Submit your post

Follow Us

जब फंसी पिच्चर को आगे निकालने खुद गणेश जी आ पहुंचे

1.09 K
शेयर्स

गणेश जी हैं विघ्नहर्ता. मुंबई वालों के फेवरेट भगवान. बॉलीवुड भी इन पर है फिदा. तभी तो गानों और कहानियों में गणपति बाप्पा खूब दिखे हैं. आपने शायद गौर न किया हो, कई ऐसे मौके भी आए हैं फिल्म की पूरी कहानी ही बाप्पा के सहारे आगे बढ़ी. हम बताते हैं कब-कब:

1. टक्कर

एक तरफ भगवान गणेश की झांकी, दूसरी तरफ बीच सड़क पर नाच रहे हैं संजीव कपूर और जितेंद्र. जान लीजिए कि झांकी निकालने वालों की खिल्ली उड़ा रहे हैं. आप कहेंगे - भगवान के काम में बाधा. पाकिस्तान भेज दो सुसुरों को. पर रुकिए वो भगवान का नहीं, भगवान के नाम पर जनता का माल दबाने वालों का मजाक उड़ा रहे हैं.

2. दर्द का रिश्ता

इस फिल्म के पीछे का किस्सा बड़ा भला है. सुनील दत्त ने फिल्म के पहले एक ऐलान किया था. फिल्म की सारी कमाई वो कैंसर और ऑटिज्म से पीड़ित बच्चों की मदद के लिए देंगे. असर ये कि फिल्म ने कैंसर के प्रति जागरूकता बढ़ाने की कोशिश की. फिल्म में सुनील दत्त की बिटिया खुशबू को कैंसर है. अस्पताल में एडमिट होते हुए भी उसे गणपति विसर्जन याद आता है. अपने पापा को वो गणपति विसर्जन पर भेजती है. सुनील दत्त उधर गणेश जी को लेकर चल रहे होते हैं. इधर अस्पताल में खुशबू का डॉक्टरी इलाज चल रहा होता है. माने सेंटी सीन है यार!

3. अग्निपथ

बच्चन अमिताभ वाली 'अग्निपथ' की बात कर रहे हैं. इस वाले गाने में,विजय दीनानाथ चौहान फैमिली पर्सन की तरह धर्म-कर्म में लगे नजर आते हैं. वहीं कांचा चीना का आतंक बढ़ रहा होता है. गणपति जी की विदाई के बीच अमिताभ पर हमले की तैयारी होती नजर आती है. आपको कहानी न सुहाए तब भी गाना देखिए. बोनस में मिथुन का डांस देखने मिलेगा.

4. हमसे बढ़कर कौन

मिथुन का नाम लिया, मिथुन फिर आ गए. इस बार अमजद खान, डैनी डेंग्जोंग्पा, रंजीत. सब साथ में हैं इस गाने में. बड़ी श्रद्धा के साथ भजन कर रहे हैं. लेकिन ये दिखावा है गुरु. 'भक्त' तो बस फेसबुक पर बचे हैं. ये सारे तो गणेश जी के गले से हार उड़ाने के चक्कर में जुटे हैं.

5. वास्तव

ये वो आरती है जो अकसर लोगों की रिंगटोन में बजती है. गाने के ठीक पहले इंस्पेक्टर कदम, रघु के गुर्गों को चेताता है. रघु माने संजय दत्त के पास न जाओ. तुम्हारे एनकाउंटर का पर्चा फट चुका है. बेचारे डर कर भागते हैं लेकिन पुलिस के हत्थे चढ़ ही जाते हैं. इधर आरती होती रहती है उधर रघु के साथी गिन-गिन के मारे जाते हैं. आरती खत्म होते-होते रघु का भी नंबर आ जाता है. बेचारा दबी में अपना जी बचा के निकल लेता है.

6. आन: मेन एट वर्क

गणपति विसर्जन का दिन है. सारा मुंबई गणपति डांस कर रहा है. ऐसे में अन्ना यानी सुनील शेट्टी चल पड़ते हैं गुंडों के ठिकाने पर छापा मारने. वो भी अकेले. बड़ी गोलियां चलती हैं. मार पीतलय-पीतल बिखरता है. उधर ढोल-नगाड़े बज रहे होते हैं. इधर धांय-धांय. अन्ना टें बोल जाते हैं. गणेश आरती का दिया जलता रहता है. अन्ना की जिंदगी का बुझ जाता है.

