Submit your post

Follow Us

अजय देवगन की फिल्मों के 36 गाने जो ट्रक और टैंपो वाले बरसों से सुन रहे हैं

2 अप्रैल को उनके बर्थडे पर उनकी ये यादें.

96.76 K
शेयर्स

हमारी सेवा करते अजय देवगन को 26 साल हो गए हैं. नवंबर 1991 के आखिरी वीकेंड में फिल्म ‘फूल और कांटे’ से उन्होंने बतौर हीरो बॉलीवुड में एंट्री ली थी. अपने एक्शन, एक साइड लटके सिर, हेयरस्टाइल, अनेक रंग-रूप की बाइक्स, लाल दहकती आंखों, गंभीर डायलॉगों के अलावा या शायद उससे भी ज्यादा जिस चीज से अजय ने दर्शकों को एंटरटेन किया है वो हैं उनकी फिल्मों के गाने. खासकर उन दर्शकों को दीवाना किया जो अजय के डेब्यू के समय बच्चे या टीनएजर थे. आज वो 2016 में हॉलीवुड फिल्मों, नेटफ्लिक्स और नई बॉलीवुड फिल्मों के दीवाने हैं. लेकिन इन गानों को सुन वे फिर से जीवन के उन मोड़ों में लौट जाएंगे जहां तर्क नहीं चलता. इन गानों के आगे वो सब दर्शक ताउम्र बंधे भूत की तरह ही रहेंगे. वो गाने जो सड़कों पर ट्रक ड्राइवरों की न जाने कितने सौ रातों के हमसफर हैं. जो उन्हें मीलों जगाए रखते हैं. उनके कठोर काम को जरा आसान बनाते हैं. गाने जो टैंपो, ऑटो वालों के मनोरंजन का पहला जरिया हैं. एफएम रेडियो वालों का अब म्यूजिक सूचियों पर कब्जा है लेकिन ऐसी सूची वहां भी नहीं होगी.

एंजॉय करें.

अजय देवगन के आपके ज्यादातर फेवरेट गाने यहां हैं, जो छूट गया हो वो खुद ही सुझाते चलें. बीत गए दौर को जीते चलें.

#1. प्यार के कागज़ पे

– जिगर (1992)

#2. प्यार के लिए चार पल कम नहीं थे

– दिल क्या करे (1999)

#3. पहली दफा इस दिल में भी

– हलचल (1995)

#4. मैंने प्यार तुम्ही से किया है

– फूल और कांटे (1991)

#5. आए हम बाराती

– जिगर (1992)

#6. धीरे धीरे प्यार को बढ़ाना है

– फूल और कांटे (1991)

#7. अजनबी मुझको इतना बता

– प्यार तो होना ही था (1998)

#8. बंद लिफाफा दिल मेरा

– कच्चे धागे (1999)

#9. जीता था जिसके लिए

– दिलवाले (1994)

#10. ला काग़ज कलम

– सुहाग (1994)

#11. अकेली न बाज़ार जाया करो

– मेजर साब (1998)

#12. मौका मिलेगा तो हम बता देंगे

– दिलवाले (1994)

#13. जान ओ मेरी जान

– जान (1996)

#14. सातों जनम में तेरे

– दिलवाले (1994)

#15. तेरे लिए जानम, तेरे लिए

– सुहाग (1994)

#16. ये नखरा लड़की का, वाह-वाह

– सुहाग (1994)

#17. आइए आपका इंतजार था

– विजयपथ (1994)

#18. लाल लाल होठों पे

– नाजायज़ (1995)

#19. प्यार नहीं करना जहान सारा कहता है

– कच्चे धागे (1999)

#20. आज है सगाई सुन लड़की के भाई

– प्यार तो होना ही था (1998)

#21. तुमसे मिलने को दिल करता है

– फूल और कांटे (1991)

#22. तेरे बिन नहीं जीना

– कच्चे धागे (1999)

#23. कितना हसीन चेहरा

– दिलवाले (1994)

#24. हम यहां तुम यहां

– जख़्म (1998)

#25. दिल परदेसी हो गया

– कच्चे धागे (1999)

#26. हम अपनी मोहब्बत का

– इतिहास (1997)

