Submit your post

Follow Us

सच्ची कहानी पर आधारित इस स्पेस मूवी में होंगे आमिर और प्रियंका!

अंतरिक्ष में जाने वाले पहले भारतीय राकेश शर्मा की बायोपिक बनने जा रही है जिसका नाम रखा गया है - 'सैल्यूट'. इन 11 बातों में जानें सब कुछ.

22.22 K
शेयर्स

#1. ये फिल्म 2018 में रिलीज हो सकती है
अभी आमिर ख़ान ‘ठग्स ऑफ हिंदोस्तान’ की शूटिंग में बिजी हैं. इटली के बगल के यूरोपियन मुल्क माल्टा में इसकी शूटिंग शुरू हुई थी. मुंबई में शेड्यूल जारी है. अमिताभ बच्चन और फातिमा सना शेख़ भी इसमें हैं. इससे पहले ‘दंगल’ में आमिर के रेस्लर कैरेक्टर की बेटी का रोल फातिमा ने किया था. अपुष्ट जानकारी है कि ‘सैल्यूट’ में वे राकेश शर्मा की पत्नी मधु की भूमिका करेंगी. यशराज की ‘ठग्स..’ पूरी होने के बाद आमिर ‘सैल्यूट’ का शूट शुरू करेंगे. इसे 2018 के अंत में क्रिसमस तक रिलीज किया जा सकता है.

"ठग्स ऑफ हिंदोस्तान" की शूटिंग के दौरान आमिर और अमिताभ. (फोटोः इंस्टाग्राम)
“ठग्स ऑफ हिंदोस्तान” की शूटिंग के दौरान आमिर और अमिताभ. (फोटोः इंस्टाग्राम)

#2. राकेश शर्मा की कहानी 
भारत-पाकिस्तान बंटवारे में उनका परिवार मुल्तान से पंजाब के पटियाला आया. वहीं जन्मे राकेश शर्मा. बाद में उनका परिवार सिकंदराबाद (अब तेलंगाना में) के कैंटूनमेंट में आकर बस गया जहां उनकी मां आर्मी स्कूल में टीचर थीं. राकेश ने बाद में हैदराबाद के निज़ाम कॉलेज से अपना ग्रेजुएशन किया. फिर 18 की उम्र में इंडियन एयर फोर्स में कैडेट बन गए. ये 1966 की बात है. फिर वो नेशनल डिफेंस एकेडमी में भर्ती हुए. 1970 में उन्हें इंडियन एयर फोर्स में बतौर टेस्ट पायलट ले लिया गया.

वहीं 1984 में उन्हें स्क्वॉड्रन लीडर और पायलट बना दिया गया. पर उससे पहले सितंबर 1982 में भारत और सोवियत संघ के संयुक्त अंतरिक्ष कार्यक्रम में उनको चुना गया. 2 अप्रैल 1984 को कज़ाक़ सोवियत सोशलिस्ट रिपब्लिक के बाइकोनूर कॉस्मोड्रोम से सोवियत रॉकेट सोयूज टी-11 अंतरिक्ष में प्रक्षेपित किया गया जिसमें राकेश भी थे और उसी के साथ वे अंतरिक्ष में प्रवेश करने वाले पहले भारतीय हो गए.

सोयूज़ टी-11 के कॉस्मोनॉट मालिशेव, राकेश शर्मा और स्ट्रेकलॉव. दूसरी फोटो में राकेश सोवियत प्रोग्रैम की ट्रेनिंग लेते हुए. (फोटोः स्पेस पैचेज़/सोवियत विजुअल्स)
सोयूज़ टी-11 के कॉस्मोनॉट मालिशेव, राकेश शर्मा और स्ट्रेकलॉव. दूसरी फोटो में राकेश सोवियत प्रोग्रैम की ट्रेनिंग लेते हुए. (फोटोः स्पेस पैचेज़/सोवियत विजुअल्स)

उस रॉकेट में उनके साथ दो रूसी भी थे. इसके बाद भारत दुनिया के 14 ऐसे विशेष देशों की सूची में शामिल हो गया था जिन्होंने अंतरिक्ष में मानव भेजे थे. लौटने पर राकेश शर्मा को भारत ने शांतिकाल का सबसे ऊंचा वीरता पुरस्कार अशोक चक्र देकर सम्मानित किया. सोवियत संघ ने भी अपने मुल्क का सबसे ऊंचा पुरस्कार ‘हीरो ऑफ द सोवियत यूनियन’ प्रदान किया. इंडियन एयर फोर्स से वे विंग कमांडर की रैंक पर रिटायर हुए. इस वक्त वे 68 वर्ष के हैं और पत्नी के साथ कुन्नूर की पहाड़ियों के बीच बसे अपने घर में रहते हैं.