7. अग्निपथ

ये रितिक वाली अग्निपथ है. मांडवा से कांचा चीना का एक गुंडा कमिश्नर गायतोंडे को मारने के लिए आया है. इसके पहले कि वो गणेश विसर्जन के बीच गायतोंडे को गोली मार सके. अपना हीरो चलते गाने में गुंडे के पेट में चाक़ू भोंक देता हैं. आवाज गूंजती है 'नाम विजय चौहान. विजय दीनानाथ चौहान पूरा नाम. बाप का नाम मास्टर दीनानाथ चौहान. गांव मांडवा'. आहाहा,क्या दृश्य है. साधो! जाने मांडवा के नाम का डर था या रितिक की पीली आंखों का. गुंडा वहीं टें हो जाता है. टीवी पर विजय की अम्मा से लेकर कांचा चीना तक गुंडे का मरना देखते हैं और आप समझ जाते हैं अब कौनो बड़ा कांड होने वाला है.

8 . ABCD: एनीबडी कैन डांस

केके मेनन की एकेडमी से निकाले जाने के बाद प्रभुदेवा पहली बार अपने होने वाले चेले-चपाटियों को देखते हैं. उस वक़्त वो गणपति डांस करते हुए एक-दूसरे का कपार फोड़ देने पर उतारू होते हैं. सलमान और धर्मेश छाती भिड़ा-भिड़ा कर ताल ठोंकते हैं. इस सबके बीच प्रभु देवा को इन लउंडो में आशा की किरण दिखती है. बाद में यही लड़के प्रभु देवा की छाती चौड़ी करने वाला काम करते हैं.


ये स्टोरी ‘दी लल्लनटॉप’ के लिए आशीष ने की थी.


ये भी पढ़ें:

गणेश चतुर्थी: दुनिया के पहले स्टेनोग्राफर के पांच किस्से

अच्छे जीवनसाथी के लिए सिर्फ औरतें व्रत करें, क्योंकि मर्द तो पहले से अच्छे होते हैं

सूर्यग्रहण से डरने की जरूरत प्रेगनेंट महिलाओं को नहीं, किसी और को है!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
8 occasions in bollywood when ganapati became the hero

पोस्टमॉर्टम हाउस

भारत: मूवी रिव्यू

जैसा कि रिवाज़ है ईद में भाईजान फिर वापस आए हैं.

बॉल ऑफ़ दी सेंचुरी: शेन वॉर्न की वो गेंद जिसने क्रिकेट की दुनिया में तहलका मचा दिया

कहते हैं इससे अच्छी गेंद क्रिकेट में आज तक नहीं फेंकी गई.

मूवी रिव्यू: नक्काश

ये फिल्म बनाने वाली टीम की पीठ थपथपाइए और देख आइए.

पड़ताल : मुख्यमंत्री रघुवर दास की शराब की बदबू से पत्रकार ने नाक बंद की?

झारखंड के मुख्यमंत्री की इस तस्वीर के साथ भाजपा पर सवाल उठाए जा रहे हैं.

2019 के चुनाव में परिवारवाद खत्म हो गया कहने वाले, ये आंकड़े देख लें

परिवारवाद बढ़ा या कम हुआ?

फिल्म रिव्यू: इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड

फिल्म असलियत से कितनी मेल खाती है, ये तो हमें नहीं पता. लेकिन इतना ज़रूर पता चलता है कि जो कुछ भी घटा होगा, इसके काफी करीब रहा होगा.

गेम ऑफ़ थ्रोन्स S8E6- नौ साल लंबे सफर की मंज़िल कितना सेटिस्फाई करती है?

गेम ऑफ़ थ्रोन्स के चाहने वालों के लिए आगे ताउम्र की तन्हाई है!

पड़ताल: पीएम मोदी ने हर साल दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने की बात कहां कही थी?

जानिए ये बात आखिर शुरू कहां से हुई.

मूवी रिव्यू: दे दे प्यार दे

ट्रेलर देखा, फिल्म देखी, एक ही बात है.

क्या वाकई सलमान खान कन्हैया कुमार की बायोपिक में काम करने जा रहे हैं?

बताया जा रहा है कि सलमान इसके लिए वजन कम करेंगे और बिहारी हिंदी बोलना सीखेंगे.