Submit your post

Follow Us

आर्यन खान से पहले ये 6 स्टार किड्स अरेस्ट हो चुके हैं

पिछले दिनों शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को ड्रग्स रिलेटेड केस में गिरफ्तार किया गया है. हालांकि आर्यन के वकील सतीष मानशिंदे ने कोर्ट में दावा किया कि आर्यन के पास से किसी तरह का कोई ड्रग्स बरामद नहीं हुआ. मगर नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो का कहना है कि आर्यन के फोन से कुछ शॉकिंग मटीरियल मिला है, जो उन्हें इंटरनेशनल ड्रग बिज़नेस से जोड़ सकता है. उन चैट्स की जांच के लिए उन्हें आर्यन की कस्टडी चाहिए होगी. इन्हीं दलीलों के आधार पर कोर्ट ने आर्यन को 7 अक्टूबर तक के लिए NCB की कस्टडी में भेज दिया है.

हालांकि ये पहली बार नहीं है, जब कोई स्टार किड अरेस्ट हुआ है. आर्यन खान से पहले ऐसा 6 स्टार किड्स के साथ हो चुका है. हम आपको उन स्टार किड्स और उन मामलों के बारे में बताते हैं, जिनके लिए पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया.

1) सूरज पंचोली

अरेस्ट होने वाले स्टारकिड्स के ज़िक्र पर दिमाग में आने वाला पहला नाम होता है सूरज पंचोली का. 2013 में ‘निशब्द’ फेम एक्ट्रेस जिया खान की डेड बॉडी मिली. उन्होंने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी. जिया की मां ने आरोप लगाया कि उनकी बेटी की आत्महत्या के पीछे सूरज पंचोली का हाथ है. कुछ समय बाद जिया का लिखा एक सुसाइड लेटर बरामद हुआ. आरोप लगा कि सूरज ने जिया को चीट किया. उन्हें फिज़िकली अब्यूज़ किया. और जबरदस्ती अबॉर्शन करवाने के लिए मजबूर किया.

10 जून, 2013 को आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में सूरज पंचोली को अरेस्ट कर लिया गया. इस मामले में बॉम्बे हाई कोर्ट ने सूरज को राहत देते हुए कहा कि जिया की आत्महत्या के लिए पूरी तरह सूरज को ज़िम्मेदार नहीं माना जा सकता. तमाम घुमावदार मोड़ों से गुज़रने के बाद ये मामला अब भी कोर्ट में है.

 जिया खान आत्महत्या मामले में सूरज को गिरफ्तार करके ले जाती पुलिस.
जिया खान आत्महत्या मामले में सूरज को गिरफ्तार करके ले जाती पुलिस.

2) सैफ अली खान

फरवरी 2012 में सैफ अली खान अपने कुछ करीबी लोगों के साथ कोलाबा के ताज होटल के वसाबी रेस्टॉरेंट में डिनर कर रहे थे. इस दौरान सैफ के साथ करीना कपूर, करिश्मा कपूर, अमृता अरोड़ा, अमृता के पति शकील समेत एकाध और लोग मौजूद थे. इक़बाल शर्मा नाम के शख्स ने पुलिस को बताया कि सैफ के टेबल से बहुत शोर हो रहा था. इसलिए उन्होंने उनके टेबल पर एक नोट भिजवाया कि अगर वो थोड़ी कम आवाज़ में बात करेंगे, तो बाकी लोग भी एंजॉय कर पाएंगे. इसके बाद शर्मा अपनी फैमिली के साथ वहां से जा रहे थे, तो उन्हें रास्ते में सैफ मिले. इक़बाल शर्मा का आरोप है कि सैफ ने उन पर हाथ उठा दिया.

जबकि सैफ का कहना है कि इक़बाल शर्मा के ससुर ने पहले उनके ऊपर हाथ उठाया और उनके साथ मौजूद महिलाओं से बदतमीज़ी से बात की. सैफ ने कहा कि उन्हें इतनी जोर से मारा गया कि उनकी आंख सूज गई. हालांकि सैफ अपने इस बयान को मेडिकली साबित नहीं कर पाए. उसी शाम इक़बाल शर्मा की कंप्लेंट पर सैफ अली खान को गिरफ्तार कर लिया गया. डेढ़ घंटे बाद सैफ को कोलाबा पुलिस स्टेशन से बेल पर रिहा कर दिया गया.

एमेज़ॉन प्राइम वीडियो की वेब सीरीज़ 'तांडव' के एक सीन में सैफ अली खान.
एमेज़ॉन प्राइम वीडियो की वेब सीरीज़ ‘तांडव’ के एक सीन में सैफ अली खान.