#3. फिल्म का नाम पहले कुछ और था
माना जा रहा है कि इस फिल्म का टाइटल पहले ‘सारे जहां से अच्छा’ था. वो इसलिए क्योंकि जब राकेश शर्मा अंतरिक्ष में थे और प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने जब उनसे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात की और पूछा कि, “ऊपर से भारत कैसा लगता है आपको?” तो शर्मा ने कहा था, “मैं बगैर किसी झिझक के कह सकता हूं कि, सारे जहां से अच्छा.”

#4. ‘सैल्यूट’ नाम रखने की असल वजह
राकेश शर्मा जिस स्पेस स्टेशन में ठहरे थे उसका नाम ‘सैल्यूट-7’ (Salyut 7) था इसलिए. वे इसी सैल्यूट-7 के चैंबर में मंडराते और बातें करते दिखाई दिए थे. अप्रैल 1982 से लेकर फरवरी 1991 तक ये सोवियत अंतरिक्ष केंद्र अस्तित्व में रहा था.

Salyut-7 स्पेस स्टेशन में शर्मा और एनातोली सोलोवयोव. इंडिया टुडे के कवर पर राकेश.
Salyut-7 स्पेस स्टेशन में शर्मा और एनातोली सोलोवयोव. इंडिया टुडे के कवर पर राकेश.
महेश मथाई.
महेश मथाई.

#5. डायरेक्टर महेश मथाई का बैकग्राउंड
‘सैल्यूट’ के डायरेक्टर होंगे महेश मथाई जो विज्ञापन फिल्में बनाने का लंबा अनुभव रखते हैं. उन्होंने 1999 में फीचर फिल्म ‘भोपाल एक्सप्रेस’ डायरेक्ट की थी जो 1984 की गैस त्रासदी पर आधारित थी जिसमें करीब 8000 लोग मारे गए थे. प्रसून जोशी और पीयूष पांडे से उन्होंने इस फिल्म को लिखवाया था जो आज एड फिल्मों में वरिष्ठ नाम हैं. इस फिल्म में शंकर-एहसान-लॉय ने म्यूजिक दिया था और यही इनकी जोड़ी का बॉलीवुड में डेब्यू वर्ष था.

विज्ञापन फिल्मों में महेश को पहला ब्रेक 1983 में चांसलर सिगरेट का एड बनाने से मिला था. फिर बहुत वर्षों तक वे विज्ञापन बनाते रहे. भारत में जब म्यूजिक वीडियो आ चुका था और लकी अली पहला एल्बम ‘सुनो’ बना रहे थे तो महेश ने मदद की. इसमें ‘ओ सनम’ गाने का वीडियो भी उन्होंने बनाया और प्रोड्यूस किया.

फिल्म भोपाल एक्सप्रेस के दृश्यों में नसीरुद्दीन शाह और केके मेनन.
फिल्म भोपाल एक्सप्रेस के दृश्यों में नसीरुद्दीन शाह और केके मेनन.

#6. बड़े बजट की ‘सैल्यूट’, कितना बिजनेस कर सकती है!
तीन प्रोड्यूसर मिलकर अपनी कंपनियों तले इस बड़े बजट की फिल्म को बना रहे हैं – आमिर ख़ान (AKP), रॉनी स्क्रूवाला (RKVP) और सिद्धार्थ रॉय कपूर (RKF). इनके साथ आमिर की ये फिल्म कमाई के सब रिकॉर्ड तोड़ सकती है और वो आंकड़ा 2,000 करोड़ रुपए तक जा सकता है. इसकी कई वजहें नजर आती हैं.

