Submit your post

Follow Us

वो 5 ठां मलयाली फिल्में, जो आपको सारी हिंदी फिल्में छोड़कर फुर्ती में देख डालनी चाहिए

लॉकडाउन चल रहा है. जीवन रुक गया है. हम सब खाली हैं. और खुद को भरने का समय है. इस प्रोसेस में कुछ लोग किताबें पढ़ रहे, कुछ सिनेमा देख रहे. हम दूसरी वाली कैटेगरी में जैसे-तैसे फिट होते हैं. आमतौर पर हमारा फोकस हिंदी और अंग्रेजी फिल्मों पर ज़्यादा रहता है. हिंदी वाली समझ आती हैं और अंग्रेज़ी से अपने फ्रेंड सर्किल में कूल साउंड करते हैं. अप्रूवल रेटिंग बढ़ जाती है. लेकिन अभी समय है. एक्सप्लोर करने का. इसलिए आज हम पांच मलयाली भाषा की फिल्मों की बात करेंगे. ये ऐसी फिल्में हैं, जिन्हें देखने के बाद आप खुद से बात करेंगे. रोमैंटिसाइजेशन छोड़, मेरी मूवी लिस्ट की ओर चलते हैं.

Meri Movie List Lallantop Movie Series Books Recommendation Series Copy
यहां क्लिक करें और हमारे बाकी साथियों की पसंदीदा फिल्मों के बारे में भी जानें.

1) महेशिन्ते प्रतिकारम (2016)

डायरेक्टरदिलीश पोथन

बेसिक प्लॉट– केरल के इड्डुकी मेंf महेश नाम का एक फोटोग्रफर रहता है. उसके स्डूडियो के ठीक बगल में बेबी नाम के बंदे की फ्लेक्स बोर्ड छापने की दुकान है, जो महेश का बेस्ट फ्रेंड है. एक दिन सड़क से गुज़र रहे लफंगों के साथ बेबी की बहस हो जाती है. बेबी का असिस्सेंट क्रिस्पिन हिंसक हो जाता. बात बढ़ने लगती है. महेश लड़ाई शांत करवाने जाता है लेकिन उस लफंगे का दोस्त जिमसन महेश को पीटकर जमीन पर गिरा देता है. इस चीज़ से अपमानित महेश गांववालों के सामने प्रण करता है कि वो जब तक जिमसन से बदला नहीं लेगा, पैर में कभी चप्पल नहीं पहनेगा. ये थी तो बदले की कहानी लेकिन कॉमिक फ्लेवर के साथ. आउट ऑफ द बॉक्स कॉन्टेंट, अच्छा डायरेक्शन और क्लीन एंटरटेनमेंट.

खास बातें– ये चीज़ फिल्म के राइटर श्याम पुष्करन के गांव में घटी असल घटना से प्रेरित थी. ये कहानी श्याम ने बचपन में सुनी थी. इसे बेस्ट मलयाली फीचर फिल्म का नेशनल अवॉर्ड मिला था.

कहां देख सकते हैंयूट्यूब

फिल्म के एक सीन में महेश नाम के फोटोग्रफर का टाइटल कैरेक्टर प्ले करने वाले क्रिटिक्ली अक्लेम्ड एक्टर फहाद फाज़िल.
फिल्म के एक सीन में महेश नाम के फोटोग्रफर का टाइटल कैरेक्टर प्ले करने वाले क्रिटिक्ली अक्लेम्ड एक्टर फहाद फाज़िल.

2) अंगमली डायरीज़ (2017)

डायरेक्टर- लिजो जोस पेलिसेरी

बेसिक प्लॉट– केरल के अंगमली में एक लड़का रहता है पेपे. वो बचपन से अपने सीनियर्स की तरह बनना चाहता है. वो चाहता है कि उसका भी एक गैंग हो, जिनसे सब लोग डरें. वो अपना गैंग बना लेता है. छोटी-मोटी लड़ाइयां प्यार-व्यार चलता रहता है इनका. पेपे अपना केबल बिज़नेस बंद करके पॉर्क बिज़नेस में आता है. सबकुछ सही चल रहा था कि गलती से पेपे के हाथों दूसरे गैंग के मेंमर का मर्डर हो जाता है. पेपे और उसका गैंग वहां से कैसे निकलते हैं, ये कहानी इतनी ही है. लेकिन वो पूरे खालिसपने के साथ कही गई है. इस फिल्म की सबसे खास बात ये है कि यहां जो जैसा है, वैसा ही है. उसके साथ छेड़छाड़ करके उसे पॉलिटिकली करेक्ट बनाने की कोशिश नहीं है. यहीं ये मस्ट वॉच बन जाती है.