3) सलमान खान

सितंबर 2002 में सलमान खान की लैंड क्रूज़र बांद्रा के साइडवॉक पर चढ़ गई थी. उनकी गाड़ी की चपेट में आकर सड़क किनारे सो रहे एक मजदूर की मौत हो गई और चार लोग घायल हो गए. आरोप था कि सलमान खान शराब के नशे में गाड़ी चला रहे थे. सलमान ने अगले दिन सुबह खुद सरेंडर कर दिया. मगर पुलिस स्टेशन से उन्हें जमानत मिल गई. 7 अक्टूबर को उन्हें दोबारा गिरफ्तार किया गया और 24 अक्टूबर को बेल पर रिहा कर दिया गया. सलमान ने कोर्ट की सुनवाई के दौरान कहा कि गाड़ी वो नहीं, उनका ड्राइवर चला रहा था. सलमान का ये बयान मज़ाक और मीम्स का विषय बन गया.

इसके बाद मई 2015 में उन्हें लोअर कोर्ट ने पांच साल जेल की सज़ा सुना दी. मगर बॉम्बे हाई कोर्ट ने उन्हें सभी आरोपों से बरी कर दिया. कोर्ट का कहना था कि सलमान के बॉडीगार्ड के तौर पर एक्सीडेंट की रात उनके साथ मौजूद पुलिस कॉन्स्टेबल रविंद्र पाटिल का बयान भरोसे के लायक नहीं है. क्योंकि रविंद्र ये साफ तौर पर नहीं बता पाए कि सलमान की गाड़ी का टायर एक्सीडेंट से पहले फटा था या एक्सीडेंट के बाद. साथ ही ये बात भी साबित नहीं हो पाई कि सलमान खान उस रात शराब के नशे में थे या नहीं.

हिट एंड रन केस में अरेस्ट होने के बाद पुलिस के साथ जाते सलमान खान.
हिट एंड रन केस में अरेस्ट होने के बाद पुलिस के साथ जाते सलमान खान.

4) संजय दत्त

19 अप्रैल, 1993 को संजय दत्त को एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया गया. संजय के ऊपर इललीगल तरीके से AK-56 रखने का आरोप था. साथ ही ये भी कहा गया कि उन्हें मुंबई में होने वाले ब्लास्ट की जानकारी पहले से थी. इसलिए उनके ऊपर TADA और आर्म्स एक्ट जैसे गंभीर चार्जेज़ लगाए गए. मई में उन्हें जमानत मिल गई. मगर जुलाई 1993 में उनकी बेल कैंसिल कर उन्हें दोबारा अरेस्ट कर लिया गया. नवंबर 1993 में सीरियल ब्लास्ट से जुड़ी 10 हज़ार पन्नों की चार्जशीट फाइल की गई. इसमें संजय दत्त समेत कुल 189 आरोपियों के नाम दर्ज थे. एक साल से ज़्यादा समय जेल में गुज़ारने के बाद अक्टूबर 1995 में संजय को सुप्रीम कोर्ट से बेल मिल गई.

2006 में उन्हें आर्म्स एक्ट में दोषी माना गया मगर उन्हें TADA मामले में अपराधमुक्त घोषित कर दिया गया. 21 मार्च, 2013 को सुप्रीम कोर्ट ने संजय दत्त को पांच साल जेल की सज़ा सुनाई और चार हफ्ते के भीतर सरेंडर करने को कहा. मई 2013 में संजय दत्त पुणे के यरवड़ा जेल भेजे गए. 25 फरवरी, 2016 को संजय अपनी सज़ा पूरी कर जेल से रिहा हो गए.

अपनी सज़ा पूरी कर फाइनली जेल से बाहर आने के बाद जनता का अभिवादन स्वीकार करते संजय दत्त.
अपनी सज़ा पूरी कर फाइनली जेल से बाहर आने के बाद जनता का अभिवादन करते संजय दत्त.

5) पुरु राज कुमार

‘जानी’ वाले राज कुमार के बेटे पुरु राज कुमार की कहानी भी काफी हद तक सलमान खान से मिलती-जुलती है. मगर जहां सलमान को 13 साल तक हिट एंड रन केस में कोर्ट और जेल के चक्कर लगाने पड़े, वहीं पुरु एक भी दिन जेल में गुज़ारे बिना फ्री हो गए. आरोप था कि दिसंबर 1993 में पुरु राज कुमार ने बांद्रा में पेवमेंट पर सो रहे लोगों पर गाड़ी चढ़ा दी. आरोप था कि पुरु शराब के नशे में गाड़ी चला रहे थे. साथ ही वो एक्सीडेंट के बाद अपनी गाड़ी घटनास्थल पर छोड़कर फरार हो गए. इस एक्सीडेंट में तीन लोगों की मौत हुई और दो शख्स बुरी तरह घायल हो गए. पुरु राज कुमार ने इस मामले को आउट ऑफ कोर्ट निपटा लिया. उन्होंने मृत और घायल लोगों की फैमिली को मुआवज़ा दिया और बात आई-गई हो गई.

पिता राज कुमार के साथ पुरु राज कुमार.
पिता राज कुमार के साथ पुरु राज कुमार.

