Submit your post

Follow Us

आम आदमी पार्टी ने ऐसा क्या ट्वीट कर दिया कि लोग उसे 'धर्मांध' बताने लगे?

आम आदमी पार्टी (AAP) का सोशल मीडिया अकाउंट खासा एक्टिव रहता है. केजरीवाल सरकार के कामकाज का बखान हो या विपक्षी पार्टियों पर तंज कसना, AAP कतई पीछे नहीं रहती. हालांकि, इस बार उनका एक ट्वीट उन्हीं पर भारी पड़ गया है. जनता जमकर लानत-मलानत कर रही है. विरोध झेलने के बाद भरपाई की कोशिश भी की गई. लेकिन बात तब तक हाथ से फिसल चुकी थी.

पूरा मामला क्या है?

17 मई को 11 बजकर 55 मिनट पर आम आदमी पार्टी ने एक ट्वीट किया. इसमें लिखा था,

नरेंद्र मोदी ने वोट किससे लिया:

  • नीचे तिरंगे के साथ इंडिया लिखा था.

नरेन्द्र मोदी ने वैक्सीन किसे दी:

  • इसके जवाब में 18 देशों के नाम उनके झंडे के साथ लिखे थे.
आम आदमी पार्टी का ये ट्वीट उनकी जान का जंजाल बन गया.
आम आदमी पार्टी का ये ट्वीट उनकी जान का जंजाल बन गया.

(आर्काइव लिंक)

पूरा झगड़ा इसी जवाब को लेकर है. जिन 18 देशों का नाम लिखा गया था, वे सारे इस्लामिक राष्ट्र हैं. AAP का इशारा साफ़ था. ट्वीट के जरिए ये बताने की कोशिश की जा रही थी कि मोदी सरकार ने भारत के लोगों के हिस्से की वैक्सीन मुस्लिमों को दे दी. साफ़तौर पर ये ट्वीट सांप्रदायिक और छिछला था.

ट्विटर की जनता ने इशारा पकड़ लिया. और, खूब खरी-खोटी सुनाने लगे. मशहूर गीतकार और लेखक वरूण ग्रोवर ने लिखा,

इस दुनिया का नागरिक होने के नाते हमें इस बात पर गर्व होना चाहिए कि हमने पूरी मानवता की परवाह की है. पूछे जाने वाला सवाल ये है कि उन्होंने भारतीयों की परवाह क्यों नहीं की?

(और, आपकी सलेक्टिव लिस्ट सॉफ़्ट कट्टरता है. दुर्भाग्य ये है कि आप लोगों को भी ये बात पता है.)

एक यूजर ने लिखा,

AAP हिंदू वोट बैंक के लिए संघर्ष कर रही है.

बीजेपी के लिए मुक़ाबला कड़ा होने वाला है.

कई यूजर्स ने लिखा कि AAP, बीजेपी की बी-पार्टी है. कुछ यूजर्स ने लिखा कि आम आदमी पार्टी बीजेपी के साथ हिंदू राष्ट्रवाद की जंग लड़ रही है. कुछ ने तंज कसते हुए लिखा कि ये लोग राजनीति बदलने आए थे. 

जब मामला बिगड़ने लगा, तब AAP ने उसी थ्रेड में और देशों के भी नाम जोड़े. पूरे दो घंटे बाद.

लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी. लोगों ने इसको लेकर भी खूब खरी-खोटी सुनाई. यूजर्स ने लिखा कि पार्टी का असली चेहरा सामने आ चुका है. दो घंटे बाद और देशों के नाम जोड़ने से वो और भी एक्सपोज हो चुकी है.

भारत में कोरोना वैक्सीन कम पड़ रहीं है. अभी तक सिर्फ़ तीन प्रतिशत लोगों को टीके की दोनों खुराक लग पाई है. कई जगहों पर वैक्सिनेशन सेंटर्स को बंद करना पड़ा है. वैक्सीन की कमी को लेकर लगातार भारत सरकार पर सवाल उठ रहे हैं. सरकार पर भारतीय लोगों की अनदेखी का आरोप है. इसकी एक बड़ी वजह है, भारत सरकार द्वारा कोरोना वैक्सीन का निर्यात. कुछ वैक्सीन तो WHO की कोवैक्स फ़ैसिलिटी के तहत बाहर भेजीं गई. कुछ खुराकें कॉमर्शियल डील का हिस्सा थीं, जबकि बाकी भारत ने दोस्ताना मदद के तौर पर दुनिया के देशों को दीं. विदेश मंत्रालय की वेबसाइट पर दर्ज़ आंकड़ों के अनुसार, अभी तक लगभग 6.63 करोड़ डोज भारत से बाहर भेजी जा चुकीं है.

भारत अब तक 95 देशों को वैक्सीन की मदद मुहैया करा चुका है. AAP के ट्वीट में पाकिस्तान का नाम सबसे ऊपर था. लेकिन ऑफ़िशियल लिस्ट में पाकिस्तान का कहीं नाम नहीं है. 10 मार्च की इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान को भारत में बनी ऑक्सफ़ोर्ड-एस्ट्राज़ेनेका वैक्सीन की 4.5 करोड़ डोज मिलने वाली थी. कोवैक्स फ़ैसिलिटी के जरिए. भारत इसे सीधे पाकिस्तान को नहीं देने वाला था. सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ़ इंडिया कोवैक्स प्रोग्राम के लिए भी वैक्सीन बना रहा है.

