Submit your post

Follow Us

गहने बेच नरगिस ने चुकाया था राज कपूर का कर्ज

3 मई, 1981. इस दिन नरगिस ने दुनिया को अलविदा कहा. कैंसर की बीमारी थी. नरगिस राज्यसभा के लिए नॉमिनेट और पद्मश्री पुरस्कार पाने वाली पहली हीरोइन थीं. नरगिस की एक्टिंग का जलवा यूं समझिए कि 1968 में उन्हें बेस्ट एक्ट्रेस का पहला फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला. नरगिस के बचपन का नाम फातिमा राशिद था. करियर की शुरुआत तलाश-ए-हक फिल्म में बतौर चाइल्ड एक्टर की. उम्र थी महज 6 साल.

पहली बार नरगिस को लीड रोल मिला 1942 में. फिल्म का नाम था तमन्ना. लेकिन नरगिस को जिस फिल्म की वजह से लोग आज भी याद करते हैं वो हैमदर इंडिया. ऑस्कर में फॉरेन लेंगुएज कैटेगिरी में चुनी जाने वाली पांच फिल्मों में मदर इंडिया चुनी गई. उस साल का फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला था मदर इंडिया को.

किसी दौर में नरगिस और राज कपूर के अफेयर के चर्चे ज्यादातर की जुबां पर था. लोग चटखारे लेकर दोनों की बातें करते. चटखारे लेकर किस्से सुनते. आज हमको उन्ही में से कुछ किस्से पढ़ा रहे हैं.

1.नरगिस और राज कपूर की मुलाकात एकदम फिल्मी अंदाज में हुई थी. राजकपूर किसी फिल्म के सिलसिले में नरगिस की मां से मिलने गए थे. जद्दनबाई घर पर नहीं थीं. नरगिस उस समय पकौड़ियां तल रही थीं. जब नरगिस ने दरवाजा खोला तो उनके हाथों में बेसन लगा हुआ था, जो नरगिस के गाल पर भी लग गया था. राजकपूर को नरगिस का यह भोलापन भा गया.

2.नरगिस से पहली बार मिलते वक्त राज कपूर ने खुद को इंट्रो पृथ्वीराज कपूर के बेटे के रूप में दिया. लेकिन नरगिस राज कपूर को फिल्मों में देख चुकी थीं. राज कपूर को नरगिस के साथ अपनी पहली मुलाकात जिंदगी भर याद रही. इस असल किस्से को राजकपूर ने बॉबी फिल्म के एक सीन में हूबहू उतार दिया.

3. राज कपूर और नरगिस दोनों की पहली फिल्म आग थी. दोनों ने साथ में 16 फिल्में कीं. ज्यादातर फिल्मों को दर्शकों ने खूब पसंद किया. 9 सालों तक पर्दे पर राज-नरगिस की ये जोड़ी हिट बनी रही.

4.मुहब्बत के दुश्मन हर दौर में थे. नरगिस की मां जद्दनबाई को अपनी बेटी नरगिस की मुहब्बत रास नहीं आई. इसकी वजह से बरसात फिल्म के जो सीन कश्मीर में शूट किए जाने थे, उन्हें खंडाला और महाबलेश्वर में ही शूट करना पड़ा.

5.आवारा फिल्म की शूटिंग के दौरान एक गाने को फिल्माने के लिए ही राजकपूर ने 8 लाख रुपये खर्च कर दिए. जबकि पूरी फिल्म पर तब तक 12 लाख रुपये ही खर्च हुए थे. कहते हैं इसकी वजह से जब फिल्म ओवरबजट हो गई तो नरगिस ने अपने गहने बेचकर राज कपूर की मदद की. नरगिस का राजकपूर के लिए प्यार ही था कि फिल्म को सफल बनाने के लिए नरगिस ने उस जमाने में बिकिनी पहनी. रूस, चीन और अफ्रीकी देशों में भी फिल्म खूब चली.

6. नरगिस और राजकपूर शादी करना चाहते थे. पर राज कपूर के पिता पृथ्वीराज कपूर इसके सख्त खिलाफ थे. नरगिस और राजकपूर के बीच इतनी मुहब्बत थी कि नरगिस महाराष्ट्र के तत्कालीन गृहमंत्री मोरारजी देसाई से इसलिए मिलने चली गईं थीं, ताकि राजकपूर से शादी का कोई कानूनी रास्ता निकल सके.

