Submit your post

Follow Us

अलका याज्ञ्निक के 36 लुभावने गानेः जिन्हें गा-गाकर बरसों लड़के-लड़कियों ने प्यार किया

20 मार्च को उनके बर्थडे पर उनकी ये यादें.

अलका याज्ञ्निक की मां क्लासिकल सिंगर थीं. उन्हीं की महत्वाकांक्षा थी कि वे छह की उम्र में गाने लगीं. साल रहा होगा 1972. इतनी कम उम्र में जब बच्चे बोलना भी नहीं सीखते वे ऑल इंडिया रेडियो पर परफॉर्म करती थीं. फिर मां उन्हें फिल्मों में गवाने की कोशिश करने लगीं. राज कपूर से मिलवाया. राज कपूर ने कंपोजर लक्ष्मीकांत जी से मिलवाया. यहां से एक शुरुआत हुई. साल 1980 में अलका ने अपना पहला फिल्मी गाना गाया. मूवी थी राजश्री प्रोडक्शन की 1980 में आई ‘पायल की झनकार.’ उसके अगले साल उन्होंने अमिताभ बच्चन के बहुत चर्चित गीत ‘मेरे अंगने में तुम्हारा क्या काम है’ का फीमेल वर्जन गाया था. इसके बाद के करियर में उन्होंने हर बड़े कंपोजर के लिए गाया. हर बड़े मेल गायक के साथ डुएट किया. प्लेबैक सिंगिंग की. 90 के दौर में जो गाने जबरदस्त हिट हुए उनमें अलका के गाने भी प्रमुखता से थे. हिंदी फिल्मों के सबसे बेहतरीन सिंगर्स में उनका नाम हमेशा प्रमुखता से लिया जा सकेगा. 20 मार्च 1966 को कोलकाता में जन्मी अलका आज 53 की हो गई हैं. उनके काम को याद करने के लिए हम लाए हैं 36 ऐसे गाने जो हमारे हिसाब से श्रोताओं-दर्शकों को बहुत पसंद आएंगे. ये ऐसे गाने हैं जो प्यार करने वालों को अनूठा भावनात्मक चरम देते आए हैं और देते रह सकते हैं. जब ये गाने आए थे, तब जो भी जवानी में कदम रख रहे थे वे लड़के-लड़कियां बता सकेंगे कि इन गीतों ने उन्हें प्रेम की कैसी सपनीली दुनिया में स्थानांतरित कर दिया था.

ख़ैर, अपने हिस्से के अहसास यहां सुनकर करें.

अलका के उन गीतों के लिंक भी कमेंट्स में शेयर करें जो आपको सबसे ज्यादा पसंद रहे हैं.

अपने दौर की वो यादें भी शेयर करें जो बाद के दौर के लोग शायद न समझ पाते हों.

#1. पायलिया..

– दीवाना (1992)

#2. इस दीवाने लड़के को

– सरफरोश (1999)

#3. एक दो तीन

– तेज़ाब (1988)

#4. ऐसा लगता है

– रिफ्यूजी (2000)

#5. तू शायर है

– साजन (1991)

#6. प्यार के लिए चार पल कम नहीं थे
कभी तुम नहीं थे, कभी हम नहीं थे

– दिल क्या करे (1999)

#7. वादा रहा सनम

– खिलाड़ी (1992)

#8. गली में आज चांद निकला

– ज़ख़्म (1998)

#9. राह में उनसे मुलाकात हो गई

– विजयपथ (1994)

#10. इस प्यार से मेरी तरफ ना देखो

– चमत्कार (1992)

#11. दिल चाहे किसी से प्यार करूं

दीवाना मस्ताना (1997)

#12. तुम पास आए

– कुछ कुछ होता है (1998)

#13. मेरी सांसों में बसा है तेरा ही इक नाम

– और प्यार हो गया (1997)

#14. परदेसी

– राजा हिंदुस्तानी (1996)