खास बातें– इस फिल्म से टोटल 86 लोगों ने अपना डेब्यू किया था. इसमें फिल्म के लीड एक्टर्स भी शामिल हैं. कैमरावर्क इतना एक्सपेरिमेंटल कि क्लाइमैक्स में एक 11 मिनट का अन कट शॉट है, जिसमें कुल 1000 आर्टिस्ट्स नज़र आते हैं.

कहां देख सकते हैंनेटफ्लिक्स

फिल्म अंगमली डायरीज़ की स्टारकास्ट. सबसे बाईं ओर चेकर्ड नीली शर्ट में मुस्कुराता हुआ चेहरा फिल्म के हीरो एंटोनी वर्गीज का है.
फिल्म अंगमली डायरीज़ की स्टारकास्ट. सबसे बाईं ओर चेकर्ड नीली शर्ट में मुस्कुराता हुआ चेहरा फिल्म के हीरो एंटोनी वर्गीज का है.

3) इश्क (2019)

डायरेक्टरअनुराज मनोहर

बेसिक प्लॉट– साची और वसुधा नाम का एक कपल है. एक बार दोनों रात को लॉन्ग ड्राइव/डेट पर जाते हैं. साची एक जगह गाड़ी खड़ी करता है और दोनों थोड़ा रोमैंटिक होने लगते हैं. इतने में उनकी ओर दो लोग आते हैं और खुद को पुलिसवाला बताकर हैरस करने लगते हैं. साची की गाड़ी में बैठकर शहर घूमने लगते हैं. हैरसमेंट लेवल यहां तक पहुंच जाता है कि वसुधा के टेंशन में साची तकरीबन बेहोश होते-होते बचता है. फाइनली वो दोनों पैसे लेकर चले जाते हैं. वो पुलिसवाले नहीं हैं, पता करके साची उनसे बदला भी ले लेता है लेकिन वसुधा उसे नहीं मिलती. ये फिल्म इतनी ज़्यादा रीयल लगती है कि आप इसे देखते वक्त असहज महसूस करने लगते हैं. फिल्म की सबसे शॉकिंग और मज़ेदार चीज़ आखिरी 20 सेकंड में होती है.

खास बातें– केरल में हुए कई सारे मॉरल पुलिसिंग के मामलों से प्रेरित होकर ये फिल्म बनी थी. फिल्म में बदले वाले पार्ट को काफी क्रिटिसाइज़ किया गया क्योंकि ये फिल्म के मकस़द को खराब करती है. हरैसर का रोल करने वाले शाइन टॉम चाको की परफॉरमेंस भूल नहीं पाएंगे.

कहां देख सकते हैंएमेज़ॉन प्राइम वीडियो

'इश्क' का लीड पेयर शेन निगम और ऐन शीतल. शेन मलयाली फिल्मों के उदीयमान सितारों में गिने जाते हैं.
‘इश्क’ का लीड पेयर शेन निगम और ऐन शीतल. शेन मलयाली फिल्मों के उदीयमान सितारों में गिने जाते हैं.

4) जल्लीकट्टू (2019)

डायरेक्टरलिजो जोस पेलिसेरी

बेसिक प्लॉट– केरल का एक छोटा सा गांव. वहां के तमाम कसाइखाने में रोज भैंसे कटती-कटते हैं. एक दिन कटने के समय पर एक भैंस-भैंसा वहां से भाग जाता है. उसे पकड़ने के लिए पूरा गांव एकजुट हो जाता है. क्योंकि वो भागा हुआ भैंसा अब किसी का नहीं, सबका है. जो पकड़े उसका है. एक जानवर को पकड़ने और उसके मांस की लालच इंसानों के भीतर का जानवर बाहर लेकर आती है. कई लोग मारे जाते हैं. फिर वो भैंसा मिलता है और उसे नोच खाने को सैकड़ों लोगों का हुजूम जमा हो जाता है. इस फिल्म में भैंसे का इस्तेमाल मेटाफर के रूप में हुआ है लेकिन फिल्म देखते वक्त वो मेटाफर कहीं पीछे छूट जाता है. इंसान होने भर की सोच से शर्मिंदगी से भर देने वाली फिल्म.

खास बातें– ये फिल्म हरीश नाम के राइटर की लिखी ‘माओइस्ट’ नाम की एक शॉर्ट स्टोरी से प्रेरित थी. फिल्म को जानदार बनाने का क्रेडिट कॉन्सेप्ट के अलावा बवाल कैमरावर्क और धांसू बैकग्राउंड म्यूज़िक को अलग से दिया जाना चाहिए.