7.नरगिस के भाई अख्तर हुसैन ने एक बार उनसे कहा कि राजकपूर लगातार हीरो पर केंद्रित फ़िल्में बनाकर उनका गलत फायदा उठा रहे हैं. धीरे-धीरे गलतफहमियां बढ़ीं और दोनों के रिश्ते में दरार पड़ने लगी. राजकपूर जब 1954 में मॉस्को गए तो अपने साथ नरगिस को भी ले गए. लोगों ने वहां नरगिस को राजकपूर की बीवी समझ. चारों तरफ बस राजकपूर की ही पूछ थी. इससे दोनों के बीच इगो की तकरार हुई जो इतनी बढ़ी कि यात्रा आधी छोड़कर नरगिस इंडिया लौट आईं. हालांकि वादा था तो नरगिस ने ‘जागते रहो’ की शूटिंग पूरी की. लेकिन RK स्टूडियो बैनर के साथ ये नरगिस की आखिरी फिल्म थी.

8.इसके बाद जब नरगिस ने 1957 में महबूब खान की मदर इंडिया साइन की तो राजकपूर को बताया तक नहीं. मदर इंडिया की शूटिंग के दौरान सेट पर आग लग गई. सुनील दत्त ने अपनी जान पर खेलकर नरगिस को बचाया और दोनों में प्यार हो गया. मार्च, 1958 में दोनों की शादी हो गई. दोनों के तीन बच्चे हुए, संजय, प्रिया और नम्रता. साल 1981 में आज ही के दिन 3 मई को नरगिस दुनिया छोड़ गईं.


 

  • अविनाश विवेक

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

ये गेम आस्तीन का सांप ढूंढना सिखा रहा है और लोग इसमें जमकर पिले पड़े हैं!

ये गेम आस्तीन का सांप ढूंढना सिखा रहा है और लोग इसमें जमकर पिले पड़े हैं!

पॉलिटिक्स और डिप्लोमेसी वाला खेल है Among Us.

फिल्म रिव्यू- कार्गो

फिल्म रिव्यू- कार्गो

कभी भी कुछ भी हमेशा के लिए नहीं खत्म होता है. कहीं न कहीं, कुछ न कुछ तो बच ही जाता है, हमेशा.

फिल्म रिव्यू: सी यू सून

फिल्म रिव्यू: सी यू सून

बढ़िया परफॉरमेंसेज़ से लैस मजबूत साइबर थ्रिलर,

फिल्म रिव्यू- सड़क 2

फिल्म रिव्यू- सड़क 2

जानिए कैसी है संजय दत्त, आलिया भट्ट स्टारर महेश भट्ट की कमबैक फिल्म.

वेब सीरीज़ रिव्यू- फ्लेश

वेब सीरीज़ रिव्यू- फ्लेश

एक बार इस सीरीज़ को देखना शुरू करने के बाद मजबूत क्लिफ हैंगर्स की वजह से इसे एक-दो एपिसोड के बाद बंद कर पाना मुश्किल हो जाता है.

फिल्म रिव्यू- क्लास ऑफ 83

फिल्म रिव्यू- क्लास ऑफ 83

एक खतरनाक मगर एंटरटेनिंग कॉप फिल्म.

बाबा बने बॉबी देओल की नई सीरीज़ 'आश्रम' से हिंदुओं की भावनाएं आहत हो रही हैं!

बाबा बने बॉबी देओल की नई सीरीज़ 'आश्रम' से हिंदुओं की भावनाएं आहत हो रही हैं!

आज ट्रेलर आया और कुछ लोग ट्रेलर पर भड़क गए हैं.

करोड़ों का चूना लगाने वाले हर्षद मेहता पर बनी सीरीज़ का टीज़र उतना ही धांसू है, जितने उसके कारनामे थे

करोड़ों का चूना लगाने वाले हर्षद मेहता पर बनी सीरीज़ का टीज़र उतना ही धांसू है, जितने उसके कारनामे थे

कद्दावर डायरेक्टर हंसल मेहता बनायेंगे ये वेब सीरीज़, सो लोगों की उम्मीदें आसमानी हो गई हैं.

फिल्म रिव्यू- खुदा हाफिज़

फिल्म रिव्यू- खुदा हाफिज़

विद्युत जामवाल की पिछली फिल्मों से अलग मगर एक कॉमर्शियल बॉलीवुड फिल्म.

फ़िल्म रिव्यू: गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल

फ़िल्म रिव्यू: गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल

जाह्नवी कपूर और पंकज त्रिपाठी अभिनीत ये नई हिंदी फ़िल्म कैसी है? जानिए.