Submit your post

Follow Us

आज एक-दो नहीं, कुल 45 फिल्में रिलीज़ हुई हैं

6.72 K
शेयर्स

दुनिया में सबसे ज़्यादा फिल्में बनाने के मामले में इंडिया टॉप पर है. अगर 2018 की बात करें, तो हमारे यहां अलग-अलग भाषा की कुल 1986 फिल्में रिलीज़ हुईं. ये हॉलीवुड में बनने वाली फिल्मों की संख्या के डबल से भी ज़्यादा है. अब जब इतनी फिल्में बनेंगी तो रिलीज़ भी होंगी. जिसने पैसा लगाया है वो लंबे और फायदेमंद वीकेंड पर अपनी फिल्म लगाने की कोशिश करेगा. इसलिए बहुत सी फिल्मों को अपना वीकेंड किसी दूसरी फिल्म के साथ शेयर करना पड़ता है. जैसे अगर इस साल आई सिर्फ हिंदी फिल्मों की बात करें, तो पिछले चार वीकेंड्स पर रिलीज़ होने वाली फिल्मों की कतार काफी लंबी थी. 11 जनवरी को ‘उड़ी’ समेत कुल चार फिल्में, 18 जनवरी को ‘व्हाई चीट इंडिया’, ‘फ्रॉड सैंय्या’ के साथ तीन और फिल्में और 25 जनवरी को महीने की दो सबसे बड़ी फिल्में ‘मणिकर्णिका’ और ‘ठाकरे’ सिनेमाघरों में उतरीं. कहने का मतलब ये है कि अब तक जो आपने पढ़ा वो कुछ नहीं था. आज यानी 8 फरवरी, 2019 को जो हुआ है, वो ऐतिहासिक है. इस दिन इंडिया में 45 फिल्में रिलीज़ हुई हैं. कभी-कभार ये मामला 20-25 तक पहुंचा है लेकिन 45 फिल्मों का एक ही दिन, एक ही देश में रिलीज़ होना अद्धभुत बात है. अलग-अलग भाषा की ये फिल्में इंडिया के कई फिल्मी कारखानों से निकली हैं. साथ में हॉलीवुड की कुछ डब की गई फिल्में भी हैं. ये 45 फिल्में कौन सी हैं ये हम आपको नीचे बता रहे हैं.

1) अमावस (हिंदी)टिपीकल बॉलीवुड हॉरर फिल्म. तीन दोस्त हैं, जिनमें से एक कपल है. किसी गलतफहमी की वजह से इनकी आपसी बॉन्डिंग बिगड़ती है और कुछ घटना हो जाती है. बाद में ये कपल एक हॉन्टेड बंग्ले में जाता है, जहां उनका पास्ट उन्हें डराता है.

2) दी फकीर ऑफ वेनिस (हिंदी)- वेनिस में एक आर्ट प्रोजेक्ट के लिए ऐसे फकीर की जरूरत है खुद को बालू में दफन कर सके. ऐसे में एक भारतीय ठग अपने देश लौटता है और यहां से एक आदमी को फकीर बनाकर ले जाता है. बाद में इन दोनों के बीच चीज़ें बिगड़ती हैं, तो वो एक दूसरे को गलत बताने लगते हैं, जबकि असल में दोनों ही गलत होते हैं.

3) अलीटा: बैटल एंजेल (हॉलीवुड)- जापानी कॉमिक राइटर युकितो किशिरोली की कॉमिक सीरीज़ ‘ग्नम’ पर बेस्ड ये एक साइंस फिक्शन फिल्म है. साल 2563 में सेट जेम्स कैमरन प्रोड्यूस्ड  ये फिल्म मनुष्य और मशीन के मिक्सचर से बनी एक लड़की अलीटा की कहानी है.

4) दी लेगो मूवी 2 (हॉलीवुड)- कंप्यूटर एनिमेशन सीरीज़ ‘दी लेगो’ की चौथी किस्त. लेगो एक तरह का खिलौना होता है, जिसे बच्चे एक-दूसरे के साथ फिक्स कर कई तरह की चीज़ें बनाते हैं. फिल्म में इनका एक अपना यूनिवर्स है, जिस पर दूसरे यूनिवर्स के लोगों ने अटैक कर दिया है. लेगो यूनिवर्स के हीरो उसे कैसे बचाते हैं, यही फिल्म की कहानी है.

5) कोल्ड परसुट (हॉलीवुड)- ब्लैक कॉमेडी रिवेंज ड्रामा. एक आदमी का बेटा मर जाता है. पिता को लगता है कि वो ड्रग ओवरडोज़ से मरा है, इसलिए वो खुद भी आत्महत्या करने की कोशिश करने लगता है. लेकिन फिर उसे पता चलता है कि उसके बेटे को ड्रग माफियाओं ने मारा है. इसके बाद उन्हें मारकर बदला लेने की फिराक में लग जाता है.

 

6) नेत्र (तमिल)- तमिलनाडु से शादी करने के बाद कनाडा गई एक लड़की और एक दूसरे आदमी की कहानी है, जो पैसा और पावर होने के बावजूद एक छोटी सी गलती कर सबकुछ खो देता है. ये एक साइकोलॉजिकल थ्रिलर फिल्म है.

7) यात्रा (तेलुगू)- दो बार आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके वाय.एस.आर. राजशेखर रेड्डी की बायोपिक फिल्म है. फिल्म में उनकी पूरे आंध्र प्रदेश में की गई 1500 किलो मीटर लंबी पदयात्रा से लेकर उनकी भयानक मौत तक का सफर तय किया जाएगा.

