Submit your post

Follow Us

कंगना वाले मसले पर अनुराग कश्यप और रणवीर शौरी में करारा झगड़ा हो गया

फिल्म-मेकर अनुराग कश्यप और एक्टर रणवीर शौरी. दोनों के बीच अभी-अभी ट्विटर पर बहस हुई. रणवीर ने कुछ ट्वीट किया, अनुराग ने जवाब दिया, फिर रणवीर ने दिया और ये सिलसिला चलता गया. और ये सब तब हुआ, जब अनुराग ट्विटर पर कंगना रनौत को लेकर लिख रहे थे.

शुरू से शुरुआत करते हैं-

रणवीर शौरी ने एक ट्वीट किया. सुबह करीब 10 बजे. लिखा,

“कई सारे स्वतंत्र फिल्म-धर्मयोद्धा अब मेनस्ट्रीम-बॉलीवुड चाटुकार हो गए हैं. ये वो लोग हैं जो मेनस्ट्रीम-बॉलीवुड के मोतियों जड़े गेट में एंट्री करने से पहले अटेंशन के लिए चौबीसों घंटे ‘सिस्टम’ की निंदा करते थे. इतना पाखंड?”

इस पर अनुराग कश्यप ने ट्वीट किया,

“क्या आपका सच में यही मतलब है रणवीर शौरी? अगर है तो प्लीज़ एक्सप्लेन करें. प्लीज़ ये बताएं कि आपका ठीक-ठीक क्या मतलब है? और किसका चाटुकार कौन है?”

इसी बीच एक यूज़र ने रणवीर के ट्वीट पर लिख दिया कि अनुराग कश्यप बॉलीवुड गैंग माफिया की कठपुतली और एकदम सही उदाहरण हैं. आगे लिखा,

“भाई रोटी चलानी है तो चाटना ज़रूरी है”

इस पर अनुराग कश्यप ने लिखा,

“मेरी रोटी बॉलीवुड से नहीं चलती. मेरी फिल्म प्रोड्यूस करने कोई धर्मा, एक्सेल या YRF या कोई स्टूडियो नहीं आता. खुद नई कंपनी बनानी पड़ती है और खुद बनाता हूं. कंगना के पास जब कोई काम नहीं था तब क्वीन बनाई थी. ‘तनु वेड्स मनु’ जब अटक गयी थी उसे खत्म करने के लिए मैंने आनंद राय को मदद की थी और फाइनेंसर से मिलाया था. चाहे तो पूछ सकते हैं. मैं नाम लेकर बोल रहा हूं और वही बोलूंगा जो सच है.”

खैर, ये तो हमने यूज़र के ट्वीट पर अनुराग के जवाब के बारे में बताया. वापस उस ट्वीट पर जाते हैं, जो अनुराग ने सीधे रणवीर की पोस्ट पर किया था. जब अनुराग ने रणवीर से ये कहा कि वो थोड़ा ठीक से एक्सप्लेन करें, तो रणवीर ने लिखा,

“मैं हमेशा वही कहता हूं, जिससे मेरा आशय होता है. अनुराग कश्यप, आप ये बात जानते हैं. और मुझे नहीं लगता कि मैंने जो कहा उसमें किसी तरह की स्पष्टता की कमी है. मैंने बहुत कुछ एक्सप्लेन किया है. जहां तक नाम लेने की बात है, ये मेरे लिए निम्न स्तर की बात है. मैं कीचड़ उछालने की कोशिश नहीं कर रहा, लेकिन लोगों को बस याद दिला रहा हूं कि वो कहां से आते हैं?”

इस पर अनुराग ने लिखा,

“तो फिर बात करते हैं. यहीं पर. आपको क्या लगता है मैं किसका चाटुकार हूं? इस बहस में पुराने रिश्तों से मिली पीड़ा को मिक्स मत करना. मैं यहां सबकुछ कहूंगा. हर इंडस्ट्री की तरह इस इंडस्ट्री को भी सुधार की ज़रूरत है. मैं अकेला ऑपरेट करता हूं, बोलो.”

