Submit your post

Follow Us

10 रुपये का सिक्का खो गया, बाप ने बिजली के खंभे से बांधकर बच्चों को पीटा

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में एक जिला है अमरोहा. वहां पर गजरौला थाने में सलेमपुर रोड पर एक मोहल्ला है जलाल नगर. इस इलाके में रहने वाला इस्लाम नाम का एक शख्स कोई काम-धाम नहीं करता है. खाली दिमाग शैतान का घर होता है, लिहाजा वो हर वक्त अपनी पत्नी और बच्चों से मारपीट करता रहता है. ये रोज की बात थी. लेकिन 22 जुलाई की सुबह इस्लाम ने सारी हदें पार कर दीं.

इस्लाम ने अपने बच्चों को पैसे देकर पास की दुकान से सामान खरीदने के लिए भेजा था. इस्लाम ने बच्चों को 10-10 रुपये के दो सिक्के दिए थे, लेकिन बच्चों से एक सिक्का कहीं खो गया. उसे शक था कि उसके पांच साल के बेटे रेहान, चार साल के बेटे आयान या फिर तीन ताल की बच्ची इकरा ने वो पैसे चुरा लिए हैं. इसके बाद उसका गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया. वो बच्चों को दुकान से ही पीटता हुआ घर लेकर आया. इसके बाद भी उसका मन नहीं भरा तो उसने अपने तीनों बच्चों को बिजली के खंभे से बांध दिया और फिर उनकी पिटाई शुरू कर दी. इस दौरान एक पड़ोसी ने अपने मोबाइल से उसकी फोटो खींच ली और उसे सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया.

बच्चों की पिटाई को उनकी मां ने भी जायज ठहराया है.
बच्चों की पिटाई को उनकी मां ने भी जायज ठहराया है.

मोहल्ले के लोग जब बच्चों को बचाने पहुंचे, तो इस्लाम ने उल्टे मोहल्ले के लोगों को ही धमकी दी और कहा कि बच्चे उसके हैं, वो जो चाहेगा, करेगा. लेकिन मोहल्ले वाले भी जिद पर अड़ गए और किसी तरह से बच्चों को बचाया. वहीं बच्चों की मां और इस्लाम की पत्नी जासमीन ने भी बच्चों की पिटाई को जायज ठहराते हुए कहा कि अगर बच्चे गलती करते हैं तो उनकी पिटाई तो होती ही है.

जासमीन कह रही हैं कि बच्चे गलती करते हैं, तो उनकी पिटाई होती है. ठीक बात है. बच्चों को सुधारने के लिए उनपर सख्ती की जाती है, उन्हें कभी प्यार से तो कभी डांटकर और ज्यादा ज़रूरी होने पर उन्हें एक दो थप्पड़ मारकर भी उनकी जिम्मेदारियों का एहसास करवाया जाता है. लेकिन इस तरह से पीटना और फिर उसे जस्टिफाई करना तो अमानवीयता की हदों को पार करना है. इस्लाम ने बच्चों को पीटकर और उनकी पत्नी जासमीन ने इस पिटाई को जायज ठहराकर अमानवीयता की हदों को पार कर दिया है. अब जब फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया, तो इस्लाम घर छोड़कर फरार हो गया है. वहीं पुलिस को किसी ने तहरीर नहीं दी है, तो केस भी दर्ज नहीं हो पाया है. हालांकि एएसपी ब्रजेश सिंह ने कहा है कि अगर तहरीर मिलती है तो केस दर्ज कर ऐक्शन लिया जाएगा.


ये भी पढ़ें:

एक मुस्लिम लड़के को भीड़ के हाथों मरने से एक सिख पुलिसवाले ने बचा लिया

कोलकाता मेट्रो में भीड़ ने कपल को जिस वजह से पीटा वो जानकर आप सिर पीट लेंगे

मेट्रो में लड़का-लड़की को गले लगा देख पीटने वाले अब अपना सिर धुन रहे होंगे

जानिए कौन है मुस्लिम लड़के को भीड़ के हाथों मरने से बचाने वाला ये जाबड़ सिख पुलिसवाला

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

'हासिल' के ये 10 डायलॉग आपको इरफ़ान का वो ज़माना याद दिला देंगे

17 साल पहले रिलीज़ हुई इस फ़िल्म ने ज़लज़ला ला दिया था

4 फील गुड फ़िल्में जो ऑनलाइन देखने के बाद दूसरों को भी दिखाते फिरेंगे

'मेरी मूवी लिस्ट' में आज की रेकमेंडेशंस हमारी साथी स्वाति ने दी हैं.

आर. के. नारायण, जिनका लिखा 'मालगुडी डेज़' हम सबका नॉस्टैल्जिया बन गया

स्वामी और उसके दोस्तों को देखते ही बचपन याद आता है

वो 22 एक्टर्स जिनको यशराज फिल्म्स ने बॉलीवुड में लॉन्च किया

यश और आदि चोपड़ा के इस प्रोडक्शन हाउस ने इस साल 50 बरस पूरे कर लिए हैं.

इन 8 बॉलीवुड सेलेब्स के मदर्स डे वाले वीडियोज़ और फोटो आप मिस नहीं करना चाहेंगे

बच्चन ने मां को गाकर याद किया है, वहीं अनन्या पांडे ने बचपन के दो बेहद क्यूट वीडियोज़ पोस्ट किए हैं.

मंटो, जिन्हें लिखने के फ़ितूर ने पहले अदालत फिर पागलखाने पहुंचाया, उनकी ये 15 बातें याद रहेंगी

धर्म से लेकर इंसानियत तक, सबपर सब कुछ कहा है मंटो ने.

सआदत हसन मंटो को समझना है तो ये छोटा सा क्रैश कोर्स कर लो

जानिए मंटो को कैसे जाना जाए.

महाराणा प्रताप के 7 किस्से: जब वफादार मुसलमान ने बचाई उनकी जान

9 मई, 1540 को पैदा होने वाले महाराणा प्रताप की मौत 29 जनवरी, 1597 को हुई.

दुनिया के 10 सबसे कमज़ोर पासवर्ड कौन से हैं?

रिस्की पासवर्ड का पता कैसे चलता है?

'इक कुड़ी जिदा नां मुहब्बत' वाले शिव बटालवी ने बताया कि हम सब 'स्लो सुसाइड' के प्रोसेस में हैं

इन्होंने अपनी प्रेमिका के लिए जो 'इश्तेहार' लिखा, वो आज दुनिया गाती है