Submit your post

Follow Us

बॉलीवुड के 5 गाने, जिन्हें गाने पर आपको जेल हो सकती है!

गाने अच्छे या बुरे होते हैं. सुरे या बेसुरे होते हैं. मगर कभी सुना है कि गाने कानूनी या गैर कानूनी हों? आज सुन लो. देख भी लो:

1.

मैं लैला-लैला चिल्लाऊंगा कुर्ता फाड़ के
मैं मजनूं-मजनूं चिल्लाऊंगी कुर्ता फाड़ के

वैसे तो हर व्यक्ति को कुछ भी पहनने की छूट है, मगर IPC में ‘पब्लिक ओब्सेनिटी’ के लिए सजा है. अगर ये अपना कुर्ता फाड़ने की बात कर रहे हैं, तो धारा 294 के तहत इनपर केस चल सकता है. तीन महीने की सजा मिल सकती है, फाइन के साथ.

2.

तू मैके चली जाएगी मैं डंडा लेकर आऊंगा

भैयाजी पत्नी के उत्पीड़न का केस चलेगा इनपर. अगर पत्नी ने इनकी FIR करवा दी तो धारा 498A के तहत केस चलेगा. मतलब पति या उसके रिश्तेदारों के हाथों पत्नी/बहू का उत्पीड़न. इसमें मानसिक और शारीरिक, दोनों उत्पीड़न शामिल होंगे.

झूठ बोले कौवा काटे, काले कौवे से डरियो
मैं तेरी सौतन लाऊंगा, तुम देखती रहियो

इसके अलावा, लगेगी धारा 494. कानून के मुताबिक़ कोई आदमी या औरत एक पत्नी या पति के होते हुए दूसरी शादी नहीं कर सकते. पहले इनको पिछले पति या पत्नी से तलाक लेना होगा. चाहे कोई भी धर्म हो. इसलिए ‘सौतन लाने’ का आइडिया लॉन्ग टर्म में काम नहीं आएगा.

3.

तेरे घर के सामने
इक घर बनाऊंगा

इन्होंने प्रॉपर्टी खरीद रखी हो तो बात अलग है. मगर प्रॉपर्टी अगर ली नहीं है तो IPC की धारा 247 के तहत सजा होगी. मने बिना अपने नाम जमीन सैंक्शन हुए उसपर कंस्ट्रक्शन करना. 50 हजार का फाइन लगेगा और बिल्डिंग गिरा अलग दी जाएगी. ऐसे में हीरो के लिए गर्लफ्रेंड से ब्रेक अप कर किसी और को ढूंढने की सलाह रहेगी.

हालांकि अगर गीत गाने वाले मजदूर या राजमिस्त्री है भी वो सजा से बच सकता है.

4.

सात समुंदर पार मैं तेरे पीछे पीछे आ गई

जिस अर्जेंट तरीके से यहां जाने की बात की गई है, लगता नहीं है कि हिरोइन की कोई भी प्लानिंग थी. कह रही हैं कि न रास्ता मालूम न तेरा नाम पता मालूम. ऐसे में उसके पास वीजा अप्लाई करने का टाइम तो कतई नहीं होगा. वीजा के बिना 7 समंदर पार जाने पर आपको धरा जा सकता है. वो भी यहां की नहीं, वहां की पुलिस से. गैरकानूनी तरीके से देश में घुसने का केस अलग चलेगा.

5.

तेरा पीछा न मैं छोडूंगा सोनिये
भेज दे चाहे जेल में
प्यार के इस खेल में

IPC की धारा 354D के मुताबिक़ किसी लड़की का पीछा करना, जबरन उससे कॉन्टैक्ट करने की कोशिश करना, मिलने की कोशिश करना, पीछा करना, या इंटरनेट पर उसपर नजर रखना स्टॉकिंग कहलाता है. जिसका अपराधी साबित होने पर बंदे को भारी फाइन देने के साथ तीन साल तक की सजा हो सकती है.

हीरो भी गजब का बेशर्म है. उसे पता है कि लड़की ने केस कर दिया तो सजा होगी. मगर नाचने में कोई कसर नहीं छूट रही.


 

ये भी पढ़ें:

6 कॉमेडी सीन जिनमें शक्ति कपूर के पात्र आपका दिन बना देंगे

कोई नहीं कह सकता कि वो ऋषिकेश मुखर्जी से महान फ़िल्म निर्देशक है


देखें:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू- डूब: नो बेड ऑफ रोजेज़

फिल्म रिव्यू- डूब: नो बेड ऑफ रोजेज़

इरफान के गुज़रने के बाद उनकी पहली फिल्म रिलीज़ हुई है. और 'डूब' का अर्थ वही है, जो आप समझ रहे हैं.

मूवी रिव्यू: मास्साब

मूवी रिव्यू: मास्साब

नेक कोशिश वाली जो मुट्ठीभर फ़िल्में बनती हैं, उनमें इस फिल्म का नाम लिख लीजिए.

आयरन मैन, स्पाइडर मैन छोड़िए, बचपन में टीवी पर आने वाले ये 5 देसी सुपरहीरो याद हैं आपको?

आयरन मैन, स्पाइडर मैन छोड़िए, बचपन में टीवी पर आने वाले ये 5 देसी सुपरहीरो याद हैं आपको?

उस वक़्त का टीवी आज से ज़्यादा स्मार्ट था. आज के मुकाबले कंटेंट कम था लेकिन जितना था, लाजवाब था.

'ओ बेटा जी' वाले भगवान दादा की 34 बातें: जिन्हें देख अमिताभ, गोविंदा, ऋषि कपूर नाचना सीखे!

'ओ बेटा जी' वाले भगवान दादा की 34 बातें: जिन्हें देख अमिताभ, गोविंदा, ऋषि कपूर नाचना सीखे!

हिंदी सिनेमा के इन बड़े विरले एक्टर को याद कर रहे हैं.

FAU-G गेम रिव्यू : एक ही बटन पीटते-पीटते थक गया हूं ब्रो!

FAU-G गेम रिव्यू : एक ही बटन पीटते-पीटते थक गया हूं ब्रो!

अच्छे मौक़े को गंवाना कोई इनसे सीखे.

मूवी रिव्यू: दी व्हाइट टाइगर

मूवी रिव्यू: दी व्हाइट टाइगर

कई पीढ़ियों में एक बार पैदा होता है व्हाइट टाइगर, इसलिए खास है. पर क्या फिल्म के बारे में भी ये कहा जा सकता है?

फिल्म रिव्यू- मैडम चीफ मिनिस्टर

फिल्म रिव्यू- मैडम चीफ मिनिस्टर

मैडम चीफ मिनिस्टर जिस ताबड़तोड़ तरीके से शुरू होती है, वो खत्म होते-होते वापस उतनी ही दिलचस्प और मज़ेदार हो जाती है. मगर दिक्कत का सबब है वो सब, जो शुरुआत और अंत के बीच घटता है.

वेब सीरीज़ रिव्यू- तांडव

वेब सीरीज़ रिव्यू- तांडव

'तांडव' बड़े प्रोडक्शन लेवल पर बनी एक छिछली पॉलिटिकल थ्रिलर है, जिसे लगता है कि वो बहुत डीप है.

मूवी रिव्यू: त्रिभंग

मूवी रिव्यू: त्रिभंग

कैसा रहा काजोल का डिजिटल डेब्यू?

फिल्म रिव्यू - मास्टर

फिल्म रिव्यू - मास्टर

साल की पहली मेजर फिल्म कैसी है, जहां दो सुपरस्टार आमने-सामने हैं?