Submit your post

Follow Us

टिड्डियों के हमले और बाढ़ पर ज़ायरा वसीम ने क़ुरान की आयत शेयर की, फिर बुरी तरह ट्रोल हो गईं

इस्लाम का हवाला देकर फिल्म इंडस्ट्री से अलग हो चुकीं ऐक्ट्रेस ज़ायरा वसीम फिर चर्चा में हैं. एक ट्वीट को लेकर. ट्विटर पर #ZairaWasim ट्रेंड कर रहा है. 27 मई को किए गए इस ट्ववीट को लेकर उनकी काफी ट्रोलिंग हुई. ट्वीट में उन्होंने टिड्डियों के हमले, बाढ़ जैसी आपदाओं को लेकर क़ुरान की एक आयत शेयर की थी. इससे जुड़ा एक वीडियो उन्होंने अपने इंस्टाग्राम पर अपलोड किया. लोगोंं का कहना है कि इन आपदाओं को लोगों के ‘पाप’ का फल बताया जा रहा है. कहा गया कि ट्रोलिंग की वजह से ‘दंगल’ की एक्ट्रेस ने ट्विटर-इंस्टाग्राम अकाउंट्स डीऐक्टिवेट कर लिए थे, लेकिन फिलहाल उनके अकाउंट ऐक्टिव दिख रहे हैं.

इस ट्वीट को लेकर विवाद हुआ. लोगों ने कहा कि इन आपदाओं को ख़ुदा का कहर बताया जा रहा है. फोटो: ट्विटर
इस ट्वीट को लेकर विवाद हुआ. लोगों ने कहा कि इन आपदाओं को ख़ुदा का कहर बताया जा रहा है. फोटो: ट्विटर

ज़ायरा ने 27 और 28 मई को ट्वीट करने के बाद 30 मई को एक ट्वीट किया है, जिसमें उन्होंने इस बात का जवाब दिया कि उन्होंने अकाउंट डीऐक्टिवेट क्यों किया? उन्होंने कहा कि मैं भी सबकी तरह इंसान हूं, जिसे जब चाहे हर चीज से ब्रेक लेने की आज़ादी है.

एक यूज़र ने पूछा कि उन्होंने अपना अकाउंट डीएक्टिवेट क्यों किया. इस पर ज़ायरा वसीम ने जवाब दिया है.
एक यूज़र ने पूछा कि उन्होंने अपना अकाउंट डीएक्टिवेट क्यों किया. इस पर ज़ायरा वसीम ने जवाब दिया है. te

दोनों तरफ के लोग भिड़े

27 मई वाले ट्वीट पर ट्विटरवाले कह रहे हैं कि आपदाओं को ‘ख़ुदा का कहर’ बताया जा रहा है. ‘धर्मयुद्ध’ शुरू हो गया. कुछ लोग उनके समर्थन में उतरे कि क़ुरान की आयत शेयर करने में कोई बुराई नहीं है. कुछ ने कहा कि धार्मिक होना ठीक है लेकिन कट्टर होना बुरा है. ये भी कहा गया कि वो ग़ैर-वैज्ञानिक बातों को प्रमोट कर रही हैं. कुछ ने कहा कि फिल्में छोड़ने के बाद भी वो चर्चा में बने रहने के लिए ऐसा कर रही हैं. एक वर्ग ‘इस्लामोफोबिया’ वाली बात लेकर आया. दूसरा ‘हिंदूफोबिया’ वाली. लोग सोशल मीडिया पर कट-मरे.

ट्विटर पर #StandWithZaira जैसे हैशटैग चलने लगे.
ट्विटर पर #StandWithZaira जैसे हैशटैग चलने लगे.

एक यूज़र ने लिखा कि जब धर्म आपके दिमाग पर हावी हो जाता है तो आप बकवास करने लगते हैं.

लोगों ने कहा कि ज़ायरा वसीम का ब्रेनवॉश हो गया है और पढ़ाई-लिखाई का कोई फायदा नहीं.
लोगों ने कहा कि ज़ायरा वसीम का ब्रेनवॉश हो गया है और पढ़ाई-लिखाई का कोई फायदा नहीं.