– तीनों फिल्म निर्माण के जीनियस हैं. रॉनी तो छोटा सा केबल कनेक्शन का काम करते थे और उसी कंपनी को देश की प्रमुख कंपनी यूटीवी बना दिया. सिद्धार्थ के नेतृत्व में पिछले तीन साल में डिज़्नी इंडिया भारत की बड़ी कंपनी बन चुकी है. उन्होंने आमिर के साथ मिलकर भारत की सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्म ‘दंगल’ बनाई. ‘पीके’ बनाई जो हाल तक टॉप ग्रॉसर थी. इस बार मार्केटिंग स्ट्रैटजी के लिहाज से इन तीनों का दिमाग कुछ नया कर सकता है क्योंकि ‘बाहुबली-2’ और ‘दंगल’ की भयंकर सफलता ने फिल्म निर्माण के सारे रूल बदलकर रख दिए हैं. और इनके लिए आजमाइश का वक्त है.

रॉनी स्क्रूवाला, सिद्धार्थ रॉय कपूर और आमिर खान.
रॉनी स्क्रूवाला, सिद्धार्थ रॉय कपूर और आमिर खान.

– ‘दंगल’ ने करीब 2000 करोड़ रुपए का वैश्विक बिजनेस किया है जो किसी ने सपने में भी नहीं सोचा था. आमिर की हर फिल्म उत्तरोत्तर आय बढ़ाती जाती है और ‘ठग्स ऑफ हिंदोस्तान’ और ‘सैल्यूट’ इसमें अगली कड़ियां लग रही हैं.

– पिछले कछ वर्षों में सलमान, आमिर जैसे हिंदी सितारों की फिल्में इतना अच्छा इसलिए कर रही हैं क्योंकि हर साल वे पहले से ज्यादा स्क्रीन्स पर फिल्में रिलीज कर रहे हैं. जितनी ज्यादा स्क्रीन होंगी उतनी ही ज्यादा कमाई.

– दंगल की कमाई ने भारत के हर भाषा के वितरकों और वैश्विक वितरकों को इतना भरोसा दे दिया है कि वे आमिर की अगली फिल्म को अभूतपूर्व संख्या में फिल्मी परदे देंगे. अगर भारत में फिल्म को करीब 6000 स्क्रीन और अमेरिका-चीन व अन्य देशों में 10,000 स्क्रीन मिलें तो सैल्यूट जरूर 2,000 करोड़ आसानी से कमा लेगी.

फिल्म दंगल के एक दृश्य में आमिर ख़ान और सान्या मल्होत्रा.
फिल्म दंगल के एक दृश्य में आमिर ख़ान और सान्या मल्होत्रा.

– इस कमाई में चीन फैक्टर सबसे खास है और आमिर उसके केंद्र में हैं. जैसे रूस के लोग राज कपूर के दीवाने थे, वैसे ही चीन के दर्शक आमिर के दीवाने हैं. हिंदी फिल्मों के लिए वहां बड़ा दर्शक वर्ग बनाने की शुरुआत आमिर ने ही की थी दिसंबर 2011 में जब ‘3 ईडियट्स’ वहां लगी. फिल्म ने जल्द ही 11 करोड़ कमा लिए थे जो तब बड़ी रकम थी. बाद में पायरेसी के जरिए फिल्म का क्रेज़ और फैला. वहां के युवाओं ने अपने स्कूली सिस्टम को भी वैसा ही पाया. बताते हैं कि ये फिल्म फिर चीन की 12वीं सबसे लोकप्रिय फिल्म बन गई. मई 2015 में आमिर की ‘पीके’ रिलीज हुई और उसने कीर्तिमान बना दिया. वो पहली भारतीय फिल्म हो गई जिसने चीनी टैरेटरी में 100 करोड़ से ज्यादा की कमाई की. और अब आमिर की फिल्म ‘दंगल’ ने सबको भौंचक्का कर दिया है. उसने चीन में ही 1,100 करोड़ रुपये से ज्यादा का बिजनेस किया है. अब कम से कम आमिर की फिल्मों का क्रेज़ वहां बन चुका है और ‘सैल्यूट’ को ज्यादा स्क्रीन मिलीं तो रिजल्ट कमाल होगा.

