Submit your post

Follow Us

वो 5 वजहें, जिनके चलते अक्खा इंडिया सूर्यवंशम के हीरा ठाकुर से प्रेम करता है

10.67 K
शेयर्स

21 मई, 1999. सेट मैक्स चैनल वालों के लिए वैसा ही पावन दिन जब पृथ्वी पर भगवान अवतरित होते हैं. यही वो महान तारीख है, जब ‘हीरा ठाकुर’ हुए थे. जिन्हें आगे चल के मैक्स वालों ने गोद ले लिया. 20 साल पूरे हो गए इस दुर्घटना को. अब हम ‘हुआ छोकरा जवां रे’ वाला गौहर ख़ान का डांस तो नहीं दिखा सकते, लेकिन ख़ुशी हमें भी उतनी ही हुई है जितनी समस्त भारतवर्ष को.

खैर ये सब छोड़ते हुए आज इसका हैप्पी बड्डे मनाने का मन है हमारा.

maxresdefault

तो आज हम इस कालजयी फिल्म के बहाने हीरा ठाकुर की बात करेंगे. वो आदमी जो क्यूटियापे की तमाम सीमाएं लांघ चुका है. बकौल हीरा की एक्स ‘गरिल-फिरेंड’, हीरा जैसा पैदा हुआ था वैसा ही है, सिर्फ कद बड़ा हुआ है. और कपड़े पहनने लगा है. जो बात गौरी नहीं जानती वो ये कि यही बात हीरा की क्यूटनेस का एक्स फैक्टर है (जो भी वो होता हो).

हीरा क्यूट तो है ही, हिम्मती भी कम नहीं है. अरे जो आदमी पूरी फिल्म में अपनी एक्स गर्लफ्रेंड का वॉइस ओवर सुनते हुए नहीं डरा, उसकी हिम्मत पर कौन शक़ कर सकता है! हीरा ठाकुर इतना प्यारा है, इतना प्यारा है, इतना प्यारा है कि हम बताना ही नहीं चाहते कितना प्यारा है. बस ये अटल सत्य जान लीजिए कि हमें उससे बेइंतेहा, बेशुमार, बेशर्मी की हद तक प्यार है. वजहें आपको बताते हैं.

1.

हीरा ठाकुर इकलौता ऐसा आदमी है जो आधे किलोमीटर दूर से गाना गा कर बच्चा सुला सकता है. और वो भी लोरी नहीं बल्कि प्रेमगीत! इतनी काबिलियत वाले इंसान से मिल के आप कुछ नहीं कर सकते. सिवाय बलिहारी जाने के. नीलेश मिसरा के शो से ज़्यादा तगड़ी नींद की खुराक अपना हीरा ठाकुर दे सकता है. इधर गाना शुरू, उधर पूरा गांव मानो गांजे के नशे में. और ये कोई छोटी-मोटी उपलब्धि नहीं है.

2.

हीरा ठाकुर ही वो अकेला शख्स है जिसके ऊपर कुमार शानू और सोनू निगम, दोनों का प्लेबैक बराबर खराब लगता है. समझ में नहीं आता कि ये बंदा बिना सुदेश भोसले के सर्वाइव कैसे कर गया? और कुछ नहीं तो उससे खुद गवा लेते. लेकिन सोनू निगम! शिव शिव शिव!

3.

हीरा ठाकुर सिर्फ डांस कर के वाइफ को प्रेग्नेंट कर सकता है. इस तरह वो तमाम सेक्स क्लिनिक्स, हाशमी दवाखाने, जो लिंगवर्धक दवाएं बेचकर आपको संतान प्राप्ति की गारंटी देते हैं, सबको ठेंगा दिखा देते हैं. बायोलॉजी को इतनी खुली चुनौती मानव इतिहास में पहले किसी ने दी हो, ऐसा हमें तो याद नहीं. एक ही गाने में इश्कबाज़ी भी, प्रेगनेंसी भी, डिलीवरी भी. यहां तक कि बच्चा 7-8 साल का भी हो जाता है और उसकी अम्मा कलेक्टर भी बन जाती है. टाइम मशीन अगर दुनिया में कहीं है तो वो हीरा ठाकुर के पास ही है.

4.