#27. इस शान-ए-करम का क्या कहना

– कच्चे धागे (1999)

#28. कुंवारा नहीं मरना

– जान (1996)

#29. राह में उनसे मुलाकात हो गई

– विजयपथ (1994)

#30. हाथों की लकीरों में लिखा है

– तेरा मेरा साथ रहे (2001)

#31. प्यार तो होना ही था

– प्यार तो होना ही था (1998)

#32. पढ़ लिख के बड़ा होके तू इक किताब लिखना

– जख़्म (1998)

#33. आज की रात नया गीत कोई गाऊंगा

– ग़ैर (1999)

#34. तेरे प्यार में मैं मरजावां

– होगी प्यार की जीत

#35. साथी मेरे, तेरे बिना ना जीना मेरे रामजी

– इतिहास (1997)

#36. प्रेमी आशिक आवारा

– फूल और कांटे (1991)

Also Read:
अल्का याज्ञ्निक के 36 लुभावने गानेः जिन्हें गा-गाकर बरसों लड़के-लड़कियों ने प्यार किया
गोविंदा के 48 गाने: ख़ून में घुलकर बहने वाली ऐसी भरपूर ख़ुशी दूजी नहीं
लोगों के कंपोजर सलिल चौधरी के 20 गाने: भीतर उतरेंगे
रेशमा के 12 गाने जो जीते जी सुन लेने चाहिए!
सनी देओल के 40 चीर देने और उठा-उठा के पटकने वाले डायलॉग!
गीता दत्त के 20 बेस्ट गाने, वो वाला भी जिसे लता ने उनके सम्मान में गाया था
गानों के मामले में इनसे बड़ा सुपरस्टार कोई न हुआ कभी
धर्मेंद्र के 22 बेस्ट गाने: जिनके जैसा हैंडसम, चुंबकीय हीरो फिर नहीं हुआ

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

उजड़ा चमन : मूवी रिव्यू

रिव्यू पढ़कर जानिए ‘मास्टरपीस’ और ‘औसत’ के बीच का क्या अंतर होता है.

फिल्म रिव्यू: टर्मिनेटर - डार्क फेट

नया कुछ नहीं लेकिन एक्शन से पैसे वसूल हो जाएंगे.

इस एक्टर ने फिल्म देखने गई फैमिली को सिनेमाघर में हैरस किया, वो भी गलत वजह से

इतनी बद्तमीजी करने के बावजूद ये लोग थिएटर में 'भारत माता की जय' का जयकारा लगा रहे थे.

हाउसफुल 4 : मूवी रिव्यू

दिवाली की छुट्टियां. एक हिट हो चुकी फ़्रेन्चाइज़ की चौथी क़िस्त. अक्षय कुमार जैसा सुपर स्टार और कॉमेडी नाम की विधा.

फिल्म रिव्यू: मेड इन चाइना

तीन घंटे से कुछ छोटी फिल्म सेक्स और समाज से जुड़ी हर बड़ी और ज़रूरी बात आप तक पहुंचा देना चाहती है. लेकिन चाहने और होने में फर्क होता है.

सांड की आंख: मूवी रिव्यू

मूवी को देखकर लगता है कि मेकअप वाली गड़बड़ी जानबूझकर की गई है.

कबीर सिंह के तमिल रीमेक का ट्रेलर देखकर सीख लीजिए कि कॉपी कैसे की जाती है

तेलुगू से हिंदी, हिंदी से तमिल एक ही डिश बिना एक्स्ट्रा तड़के के परोसी जा रही.

हर्षित: मूवी रिव्यू

शेक्सपीयर के नाटक हेमलेट पर आधारित है.

लाल कप्तान: मूवी रिव्यू

‘तुम्हारा शिकार, तुम्हारा मालिक है. वो जिधर जाता है, तुम उधर जाते हो.’

वेब सीरीज़ रिव्यू: 'दी फैमिली मैन' ने कश्मीर की ऐसी-ऐसी सच्चाइयों को दिखाया है जो पहले न देखी होंगी

मनोज वाजपेई का ये नया अवतार आपको बहुत सरप्राइज़ करने वाला है. लेकिन सीरीज़ में इसके अलावा भी बहुत कुछ है.