और पढ़ेंः दंगल का वो रिकॉर्ड जिसे तोड़ने में बाहुबली-2 बहुत पीछे है

#7. राकेश ने पहले बता दिया था हीरो कौन है!
इस फिल्म और उसमें आमिर के लीड रोल की पुष्टि अब हुई है. हालांकि इसकी चर्चा साल भर से थी. लेकिन इस बीच खुद राकेश शर्मा ने तीन महीने पहले बता दिया था कि आमिर खान उनका रोल करने वाले है. उन्होंने इस साल फरवरी में डेक्कन क्रॉनिकल से बात करते हुए बताया था, “आमिर मेरा रोल करने जा रहे हैं. लेकिन बाकी की कास्ट अब तय नहीं हुई है.”

राकेश शर्मा.
राकेश शर्मा.

#8. प्रियंका चोपड़ा भी इसमें काम करेंगी
‘सैल्यूट’ में प्रियंका के होने की अटकलें कुछ दिनों से चल रही थीं, डीएनए की एक रिपोर्ट की मानें तो अब पुष्टि हो गई है. कि वे फिल्म कर रही हैं. इसमें वे आमिर की पत्नी के रोल में नहीं होंगी बल्कि वे भी एक अंतरिक्षयात्री की भूमिका करेंगी. हालांकि उनका रोल बहुत बड़ा शायद नहीं होगा. लेकिन आमिर के साथ काम करने का मौका मिल रहा है और तीन बड़ी प्रोडक्शन कंपनियां इससे जुड़ी हैं इसलिए उन्होंने मना नहीं किया. ये भी जानने में आया है कि अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला की बायोपिक में भी प्रियंका फाइनल हो गई हैं.

एबीसी के टीवी शो 'क्वांटिको' के एक दृश्य में प्रियंका.
एबीसी के टीवी शो ‘क्वांटिको’ के एक दृश्य में प्रियंका.

#9. ‘ग्रैविटी’ जैसी पहली इंडियन फिल्म होगी ये
अपने सबजेक्ट की वजह से ‘सैल्यूट’ में काफी काम विजुअल इफेक्ट्स और ग्राफिक्स पर होगा. ठीक वैसा ही जैसा हॉलीवुड फिल्म ‘ग्रैविटी’ में हमने देखा था जो अंतरिक्षयात्रियों की कहानी थी और हैरान करने वाले विजुअल्स के लिए याद की जाती है. अनुमान है कि ‘सैल्यूट’ की कहानी में दो हिस्से होंगे. पहला – स्पेस मिशन से पहले राकेश शर्मा की लाइफ और दूसरा, उनका स्पेस मिशन के दौरान का अनुभव. ऐसे में अंतरिक्ष में बिताए उनके सारे दिनों को विजुअल इफेक्ट्स के जरिए ही दिखाया जाएगा.

"ग्रैविटी" फिल्म का एक दृश्य.
“ग्रैविटी” फिल्म का एक दृश्य.

राकेश शर्मा स्पेस में 7 दिन और 21.40 घंटे रुके थे. आमिर अपनी हर फिल्म में कुछ नया करते हैं. जैसे ‘दंगल’ की तैयारी के लिए उन्होंने वजन बढ़ा लिया जो उनसे पहले किसी ए-लिस्ट स्टार ने नहीं किया, चाहे अमिताभ हों, शाहरुख हों या सलमान. आमिर का इतना मोटा असल में होना ही हैरान करने वाला रहा दर्शकों के लिए. अब जब वे स्पेस मूवी बना रहे हैं तो इसमें विजुअल्स में अपनी प्रोडक्शन वैल्यू को साबित करेंगे ही. इस फिल्म की यूएसपी ही अंतरिक्ष के विजुअल्स होने वाले हैं. इस लिहाज से भी ये फिल्म बिजनेस में महत्वाकांक्षी होगी.

#10. ये प्रोजेक्ट आठ साल पुराना है
ये फिल्म लंबे समय से पाइपलाइन में थी. लेकिन किसी को भी अंदाजा नहीं था कि पिछले आठ साल से इसकी तैयारी चल रही है. इसका खुलासा खुद राकेश शर्मा ने किया जिनकी जिंदगी पर ‘सैल्यूट’ आधारित है. उन्होंने हाल ही में एक इंटरव्यू में बताया था, “ये (फिल्म की प्लानिंग) सब पिछले आठ साल से चल रहा है. अब इस बिंदु तक पहुंचने में इसे बहुत टाइम लग गया. ये फिल्ममेकर्स पहले अपने दूसरे प्रोजेक्ट्स में बिज़ी थे और मैं भी व्यस्त था. अभी मुझे नहीं पता कि फिल्म को कैसे हैंडल किया जाएगा.”