6) नंदमुरी बालकृष्ण

तेलुगु फिल्मों के सुपरस्टार और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके NTR के बेटे नंदमुरी बालकृष्ण भी एक बार जेल जा चुके हैं. सैकड़ों तेलुगु फिल्मों में काम कर चुके बालकृष्ण पर एक प्रोड्यूसर और ज्योतिषि के ऊपर गोली चलाने का आरोप लगा था. बताया जाता है कि बालकृष्ण ने प्रोड्यूसर बी. सुरेश और एस्ट्रोलॉजर सत्यनारायण चौधरी के ऊपर अपने हैदराबाद वाले घर में गोली चला दी थी. बालकृष्ण को आईपीसी की धारा 307 यानी अटेम्प्ट टु मर्डर और इंडियन आर्म्स एक्ट के सेक्शन 25 और 27 के तहत चार्ज किया गया था. इस मामले में बालकृष्ण को गिरफ्तार कर मेट्रोपॉलिटन मैजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया.

हालांकि कोर्ट में सुरेश और सत्यनारायण ने कहा कि बालकृष्ण ने उन लोगों के ऊपर नहीं, बल्कि एक अपरिचित व्यक्ति के ऊपर गोली चलाई थी. इस मामले के तमाम गवाह कोर्ट में अपने बयान से पलट गए. इस मामले में बालकृष्ण की पत्नी वसुंधरा को भी कोर्ट ने कारण बताओ नोटिस जारी किया था. क्योंकि जो हथियार बालकृष्ण ने चलाया था, वो वसुंधरा के नाम पर रजिस्टर्ड था. बाद में बालकृष्ण को इस मामले में जमानत मिल गई. हालांकि इस कॉन्ट्रोवर्सी को बड़ी शक की निगाह से देखा जाता है. क्योंकि इस मामले में जो कुछ भी हुआ, वो बड़ा वीयर्ड माना गया.

एक इवेंट के दौरान फिल्म एक्टर और पॉलिटिशियन नंदमुरी बालकृष्ण.
एक इवेंट के दौरान फिल्म एक्टर और पॉलिटिशियन नंदमुरी बालकृष्ण.

वीडियो देखें: अक्षय, आमिर, सलमान से लेकर टॉम क्रूज़ तक की फिल्में बॉक्स ऑफिस पर भिड़ने जा रही हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

ट्रेलर रिव्यू: 'इनसाइड एज-3'

ट्रेलर रिव्यू: 'इनसाइड एज-3'

कितने नए सस्पेंस हैं इस स्पोर्ट्स ड्रामा की तीसरी किस्त में?

फिल्म रिव्यू: धमाका

फिल्म रिव्यू: धमाका

कार्तिक आर्यन की फिल्म ने 'धमाका' किया या नहीं?

फिल्म रिव्यू- बंटी और बबली 2

फिल्म रिव्यू- बंटी और बबली 2

ये फिल्म अपने होने को जस्टिफाई नहीं कर पाती. यही इसकी सबसे बड़ी कमी है.

फिल्म रिव्यू: चुरुली

फिल्म रिव्यू: चुरुली

साइंस फिक्शन फिल्म, जो भगवान का शुक्रिया अदा करती है.

फ़िल्म रिव्यू :अंडमान

फ़िल्म रिव्यू :अंडमान

लॉकडाउन के दौर पर बनी रियलिस्टिक फिल्म, जिसकी राइटिंग कमाल की है.

क्या ख़ास है'अंडमान' फिल्म में, जो सिर्फ मेकर्स को नहीं आपको भी पैसे कमाकर देगी

क्या ख़ास है'अंडमान' फिल्म में, जो सिर्फ मेकर्स को नहीं आपको भी पैसे कमाकर देगी

कैसा है 'अंडमान' फिल्म का ट्रेलर, जिसमें संजय मिश्रा चप्पू चला रहे हैं?

कैसा है अक्षय कुमार की 'पृथ्वीराज' का टीज़र, जिसकी इतनी हाइप बनी हुई थी?

कैसा है अक्षय कुमार की 'पृथ्वीराज' का टीज़र, जिसकी इतनी हाइप बनी हुई थी?

टीज़र देखने से पहले फिल्म के बारे में सब कुछ जान लें.

फिल्म रिव्यू- कुरूप

फिल्म रिव्यू- कुरूप

'कुरूप' बेसिकली एक क्राइम थ्रिलर है, जो क्राइम से ज़्यादा क्रिमिनल की बात करती है. मगर अपना थ्रिलर वाला गुण बरकरार रखती है.

मूवी रिव्यू: रेड नोटिस

मूवी रिव्यू: रेड नोटिस

नेटफ्लिक्स की सबसे महंगी फिल्म घाटे का सौदा साबित हुई या फायदे का?

वेब सीरीज़ रिव्यू: स्पेशल ऑप्स 1.5

वेब सीरीज़ रिव्यू: स्पेशल ऑप्स 1.5

धांसू सीरीज़ का सीक्वल क्या उतना धांसू बन पाया है?