Submit your post

Follow Us

लंचबॉक्स से दस साल पहले साथ में ये फिल्म की थी इरफान और नवाज ने

8.70 K
शेयर्स

नवाज़ुद्दीन के लाइमलाइट में आने से पहले के काम की बात करें, तो लोग सरफरोश के उस 6 सेकंड वाले सीन पर जा अटकते हैं. लेकिन उसके अलावा भी नवाजुद्दीन की एक दुनिया थी. नवाज हीरो बनने से पहले कई शॉर्ट फिल्में कर चुके थें, जिन्हें अब देखने से समझ आता है कि उस वक्त वह कितने प्रॉमिसिंग थे.

क्योंकि हम खुदा के नेक बंदे हैं और हमारा काम है आप तक अच्छी चीजें पहुंचाना. तो ये देखिए और धन्यवाद दीजिए हमारा. नवाज के काम को देखिए और खुश हो जाइए कि आप भी सिनेमा के उस बदलते दौर का हिस्सा हैं जहां नवाज़ जैसे कलाकार नाम कमा रहे हैं.

1. Bypass (2003)

15 मिनट की इस फिल्म में लालच, हिंसा और भ्रष्टाचार का वो रूप दिखाया गया है, जो आपको लिजलिजी घिन से भर देगा. अंत चौंकाता है और ये बता जाता है कि जहां बुराई है वहां बुरे से भी ज्यादा बुरा कुछ हो सकता है.

2. Recycle Mind (2007)

‘रिसाइकल माइंड’ नवाज़ की मज़ेदार शॉर्ट फिल्म्स में से एक है. किस तरह नवाज़ एक कबाड़ी से डेंटिस्ट बनने का सफर तय करते हैं. देखिए, हंसी आएगी दनादन.

3. OP STOP SMELLING UR SOCKS (2010)

चलती गाड़ी के अंदर शूट की गई ये फिल्म. देखिए कैसे विंडो सीट पाने की जद्दोजहद कर रहा है अपना हीरो.

4. Salt 'N' Pepper (2007)

बॉयफ्रेंड से झगड़ा हुआ है. घर में अकेली लड़की फांसी लगाने जा रही है. नवाज़ चोरी करने घर में घुसते हैं, पर वो चोर नही हैं. ऐसा क्या होता है कि नवाज़ जो चुराना चाहते थे. वो पाकर भी नहीं लेते और लड़की मरने का इरादा छोड़ देती है. शॉर्ट फिल्म ख़त्म होने पर आप वो चीज महसूस करते हैं.

5. Mehfuz (2013)

यह फिल्म जब आई तो नवाज स्टार हो चुके थे. फिर भी इसे इस लिस्ट में शामिल करने का मोह हम नहीं छोड़ पा रहे. इस शॉर्ट फिल्म के डायरेक्टर रोहित पांडे ने बनारस में रिक्शे से नवाजुद्दीन का पीछा किया था क्योंकि वे उन्हें अपनी स्टोरी सुनाना चाहते थे. तब तक नवाज़ सुर्ख़ियों में आने लगे थे. नवाज़ ने कहानी सुनी और फिल्म करने को तैयार हो गए. कहानी मुर्दाघाट में काम करने वाले एक शख्स की है जो ऐसे शहर में है जहां मुर्दे ज्यादा हैं और इंसान कम. ऐसे में क्या बदलता है जब एक रात के अंधेरे में उसे एक अकेली लड़की सड़क पर मिल जाती है.

(This story first published on 19th december, 2015)

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
5 short films of Nawazuddin Siddiqui

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू: मेरे प्यारे प्राइम मिनिस्टर

क्या हुआ, जब झोपड़पट्टी में रहने वाले एक लड़के ने प्रधानमंत्री को ख़त लिखा!

फिल्म रिव्यू: बदला

इस फिल्म का अपना फ्लो है, जो आप चाह कर भी खराब नहीं कर सकते. मगर आपने अगर कोई भी एक सीन मिस कर दिया, तो फिल्म से कैच अप नहीं पाएंगे.

फिल्म रिव्यू: लुका छुपी

कम से कोई तो ऐसी फिल्म है, जो एक ऐसे मुद्दे के बारे में बात कर रही है, जिसका नाम भी बहुत सारे लोग सही से नहीं ले पाते. जो हमें अनकंफर्टेबल करते हुए भी हंसने पर मजबूर कर रही है.

सोन चिड़िया : मूवी रिव्यू

"सरकारी गोली से कोई कभऊं मरे है. इनके तो वादन से मरे हैं सब. बहनों, भाइयों..."

टोटल धमाल: मूवी रिव्यू

माधुरी दीक्षित, अनिल कपूर, अजय देवगन, रितेश देशमुख, अरशद वारसी, जावेद ज़ाफ़री, बोमन ईरानी, संजय मिश्रा, महेश मांजरेकर, जॉनी लीवर, सोनाक्षी सिन्हा और जैकी श्रॉफ की आवाज़.

Fact Check: पुलवामा हमले में शहीद के अंतिम संस्कार को ऊंची जाति वालों ने रोका?

उत्तर प्रदेश में शहीद को दलित होने की सजा देने की खबर वायरल है.

गली बॉय देखने वाले और नहीं देखने वाले, दोनों के लिए फिल्म की जरूरी बातें

'गली बॉय' डेस्परेट फिल्म है, वो बहुत कुछ कहना चाहती है. कहने की कोशिश करती है. सफल होती है. और खत्म हो जाती है

फिल्म रिव्यू: गली बॉय

इन सबका टाइम आ गया है.

मुगले-आजम आज बनती तो Hike पर पिंग करके मर जाता सलीम

आज मधुबाला का बड्डे है

क्या कमाल अमरोही से शादी करने के लिए मीना कुमारी को हलाला से गुज़रना पड़ा था?

कहते हैं उनका निकाह ज़ीनत अमान के पिता से करवाया गया था.