जब से भारत में कोरोना सुनामी आई है, भारत वैक्सीन के निर्यात पर रोक लगा चुका है. इस वजह से कोवैक्स प्रोग्राम की रफ़्तार काफी धीमी हो गई है. निर्यात पर रोक के बावजूद भारत में वैक्सीन की किल्लत है. इसको लेकर मोदी सरकार की कड़ी आलोचना भी हो रही है. वैक्सीन बाहर भेजने पर भी सवाल उठाए जा रहे हैं.

‘मोदी जी, हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेज दिया?’ 16 मई को भारत में ट्विटर इसी सवाल के नाम था. पूरा विपक्ष ये सवाल पूछ रहा था. सवाल के साथ एक मांग भी रखी जा रही थी. मुझे भी गिरफ़्तार करो. क्यों? दरअसल, इसी सवाल वाला पोस्टर लगाने के ज़ुर्म में 25 लोगों को अरेस्ट कर लिया गया था. बाद में पता चला कि पोस्टर लगाने वालों में से अधिकतर ऑटो ड्राइवर्स और दिहाड़ी मज़दूर थे. उन्हें पोस्टर के कंटेंट के बारे में कोई जानकारी नहीं थी. जब इस पोस्टर पर हंगामा बढ़ा, तब AAP ने कहा था कि इन पोस्टरों के पीछे उसका हाथ है.


वीडियो: दिल्ली में PM मोदी के खिलाफ पोस्टर चिपकाने के मामले में 25 लोग गिरफ्तार

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

सिनेमाहॉल के बाहर क्यों लगे 'अक्षय कुमार की फिल्म देखने वालों शर्म करो' के नारे?

सिनेमाहॉल के बाहर क्यों लगे 'अक्षय कुमार की फिल्म देखने वालों शर्म करो' के नारे?

पटियाला से एक वीडियो सामने आया है.

कंगना रनौत ने करण जौहर की फिल्म 'शेरशाह' की तारीफ में क्या कहा?

कंगना रनौत ने करण जौहर की फिल्म 'शेरशाह' की तारीफ में क्या कहा?

कंगना के तेवर कुछ बदले-बदले से नज़र आ रहे हैं.

सितंबर में आने वाली 11 हंगामाखेज़ फिल्में और वेब सीरीज़

सितंबर में आने वाली 11 हंगामाखेज़ फिल्में और वेब सीरीज़

'मनी हाइस्ट' और 'लुसिफ़र' के आखिरी पार्ट्स आने वाले हैं.

'शेरशाह' में काम करने से पहले सिद्धार्थ मल्होत्रा ने 5 बड़ी फ़िल्में छोड़ दीं, एक तो सलमान की थी

'शेरशाह' में काम करने से पहले सिद्धार्थ मल्होत्रा ने 5 बड़ी फ़िल्में छोड़ दीं, एक तो सलमान की थी

सिद्धार्थ अपने करियर में बड़े परेशान चल रहे थे, मगर 'शेरशाह' ने उनकी मुश्किलें काफी हद तक कम कर दी हैं.

टोनी कक्कड़ ने 'तुम तो ठहरे परदेसी' गाने के लिए जो सफाई दी उसे हज़म करना ज़रा मुश्किल है!

टोनी कक्कड़ ने 'तुम तो ठहरे परदेसी' गाने के लिए जो सफाई दी उसे हज़म करना ज़रा मुश्किल है!

टोनी का कहना है अल्ताफ राजा को उनका ये गाना बहुत पसंद आया है.

रणवीर सिंह की 'अपरिचित' की रीमेक बनने से पहले ही लीगल पचड़े में फंस गई!

रणवीर सिंह की 'अपरिचित' की रीमेक बनने से पहले ही लीगल पचड़े में फंस गई!

‘अन्नियन’ के रीमेक राइट्स को लेकर शुरू हुई कॉन्ट्रोवर्सी अभी भी जारी है.

एक्ट्रेस अर्शी ख़ान की अफ़ग़ानी क्रिकेटर से होने वाली सगाई ख़तरे में!

एक्ट्रेस अर्शी ख़ान की अफ़ग़ानी क्रिकेटर से होने वाली सगाई ख़तरे में!

वो जल्द ही अफगानिस्तान के क्रिकेटर से शादी करने वाली थी.

ज़ाकिर खान के 'सख्त लौंडा' के अलावा भी मस्त वन-लाइनर्स हैं बॉस, इधर देखिए तो सही

ज़ाकिर खान के 'सख्त लौंडा' के अलावा भी मस्त वन-लाइनर्स हैं बॉस, इधर देखिए तो सही

कुछ वन-लाइनर्स और कुछ कविताएं, पूरा जीवन दर्शन है यहां पर.

आने वाली 9 पीरियड फिल्में और वेब सीरीज़, जो भव्य पैमाने पर बन रही हैं

आने वाली 9 पीरियड फिल्में और वेब सीरीज़, जो भव्य पैमाने पर बन रही हैं

कुछ नामों का तो इंतज़ार सालों से हो रहा है.

अक्षय कुमार की 'बेल बॉटम' सऊदी अरब, कतर और कुवैत में बैन हो गई?

अक्षय कुमार की 'बेल बॉटम' सऊदी अरब, कतर और कुवैत में बैन हो गई?

'बेल बॉटम' की कहानी के कारण इसे इन तीन देशों में बैन किया गया है.