इस पर रणवीर शौरी ने लिखा,

“मैंने आपको मेंशन नहीं किया था, तो फिर आप खुद ही क्यों नहीं बता दे रहे कि आप किसके चाटुकार हो? अगर आपको मेरी कही गई बात से इतना ही दुख हुआ है तो. और ‘बीते दिनों के मेरे दर्द’ वाली बकवास से आपका क्या मतलब है, मैं नहीं समझ पाया. मेरा श्रिंक (सायकाइट्रिस्ट के लिए इस्तेमाल होने वाला शब्द) बनने की कोशिश मत करो. मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि मैं आपसे भी ज्यादा अकेला काम करता हूं.”

इसके बाद अनुराग कश्यप ने कहा,

“और कोई भी मेरे से ज्यादा आउटसाइडर्स के साथ काम नहीं करता. और मैं देख सकता हूं कि जो कुछ भी चल रहा है उसमें क्या गलत है. मैं ये खेल देख पा रहा हूं. खेल खेला जा रहा है और लोगों का इस्तेमाल किया जा रहा है. विश्वास करो, आपने जो कहा उससे मुझे दुख नहीं हुआ, पिछले 27 साल में कोई भी मुझे दुखी नहीं कर सका है. मैं पूरी तरह से शांत हूं. और मैं ये साफ तौर पर कहूंगा- मैं यहां आपसे इसलिए बात कर रहा हूं क्योंकि इंडस्ट्री का किस तरह से इस्तेमाल हो रहा है, इसका जो नैरेटिव चल रहा है, उसे मैं आपको या किसी और को बदलने नहीं दूंगा. मैं आपको मेरे बारे में धारणा बनाने या बदलने या और उस पर लोगों को भरोसा दिलाने नहीं दूंगा. मैं यहां खड़ा रहूंगा और बोलूंगा.”

इस पर रणवीर शौरी ने लिखा,

“मुझे लग रहा है कि आप ‘स्वतंत्र फिल्म धर्मयोद्धाओं’ के लबादे को पूरी तरह से खुद कैरी करते हुए बड़ी गलती कर रहे हैं. मुझे याद दिलाने दीजिए कि स्वतंत्र सिनेमा आपसे कहीं ज्यादा था और हमेशा रहेगा. इसलिए आप आप ही रहिए और बाकियों को भी उनके जैसा रहने दीजिए. जब दूसरे बोल रहे हों, तो उनका महत्व कम मत कीजिए.”

इस पर अनुराग कश्यप ने आगे लिखा,

“तो आप मेरे बारे में बात नहीं कर रहे थे? कमाल है. मैंने आपको गलत समझा, ये पूरी मेरी गलती है. इसका ये मतलब हुआ कि मेरे जवाब गैरज़रूरी थे. कूल. महत्व कम करने वाली बात पर आता हूं- किसका महत्व मैंने कम किया? ठीक-ठीक बताएं?”

इस पर रणवीर शौरी ने लिखा,

“कितने लोगों का आपने अनादर किया है, जब आपने ‘नैरेटिव को बदलने या भटकाने’ वाली बात करी थी? आप कोई नैरेटिव को कंट्रोल करने वाले कौन होते हो? हर किसी को अपनी पीड़ा के बारे में बात करने का अधिकार है, बिल्कुल वैसे ही जैसे आपके पास है. और हां, आपके जो जवाब हैं, जो आपने मुझे दिए, वो गैरज़रूरी थे. मैं यहां कोई तमाशा बनाने के लिए नहीं हूं.”

इस पर अनुराग ने आगे लिखा,

“ठीक है. मैं इस पर विश्वास करता हूं. आप कंगना के आवेग को उनकी पीड़ा की तरह देखते हैं. ठीक है. इस पर हम असहमति पर सहमति बनाते हैं.”

रणवीर शौरी ने फिर लिखा,

“फिर से, मैंने किसी के नाम को मेंशन नहीं किया था, आपने किया. ये कहने वाला कि कोई वाकई में पीड़ा में था या फिर कोई केवल अटेंशन के लिए ऐसा कर रहा था, हम कौन होते हैं? मैं यहां हर किसी के सच बोलने के अधिकार की रक्षा कर रहा हूं. बिल्कुल जैसा आप करते हो. आप सहमत हो सकते हो या असहमत.”

