Submit your post

Follow Us

अम्मा के लिए जान देते हैं लोग, और क्या जानना है?

अम्मा. तमिलनाडु अपनी मुख्यमंत्री जयललिता को इसी नाम से पुकारता है. न्यूज चैनलों पर भावुक होते लोगों की तस्वीरें देख रहे होगे. जो अम्मा की सेहत के लिए दुआएं कर रहे हैं. केंद्र सरकार ने दिल्ली एम्स से बड़े डॉक्टर्स की एक टीम अपोलो हॉस्पिटल भेज दी है. अम्मा के बारे में सबसे कम शब्दों में सबसे ज्यादा जानकारी चाहिए तो ये पढ़ो.

1:

24 फरवरी 1948 को मैसूर(अब कर्नाटक) के पांडवपुरा तालुका, मेलूकोट में पैदा हुईं जयललिता. अय्यंगर ब्राह्मण फैमिली में. पापा जयराम एक वकील थे. जब जयललिता सिर्फ दो साल की थी, वो दुनिया छोड़ गए.

j

2:

जयललिता पॉलिटिक्स में आने से पहले फिल्मों में आ गई थीं. उससे भी पहले क्लासिकल म्यूजिक सीखा. वेस्टर्न क्लासिकल पियानो सीखा. क्लासिकल डांस के लगभग हर रूप की ट्रेनिंग ली. भरतनाट्यम, मोहिनीअट्टम, मणिपुरी और कत्थक.

Jl

3:

पहली फिल्म थी कन्नड़ भाषा की ‘श्री शैला महात्मा.’ 1961 में आई थी. इसमें चाइल्ड आर्टिस्ट के तौर पर काम किया था. स्कूली पढ़ाई के साथ थिएटर भी करती रहीं. तमिल फिल्मों की पहली बोल्ड एक्ट्रेस थी. उनके पहले किसी ने परदे पर स्कर्ट पहनने की हिम्मत नहीं की थी. हिंदी में फिल्म की थी ‘इज्जत.’ 1968 में आई थी जिसमें उनके हीरो थे धर्मेंद्र.

izzat

4:

तमिल सिनेमा के एक और फेमस एक्टर थे एमजी रामचंद्रन. शॉर्ट में उनको कहा जाता था MGR. वो 1977 में बने तमिलनाडु के चीफ मिनिस्टर. जयललिता का कहना है कि उन्होंने ही पॉलिटिक्स में इंट्रेस्ट जगाया. रामचंद्रन की पार्टी AIADMK ज्वाइन कर ली 1982 में.

MGR-Jayalalitha-movie

5:

1984 में रामचंद्रन को फालिज़ का अटैक पड़ा. जिससे वो चलने फिरने में हो गए नाकाम. जयललिता को कहा गया कि वो CM की कुर्सी संभाल लें और अपना फर्ज पूरा करें. तीन साल बाद रामचंद्रन की डेथ हो गई. पार्टी में दो फाड़ हो गए. एक हिस्सा जयललिता की तरफ. दूसरा रामचंद्रन की विधवा जानकी की तरफ. 1988 में जानकी बन गई चीफ मिनिस्टर.

6:

इंडिया में अपोजीशन लीडर बनने वाली पहली महिला थी जयललिता. साल था 1989, AIADMK ने 27 सीटें जीती थीं.
25 मार्च 1989 तमिलनाडु असेंबली का बहुत बुरा दिन साबित हुआ. जब असेंबली के अंदर भयंकर मारपीट हुई और करुणानिधि के इशारे पर जयललिता पर हमला हो गया. स्पीकर के सामने. वहां से फटी साड़ी में बाहर निकली जयललिता. उसके बाद तमिलनाडु में खेला बदल गया. लोगों की भावनाएं जयललिता के साथ हो गईं.

jai

7:

पहली बार मुख्यमंत्री बनी 1991 में. देश की पहली सबसे कम उम्र की महिला CM. जिसने पूरे पांच साल शासन किया. 24 जून 1991 से 12 मई 1996 तक.