कहां देख सकते हैंएमेज़ॉन प्राइम वीडियो

पहले से ही डरावने हो रखे सिचुएशन को और डरावना और हिटिंग बनाने का काम फिल्म की सिनेमटोग्रफी करती है.
पहले से ही डरावने हो रखे सिचुएशन को और डरावना और हिटिंग बनाने का काम फिल्म की सिनेमटोग्रफी करती है.

5) कुंबालंगी नाइट्स (2019)

डायरेक्टरमधु. सी. नारायणन

बेसिक प्लॉट– चार भाइयों की कहानी, जो कोच्ची के छोटे से गांव कुंबालंगी में रहते हैं. इनकी आपस में नहीं बनती. लेकिन सबसे बड़ा भाई साजी सबको समेटकर एक साथ रखता है. उसके छोटे भाई बॉबी को बेबी नाम की लड़की से प्यार हो जाता है. दोनों परिवारों के सोशल स्टेटस में अंतर की वजह से शादी नहीं हो पाती. एक दिन बेबी, बॉबी के साथ भागने का प्लान बनाती है. ये बात उसके जीजा शम्मी को पता चल जाती है. जहां साजी घर की मां की तरह है, वहीं शम्मी अपने घर का बाप है. उसकी मानसिक अवस्था भी चरमराई हुई है. मेंटल इलनेस से लेकर टॉक्सिक मैस्क्यूलिनिटी तक की बात ये फिल्म बड़े ही डेलिकेट तरीके से करती है. पब्लिक को कुछ बोलकर बताने की जगह दिखाती है. और अपना पक्ष चुनने के लिए छोड़ देती है.

खास बातें– फिल्म के डायरेक्टर शूटिंग से डेढ़ साल पहले कुंबालंगी पहुंच गए थे. ताकि वहां का कल्चर, पॉलिटिक्स, मानसिकता समझ सकें. एक्टिंग परफॉरमेंसेज़ और कैमरावर्क फिल्म को मानवीय बनाए रखते हुए पोएटिक फील देते हैं.

कहां देख सकते हैंएमेज़ॉन प्राइम वीडियो

चारों भाई. सबसे बड़े भाई साजी का रोल करने वाले सोबिन शाहिर (दाएं से दूसरे). और शादी प्रेम में पड़े भाई बॉबी के रोल में शेन निगम (सबसे बाएं).
चारों भाई. सबसे बड़े भाई साजी का रोल करने वाले सोबिन शाहिर (दाएं से दूसरे). और शादी प्रेम में पड़े भाई बॉबी के रोल में शेन निगम (सबसे बाएं).

वीडियो देखें: वो 8 जबरदस्त कॉमेडी फिल्म जिन्हें आप घर पर ऑनलाइन देख सकते हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

रामायण में 'त्रिजटा' का रोल आयुष्मान खुराना की सास ने किया था?

रामायण की सीता, दीपिका चिखालिया ने किए 'त्रिजटा' से जुड़े भयानक खुलासे.

क्या दूरदर्शन ने 'रामायण' मामले में वाकई दर्शकों के साथ धोखा किया है?

क्योंकि प्रसार भारती के सीईओ ने जो कहा, वो पूरी तरह सही नहीं है. आपको टीवी पर जो सीन्स नहीं दिखे, वो यहां हैं.

शी- नेटफ्लिक्स वेब सीरीज़ रिव्यू

किसी महिला को संबोधित करने के लिए जिस सर्वनाम का इस्तेमाल किया जाता है, उसी के ऊपर इस सीरीज़ का नाम रखा गया है 'शी'.

असुर: वेब सीरीज़ रिव्यू

वो गुमनाम-सी वेब सीरीज़, जो अब इंडिया की सबसे बेहतरीन वेब सीरीज़ कही जा रही है.

फिल्म रिव्यू- अंग्रेज़ी मीडियम

ये फिल्म आपको ठठाकर हंसने का भी मौका देती है मुस्कुराते रहने का भी.

गिल्टी: मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

#MeToo पर करण जौहर की इस डेयरिंग की तारीफ़ करनी पड़ेगी.

कामयाब: मूवी रिव्यू

एक्टिंग करने की एक्टिंग करना, बड़ा ही टफ जॉब है बॉस!

फिल्म रिव्यू- बागी 3

इस फिल्म को देख चुकने के बाद आने वाले भाव को निराशा जैसा शब्द भी खुद में नहीं समेट सकता.

देवी: शॉर्ट मूवी रिव्यू (यू ट्यूब)

एक ऐसा सस्पेंस जो जब खुलता है तो न सिर्फ आपके रोंगटे खड़े कर देता है, बल्कि आपको परेशान भी छोड़ जाता है.

ये बैले: मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

'ये धार्मिक दंगे भाड़ में जाएं. सब जगह ऐसा ही है. इज़राइल में भी. एक मात्र एस्केप है- डांस.'