ये सारी बातें इन दोनों के बीच हुई. दरअसल, इस वक्त कंगना के कई सारे आरोप खबरों में बने हुए हैं. उन्होंने कुछ इंटरव्यू दिए, सोशल मीडिया पर कुछ वीडियो अपलोड किए और सुशांत सिंह राजपूत की मौत का कारण नेपोटिज़म (भाई-भतीजावाद) को बताया. बॉलीवुड के कई लोगों पर नेपोटिज़म फैलाने के आरोप लगाए. खासतौर पर करण जौहर, महेश भट्ट और आदित्य चोपड़ा. इंटरव्यू में उन्होंने एक्ट्रेस तापसी पन्नू और स्वरा भास्कर को बी-ग्रेड की एक्ट्रेस भी बताया.


वीडियो देखें: कंगना ने तापसी-स्वरा को ‘बी ग्रेड एक्ट्रेस’ कहा, तापसी का जवाब भी आ गया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

नेल्सन मंडेला के वो 10 कोट्स, जो समझ आ जाएं तो ज़िंदगी बन जाएगी

'अफ्रीका के गांधी' कहे जाते हैं नेल्सन मंडेला (18 जुलाई, 1918 – 5 दिसंबर, 2013)!

कोरोना की जिन वैक्सीनों ने उम्मीद जगाई है, वो अभी किस स्टेज में हैं?

कोरोना के थानोस को मारने के लिए वैक्सीन के एवेंजर्स का आना ज़रूरी है.

एमेज़ॉन और हॉटस्टार को धकेल नेटफ्लिक्स ने 17 ताबड़तोड़ फिल्म-वेब सीरीज़ की लाइन लगा दी

यहां आपको कॉमेडी, रोमैंस, ड्रामा, एक्शन, थ्रिलर सबकुछ मिलेगा.

ऑनलाइन रिलीज़ होने वाली इन 10 फिल्मों को कितने करोड़ रुपए मिले हैं, जानकर हैरान रह जाएंगे

रिलीज़ होने से पहले ही तमाम फ़िल्में फायदे में हैं मितरों... तमाम गुणा-गणित हमसे समझिए.

'सूरमा भोपाली' के अलावा जगदीप के वो 7 किरदार, जिन्होंने हंगामा मचा दिया था

शोले ने कल्ट आइकन बना दिया, लेकिन किरदार इनके सारे गजब थे.

सौरव गांगुली के वो पांच फैसले, जिन्होंने इंडियन क्रिकेट को हमेशा के लिए बदल दिया

जाने कितने प्लेयर्स और टीम इंडिया का एटिट्यूड बदलने वाले दादा.

वो 7 बॉलीवुड सुपरस्टार्स, जिनकी आखिरी फिल्में उनकी मौत के बाद रिलीज़ हुईं

सुशांत सिंह राजपूत की 'दिल बेचारा' से पहले इन दिग्गजों के साथ भी ऐसा हो चुका है.

वो 8 बॉलीवुड एक्टर्स, जो इंडियन आर्मी वाले मजबूत बैकग्राउंड से फिल्मों में आए

इस लिस्ट में कुछ एक्टर्स ऐसे भी हैं, जिनके परिवार वालों ने देश की रक्षा करते हुए अपनी जान गंवा दी.

सरोज ख़ान के कोरियोग्राफ किए हुए 11 गाने, जिनपर खुद-ब-खुद पैर थिरकने लगते हैं

पिछले कई दशकों के आइकॉनिक गाने, उनके स्टेप्स और उनके बारे में रोचक जानकारी पढ़ डालिए.

मोहम्मद अज़ीज़ के ये 38 गाने सुनकर हमने अपनी कैसेटें घिस दी थीं

इनके जबरदस्त गानों से कितने ही फिल्म स्टार्स के वारे-न्यारे हुए.