8:

1996 में सारा पावर चला गया. इनके मिनिस्टर्स और सरकार पर करप्शन के आरोप लगे. भाईसाब 168 सीट में सिर्फ 4 सीटें जीतीं. वह खुद अपनी सीट नहीं बचा पाई थीं.

9:

7 दिसंबर 1996 को पहली बार जेलयात्रा की. कलर टीवी स्कैम में नाम आ गया था.

10:

दूसरी बार मुख्यमंत्री बनी 2001 में. तीसरी बार 2011 में. 2014 में आय से अधिक संपत्ति के 18 साल पुराने केस में फैसला आया. तो तमिलनाडु विधानसभा की सदस्यता और CM की कुर्सी दोनों चली गई. चार साल कैद और 100 करोड़ रुपए जुर्माने की सजा सुनाई गई.

11:

11 मई 2015 का दिन बहुतै अच्छा रहा. कोर्ट ने उनको आय से अधिक संपत्ति रखने के मामले में बरी कर दिया. 23 तारीख को हो गई CM के पद पर वापसी, पांचवी बार.

12:

jy

अम्मा को फ्रीबीज वाली मुख्यमंत्री कहते हैं. काहेकि अपने स्टेट में तमाम जरूरत की चीजें उन्होंने फ्री कर रखी हैं. या बहुत कम कीमत कर रखी है. बीते चुनाव में भी वादा किया था फ्री लैपटॉप, हर घर के एक सदस्य को नौकरी, हर घर को 100 यूनिट फ्री बिजली का.


ये भी पढ़ें:

हेल्थ मिनिस्टर जेपी नड्डा ने कहा, ‘जयललिता अब खतरे से बाहर’

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू- हीरोपंती 2

फिल्म रिव्यू- हीरोपंती 2

ये फिल्म सिनेमा माध्यम का उपहास करती है.

मूवी रिव्यू: रनवे 34

मूवी रिव्यू: रनवे 34

‘रनवे 34’ की सबसे अच्छी बात ये है कि वो लाउड हीरोज़ के दौर में वैसा बनने की कोशिश नहीं करती.

सीरीज रिव्यू : गिल्टी माइंड्स

सीरीज रिव्यू : गिल्टी माइंड्स

कुछ बढ़िया ढूंढ़ रहे हैं, तो इसे देखना बनता है.

फिल्म रिव्यू- ऑपरेशन रोमियो

फिल्म रिव्यू- ऑपरेशन रोमियो

'ऑपरेशन रोमियो' एक फेथफुल रीमेक है. मगर ये किसी भी फिल्म के होने का जस्टिफिकेशन नहीं हो सकता.

फिल्म रिव्यू: जर्सी

फिल्म रिव्यू: जर्सी

फिल्म अपने इमोशनल मोमेंट्स को जितना जल्दी बिल्ड अप करती है, ठीक उतना ही जल्दी नीचे भी ले आती है.

वेब सीरीज़ रिव्यू: माई

वेब सीरीज़ रिव्यू: माई

सीरीज़ की सबसे अच्छी और शायद बुरी बात सिर्फ यही है कि इसका पूरा फोकस सिर्फ शील पर है.

शॉर्ट फिल्म रिव्यू- लड्डू

शॉर्ट फिल्म रिव्यू- लड्डू

एक मौलवी और बच्चे की ये फिल्म इस दौर में बेहद ज़रूरी है.

फिल्म रिव्यू- KGF 2

फिल्म रिव्यू- KGF 2

KGF 2 एक धुआंधार सीक्वल है, जो 2018 में शुरू हुई कहानी को एक सैटिसफाइंग तरीके से खत्म करती है.

फ़िल्म रिव्यू: बीस्ट

फ़िल्म रिव्यू: बीस्ट

विजय के फैन हैं तो ही फ़िल्म देखने जाएं. नहीं तो रिस्क है गुरु.

वेब सीरीज रिव्यू: अभय-3

वेब सीरीज रिव्यू: अभय-3

विजय राज ने महफ़िल लूट ली.