हीरा ठाकुर से बड़ा फेमिनिस्ट उस ज़माने में पचास-पचास कोस दूर तक नहीं था. उसने जब बस सेवा शुरू की तो उसके चेलों ने एक महिला को कंडक्टर बना दिया. तब हीरा ठाकुर ने उसे नौकरी से निकाल ऑब्जेक्टिफिकेशन से बचाया. ट्रांसपोर्टेशन की दुनिया में इससे ज़्यादा क्रांतिकारी घटना सिर्फ तभी हुई थी, जब पहिये का अविष्कार हुआ था. फिर इतनी मात्रा में इकट्ठी क्रांति कभी नहीं आई. नारी उत्थान में उसका ये योगदान सोने की कलम से मखमल की चादर पर लिख कर बकिंगहैम पैलेस में टांग दिया गया है. उसके बाद हीरा ठाकुर ने पत्नी को जबरन कलेक्टर बनाया. इसे कहते हैं प्रगतिशील.

5.

तरक्की को जिस रफ़्तार से हीरा ठाकुर के जीवन में उतरते देखा लोगों ने वो सिर्फ तभी मुमकिन है जब आप हीरा ठाकुर हो. और कोई विकल्प ही नहीं है. एक बस बना के आप इतना पैसा छाप लेते हो कि कुछ ही दिनों में बाप के नाम पर अस्पताल खड़ा हो जाता है. मुझे तो लगता है कि सूर्यवंशम अगर और आगे चलती तो हीरा ठाकुर हर एक गांव वाले को पर्सनल स्पेस शटल गिफ्ट करते दिखाई देते. पर ये हो न सका और कमबख्तों ने कोई सिक्वल भी नहीं बनाया फिल्म का.

तो आइए इस पावन अवसर पर सब लोग सच्चे दिल से प्रार्थना करते हैं कि हीरा ठाकुर नाम के इस कोहिनूर की चमक सदा बनी रहे. चाहे दुनिया डूब जाए, चाहे एलियंस का हमला हो जाए, चाहे क़यामत का दिन आ पहुंचे, चाहे इवॉल्युशन की प्रक्रिया में धरती का नामोनिशान मिट जाए, बस सेट मैक्स चैनल और हीरा ठाकुर बचा रहे. हमें और कुछ नहीं चाहिए प्रभु!


ये भी पढ़ें:

नाग-नागिन की वो झिलाऊ फिल्में, जो आपको किडनी में हार्ट अटैक दे जाएंगी

नाम से नहीं किरदार से जाने जाते हैं ये कलाकार

कुमकुम भाग्य में अटके दुखियारों, ये 5 TV शो देखो

6 विवादित फिल्में जिनमें धाकड़ औरतें देख घबरा गया सेंसर बोर्ड

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
5 reasons why we love Heera Thakur from movie Sooryavansham

पोस्टमॉर्टम हाउस

मूवी रिव्यू: गेम ओवर

थ्रिल, सस्पेंस, ड्रामा, मिस्ट्री, हॉरर का ज़बरदस्त कॉकटेल है ये फिल्म.

भारत: मूवी रिव्यू

जैसा कि रिवाज़ है ईद में भाईजान फिर वापस आए हैं.

बॉल ऑफ़ दी सेंचुरी: शेन वॉर्न की वो गेंद जिसने क्रिकेट की दुनिया में तहलका मचा दिया

कहते हैं इससे अच्छी गेंद क्रिकेट में आज तक नहीं फेंकी गई.

मूवी रिव्यू: नक्काश

ये फिल्म बनाने वाली टीम की पीठ थपथपाइए और देख आइए.

पड़ताल : मुख्यमंत्री रघुवर दास की शराब की बदबू से पत्रकार ने नाक बंद की?

झारखंड के मुख्यमंत्री की इस तस्वीर के साथ भाजपा पर सवाल उठाए जा रहे हैं.

2019 के चुनाव में परिवारवाद खत्म हो गया कहने वाले, ये आंकड़े देख लें

परिवारवाद बढ़ा या कम हुआ?

फिल्म रिव्यू: इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड

फिल्म असलियत से कितनी मेल खाती है, ये तो हमें नहीं पता. लेकिन इतना ज़रूर पता चलता है कि जो कुछ भी घटा होगा, इसके काफी करीब रहा होगा.

गेम ऑफ़ थ्रोन्स S8E6- नौ साल लंबे सफर की मंज़िल कितना सेटिस्फाई करती है?

गेम ऑफ़ थ्रोन्स के चाहने वालों के लिए आगे ताउम्र की तन्हाई है!

पड़ताल: पीएम मोदी ने हर साल दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने की बात कहां कही थी?

जानिए ये बात आखिर शुरू कहां से हुई.

मूवी रिव्यू: दे दे प्यार दे

ट्रेलर देखा, फिल्म देखी, एक ही बात है.