिलीज़ हुई.

रिलीज़ डेट– 18 जुलाई, 2014 को रिलीज़ होने वाली ‘रियासत‘ बी-ग्रेड टाइप की फिल्म थी, जिसकी शूटिंग रिपोर्ट्स के मुताबिक राजेश खन्ना की डेथ के बाद पूरी की गई. फिल्म के कई सीन्स में राजेश खन्ना के बॉडी डबल का इस्तेमाल भी किया गया क्योंकि फिल्म की शूटिंग के दौरान उनकी तबीयत ठीक नहीं थी.

फिल्म 'रियासत' के एक सीन में राजेश खन्ना. ये फिल्म क्लासिक हॉलीवुड फिल्म ट्रिलजी 'गॉडफादर' की गंदा रिप-ऑफ बताई गई.
फिल्म ‘रियासत’ के एक सीन में राजेश खन्ना. ये फिल्म क्लासिक हॉलीवुड फिल्म ट्रिलजी ‘गॉडफादर’ की गंदी रिप-ऑफ बताई गई.

7) फारुख शेख

मौत की तारीख 28 दिसंबर, 2013

आखिरी फिल्म– ‘यंगिस्तान’ और ‘चिल्ड्रेन ऑफ वॉर’ फारुख शेख के करियर की आखिरी फिल्में रहीं. वाइड रिलीज़ की वजह से ‘यंगिस्तान’ को उनकी आखिरी फिल्म माना जाता है.

रिलीज़ डेट– 16 मई, 2014 को रिलीज़ हुई ‘चिल्ड्रेन ऑफ वॉर‘ फारुख की लास्ट ऑन-स्क्रीन प्रेज़ेंस थी. ये फिल्म दुबई में हार्ट अटैक से उनकी मौत के पांच महीने बाद रिलीज़ हुई थी.

फिल्म 'चिल्ड्रेन ऑफ वॉर' की मेकिंग वीडियो में फारूक शेख.
फिल्म ‘चिल्ड्रेन ऑफ वॉर’ की मेकिंग वीडियो में फारूक शेख.

वीडियो देखें: सुशांत सिंह राजपूत के अलावा इन सात सेलेब्रिटी ने भी आत्महत्या की थी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फ़िल्म रिव्यूः भोंसले

मनोज बाजपेयी की ये अवॉर्ड विनिंग फिल्म कैसी है? और कहां देख सकते हैं?

जॉर्ज ऑरवेल का लिखा क्लासिक 'एनिमल फार्म', जिसने कुछ साल पहले शिल्पा शेट्‌टी की दुर्गति कर दी थी

यहां देखें इस पर बनी दो मजेदार फिल्में. हिंदी वालों के लिए ये कहानी हिंदी में.

फिल्म रिव्यू: बुलबुल

'परी' जैसी हटके हॉरर फिल्म देने वाली अनुष्का शर्मा का नया प्रॉडक्ट कैसा निकला?

फ़िल्म रिव्यूः गुलाबो सिताबो

विकी डोनर, अक्टूबर और पीकू की राइटर-डायरेक्टर टीम ये कॉमेडी फ़िल्म लेकर आई है.

फिल्म रिव्यू: चिंटू का बर्थडे

जैसे हम कई बार बातचीत में कह देते हैं कि 'ये दुनिया प्यार से ही जीती जा सकती है', उस बात को 'चिंटू का बर्थडे' काफी सीरियसली ले लेती है.

फ़िल्म रिव्यूः चोक्ड - पैसा बोलता है

आज, 5 जून को रिलीज़ हुई ये हिंदी फ़िल्म अनुराग कश्यप ने डायरेक्ट की है.

फिल्म रिव्यू- ईब आले ऊ

साधारण लोगों की असाधारण कहानी, जो बिलकुल किसी फिल्म जैसी नहीं लगती.

इललीगल- जस्टिस आउट ऑफ़ ऑर्डर: वेब सीरीज़ रिव्यू

कहानी का छोटे से छोटा किरदार भी इतनी ख़ूबसूरती से गढ़ा गया है कि बेवजह नहीं लगता.

बेताल: नेटफ्लिक्स वेब सीरीज़ रिव्यू

ये सीरीज़ अपने बारे में सबसे बड़ा स्पॉयलर देने से पहले स्पॉयलर अलर्ट भी नहीं लिखती.

पाताल लोक: वेब सीरीज़ रिव्यू

'वैसे तो ये शास्त्रों में लिखा हुआ है लेकिन मैंने वॉट्सऐप पे पढ़ा था.‘