आमिर. राकेश.
आमिर. राकेश.

#11. फिल्म की ये बात आमिर नहीं जानते होंगे
आमिर को शायद पता नहीं होगा कि ‘सैल्यूट’ में वे जिन राकेश शर्मा का रोल करने जा रहे हैं उन्हीं के बेटे कपिल उनकी फिल्म ‘गजनी’ (2008) में असिस्टेंट डायरेक्टर थे. कपिल ‘दार्जिलिंग लिमिटेड’ और ‘आउटसोर्स्ड’ जैसी इंटरनेशनल फिल्मों में भी असिस्टेंट डायरेक्टर थे. 2013 में उन्होंने अपनी पहली फिल्म ‘आई, मी और मैं’ डायरेक्ट की जिसमें जॉन अब्राहम, चित्रांगदा सिंह और प्राची देसाई ने काम किया था.

और पढ़ें:
स्पेस मूवी ‘चंदा मामा दूर के’ की ये 10 बातें आप ज़रूर जानना चाहेंगे
राज कुमार के 42 डायलॉगः जिन्हें सुनकर विरोधी बेइज्ज़ती से मर जाते थे!
फ्रंटल न्यूडिटी देने वाली वो बहादुर भारतीय अभिनेत्री
केजरीवाल पर पांच साल से बन रही फिल्म अब रिलीज होगी
अनुराग कश्यप की बेहद एक्साइटिंग फिल्म ‘मुक्काबाज़’ का फर्स्ट लुक!
अनुष्का शर्मा की फिल्म ‘परी’ की 5 बातें जो आपको जाननी चाहिए!
प्यार के देवता यश चोपड़ा ने क्यों कहा था: ‘जो लव नहीं करते वो मर जाएं!’
Cannes की 8 धाकड़ फिल्में, जो ऐश्वर्या-सोनम के गाउन की खबरें भुला देंगी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

गैंग्स ऑफ वासेपुर की मेकिंग से जुड़ी ये 24 बातें जानते हैं आप?

अनुराग कश्यप के बड्डे के मौके पर जानिए दो हिस्सों वाली इस फिल्म के प्रोडक्शन से जुड़ी बहुत सी बातें हैं. देखें, आप कितनी जानते हैं.

फिल्म रिव्यू: छिछोरे

उम्मीद से ज़्यादा उम्मीद पर खरी उतरने वाली फिल्म.

ट्रेलर रिव्यू झलकीः बाल मजदूरी पर बनी ये फिल्म समय निकालकर देखनी ही चाहिए

शहर लाकर मजदूरी में धकेले गए भाई को ढूंढ़ती बच्ची की कहानी.

जब अपना स्कूल बचाने के लिए बच्चों को पूरे गांव से लड़ना पड़ा

क्या उनका स्कूल बच सका?

फिल्म रिव्यू: साहो

सह सको तो सहो.

संजय दत्त की अगली फिल्म, जो उन्हें सुपरस्टार वाला खोया रुतबा वापस दिला सकती है

'प्रस्थानम' ट्रेलर फिल्म के सफल होने वाली बात पर जोरदार मुहर लगा रही है.

सेक्रेड गेम्स 2: रिव्यू

त्रिवेदी के बाद अब 'साल का सवाल', क्या अगला सीज़न भी आएगा?

फिल्म रिव्यू: बाटला हाउस

असल घटना से प्रेरित होते हुए भी असलियत के बहुत करीब नहीं है. लेकिन बहुत फर्जी होने की शिकायत भी इस फिल्म से नहीं की जा सकती.

फिल्म रिव्यू: मिशन मंगल

फील गुड कराने वाली फिल्म.

दीपक डोबरियाल की एक शब्दशः स्पीचलेस कर देने वाली फिल्म: 'बाबा'

दीपक ने इस फिल्म में अपनी एक्टिंग का एवरेस्ट छू लिया है.