8) 9 (मलयालम)- ये एक साइंस फिक्शन फिल्म है, जिसमें एक-बाप बेटे को मिलकर दुनिया को बचाना है. एक उल्का तारा बहुत तेजी से धरती की ओर बढ़ रहा है. वो धरती तक पहुंचने में मैक्सिमम नौ दिन लगाएगा. इसे रोकने के लिए एक इंडियन एस्ट्रोफिजिसिस्ट लगा हुआ है. इस घटना के उसकी और उसके बेटे की ज़िंदगी पर क्या फर्क पड़ता है, फिल्म इसी बारे में बात करेगी.

9) आसूड (मराठी)- महाराष्ट्र में किसानों की दिक्कत और बढ़ती आत्महत्या को केंद्र में रखकर बनाई गई फिल्म, जिसमें एक अकेला आदमी सिस्टम से लड़ेगा. फिल्म में कई रियल लाइफ घटनाओं से भी प्रेरणा ली गई है. जैसे अन्ना हजारे का भूख आंदोलन.

10) बीटीएस: लव योरसेल्फ इन सियोल (कोरियन)- ये एक कॉन्सर्ट फिल्म है. इसमें ये दिखाया जाएगा कि 26 अगस्त, 2018 को सियोल ओलंपिक स्टेडियम में लव योरसेल्फ टूर के दौरान मशहूर कोरियन बैंड बीटीएस के साथ क्या कुछ घटा था.

बाकी 35 फिल्में:

11) बच्चा शोशूर (बांग्ला)
12) एम 6 (तेलुगू)
13) अवतार वेट्टाई (तमिल)
14) उरंगापुली (तमिल)
15) दोस्ती के साइड इफेक्ट्स (हिंदी)
16) एंड काउंटर (हिंदी)
17) पोढु नालन करुधी (तमिल)
18) नेने मुख्यमंत्री (तेलुगू)
19) उन्मादी (तेलुगू)
20) सीमाराजा (तेलुगू)
21) विचारना (तेलुगू)
22) झोल (हिंदी)
23) फाइनली भालोबाशा (बांग्ला)
24) प्रेम अमर 2 (बांग्ला)
25) तृतियो अध्याय (बांग्ला)
26) धड़पड़ (मराठी)
27) भाई- व्यक्ति की वल्ली (मराठी)
28) प्रेम रंग (मराठी)
29) प्रेमवाड़ी (मराठी)
30) रेडीमिक्स (मराठी)
31) लकी (मराठी)
32) दहाड़ (छत्तीसगढ़ी)
33) साहेब (गुजराती)
34) वांडू (तमिल)
35) धिलूकु धूद्दू (तमिल)
36) नटसर्वभौमा (कन्नड़)
37) पार्किंग क्लोज़्ड (हिंदी)
38) एस.पी. चौहान (हिंदी)
39) कुम्बालंगी नाइट्स (मलयाली)
40) प्रेम पेन महाभारत (ओड़िया)

बाकी पांच फिल्में ‘अलीटा: बैटल एंजेल’ का तमिल, तेलुगू और हिंदी वर्जन, ‘अमावस’ का तेलुगू वर्जन और ‘यात्रा’ का तमिल वर्ज़न हैं.


वीडियो देखें: 30 साल लंबे करियर में शाहरुख़ ने अक्षय के साथ काम क्यों नहीं किया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
45 films released on the same day in India

पोस्टमॉर्टम हाउस

क्या एक हार के बाद ही ऐसी संभावना बन गई कि इंडिया सेमीफाइनल से पहले ही बाहर हो जाए?

जानिए क्या होता है नेट रन रेट और कैसे कैलकुलेट किया जाता है, और इंडिया को इसपर नज़र क्यों रखनी चाहिए?

मूवी रिव्यू: आर्टिकल 15

हमारी कायरता को चैलेंज करने वाली बेबाक, साहसिक फिल्म.

क्या अमिताभ बच्चन इस तस्वीर में अपने नौकर की अर्थी उठाए चल रहे हैं?

बताया जा रहा है कि ये शख्स बच्चन परिवार के लिए पिछले 40 साल से काम कर रहा था.

तबरेज़ अंसारी की हत्या और चमकी बुखार पर पहली बार पीएम मोदी संसद में बोले हैं

राज्यसभा में पीएम ने हर मुद्दे पर अपनी बात रखी.

लैला वेब सीरीज़: 'उम्मीद' कि भविष्य इतना भी बुरा नहीं होगा, 'आशंका' कि इससे भी बुरा हो सकता है

'आर्यावर्त' के बच्चे, मोबाइल पर टॉम-जेरी नहीं देखते. वो जोशी जी के 'बाल चरित्र' वाले वीडियो देखते हैं.

गैंग्स ऑफ वासेपुर की मेकिंग से जुड़ी ये 24 बातें जानते हैं आप!

अनुराग कश्यप की इस क्लासिक को रिलीज हुए 7 साल हो चुके हैं. दो हिस्सों वाली इस फिल्म के प्रोडक्शन से बहुत सी बातें जुड़ी हैं. देखें, आप कितनी जानते हैं.

कबीर सिंह: मूवी रिव्यू

It's not the goodbye that hurts, but the flashbacks that follows.

क्या हुआ जब दो चोर, एक भले आदमी की सायकल लेकर फरार हो गए

सायकल भी ऐसी जिसे इलाके में सब पहचानते थे.

मूवी रिव्यू: गेम ओवर

थ्रिल, सस्पेंस, ड्रामा, मिस्ट्री, हॉरर का ज़बरदस्त कॉकटेल है ये फिल्म.

भारत: मूवी रिव्यू

जैसा कि रिवाज़ है ईद में भाईजान फिर वापस आए हैं.