किसी ने कहा कि ज़ायरा ‘हम और वो’ की बायनरी खड़ी कर रही हैं. प्राकृतिक घटनाओं को अतार्किक ग़ैर-वैज्ञानिक मतलब से जोड़ रही हैं.

ये भी कहा गया कि वो ग़ैर-वैज्ञानिक बातों को प्रमोट कर रही हैं.
ये भी कहा गया कि वो ग़ैर-वैज्ञानिक बातों को प्रमोट कर रही हैं.

इस्लाम का हवाला देकर फिल्म इंडस्ट्री छोड़ी थी

ज़ायरा वसीम ने फिल्म इंडस्ट्री छोड़ने को लेकर लंबी-चौड़ी सोशल मीडिया पोस्ट लिखी थी. उन्होंने कहा था, ‘फिल्मों ने मुझे बहुत प्यार, सहयोग और तारीफें दी हैं लेकिन अनजाने में अपने ईमान से बाहर निकल आई. मेरे धर्म के साथ मेरा रिश्ता ख़तरे में आ गया, जिसे नज़रअंदाज़ करके मैं आगे बढ़ती रही. मैंने अपने जीवन से सारी बरकतें खो दीं. मैं लगातार ख़ुद को कमज़ोर स्थिति में रखती, जहां मेरी शांति, मेरे ईमान और अल्लाह के साथ मेरे रिश्ते को नुकसान पहुंचाने वाले माहौल का शिकार बनना आसान था.’

ज़ायरा वसीम दंगल, सीक्रेट सुपरस्टार जैसी फिल्मों में दिख चुकी हैं. वो आख़िरी बार 2019 में प्रियंका चोपड़ा-फरहान अख्तर की फिल्म ‘द स्काई इज़ पिंक’ में दिखी थीं.


सीक्रेट सुपरस्टार के लिए कैसे चुना गया था ज़ायरा वसीम को?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

वो फिल्म जिसमें काजोल का मर्डर कर, आशुतोष राणा ने फिल्मफेयर जीत लिया

काजोल के साथ ब्लॉकबस्टर फिल्में दे चुके शाहरुख ने इस फिल्म में काम करने से मना क्यों कर दिया?

इंडिया का वो ऐक्टर, जिसे देखकर एक्टिंग की दुनिया के तमाम तोपची नर्वस हो जाएं

नर्वस होने की लिस्ट में शाहरुख़, सलमान, आमिर सबके नाम लिख लीजिए.

वेंडल रॉड्रिक्स, जिन्होंने दीपिका को रातों-रात मॉडल और फिर स्टार बना दिया?

आज वेंडेल रोड्रिक्स का बड्डे है.

घोड़े की नाल ठोकने से ऑस्कर तक पहुंचने वाला इंडियन डायरेक्टर

इन्हें अंग्रेज़ी नहीं आती थी, अमेरिका जाते वक्त सुपरस्टार दिलीप कुमार को साथ लेकर गए थे. हॉलीवुड के डायरेक्टरों की बात समझने के लिए.

इबारत : नेहरू की ये 15 बातें देश को हमेशा याद रखनी चाहिए

नेहरू के कहे-लिखे में से बेहतरीन बातें पढ़िए

अमिताभ की उस फिल्म के 6 किस्से, जिसकी स्क्रीनिंग से डायरेक्टर खुद ही उठकर चला गया

अमिताभ डायरेक्टर के पीछे-पीछे भागे, तब जाकर वो रुके.

इबारत : Ertugrul में इब्ने अरबी के 10 डायलॉग अंधेरे में मशाल जैसे लगते हैं

आजकल ख़ूब चर्चा हो रही है इस सीरीज़ की

इबारत : शरद जोशी की वो 10 बातें जिनके बिना व्यंग्य अधूरा है

आज शरद जोशी का जन्मदिन है.

इबारत : सुमित्रानंदन पंत, वो कवि जिसे पैदा होते ही मरा समझ लिया था परिवार ने!

इनकी सबसे प्रभावी और मशहूर रचनाओं से ये हिस्से आप भी पढ़िए

गिरीश कर्नाड और विजय तेंडुलकर के लिखे वो 15 डायलॉग, जो ख़ज़ाने से कम नहीं!

आज गिरीश कर्नाड का जन्मदिन और विजय तेंडुलकर की बरसी है.