#15. ऐ मेरे हमसफर इक ज़रा इंतजार

– कयामत से कयामत तक (1998)

#16. धीरे धीरे प्यार को बढ़ाना है

– फूल और कांटे (1991)

#17. जब दिल न लगे दिलदार

– कुली नंबर 1 (1995)

#18. प्यार नहीं करना जहान सारा कहता है

– कच्चे धागे (1999)

#19. एक दिन आप यूं हमको मिल जाएंगे

– यस बॉस (1997)

#19. दिल देता है रो रो दुहाई
किसी से कोई प्यार न करे

– फिर तेरी कहानी याद आई (1993)

#20. जीता था जिसके लिए

– दिलवाले (1994)

#21. घूंघट की आड़ से

– हम हैं राही प्यार के (1993)

#22. आएगी हर पल तुझे मेरी याद
हां इस मुलाकात के बाद

– आंदोलन (1995)

#23. पालकी में होके सवार चली रे

– खलनायक (1993)

#24. आये हो मेरी ज़िंदगी में तुम बहार बनके

– राजा हिंदुस्तानी (1996)

#25. जाती हूं मैं

– करण अर्जुन (1995)

#26. तुमसे मिलने को दिल करता है

– फूल और कांटे (1991)

#27. आज है सगाई

– प्यार तो होना ही था (1998)

#28. हमें जब से मोहब्बत हो गई है
ये दुनिया ख़ूबसूरत हो गई है

– बॉर्डर (1997)

#29. हम यहां तुम वहां

– ज़ख़्म (1998)

#30. मेरा दिल भी कितना पागल है

– साजन (1991)

#31. गोरे गोरे मुखड़े पे
काला काला चश्मा

– सुहाग (1994)

#32. तुम मिले, दिल खिले
और जीने को क्या चाहिए

– क्रिमिनल (1995)

#33. इक नया आसमां

– छोटे सरकार (1996)

#34. देखा है पहली बार
साजन की आंखों में प्यार

– साजन (1991)

#35. यूं ही कट जाएगा सफर साथ चलने से…

– हम हैं राही प्यार के (1993)

36. तुमसा कोई प्यारा कोई मासूम नहीं है

– ख़ुद्दार (1994)

Also Read:
गोविंदा के 48 गाने: ख़ून में घुलकर बहने वाली ऐसी भरपूर ख़ुशी दूजी नहीं
लोगों के कंपोजर सलिल चौधरी के 20 गाने: भीतर उतरेंगे
रेशमा के 12 गाने जो जीते जी सुन लेने चाहिए!
सनी देओल के 40 चीर देने और उठा-उठा के पटकने वाले डायलॉग!
गीता दत्त के 20 बेस्ट गाने, वो वाला भी जिसे लता ने उनके सम्मान में गाया था
गानों के मामले में इनसे बड़ा सुपरस्टार कोई न हुआ कभी
धर्मेंद्र के 22 बेस्ट गाने: जिनके जैसा हैंडसम, चुंबकीय हीरो फिर नहीं हुआ

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

असुर: वेब सीरीज़ रिव्यू

वो गुमनाम-सी वेब सीरीज़, जो अब इंडिया की सबसे बेहतरीन वेब सीरीज़ कही जा रही है.

फिल्म रिव्यू- अंग्रेज़ी मीडियम

ये फिल्म आपको ठठाकर हंसने का भी मौका देती है मुस्कुराते रहने का भी.

गिल्टी: मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

#MeToo पर करण जौहर की इस डेयरिंग की तारीफ़ करनी पड़ेगी.

कामयाब: मूवी रिव्यू

एक्टिंग करने की एक्टिंग करना, बड़ा ही टफ जॉब है बॉस!

फिल्म रिव्यू- बागी 3

इस फिल्म को देख चुकने के बाद आने वाले भाव को निराशा जैसा शब्द भी खुद में नहीं समेट सकता.

देवी: शॉर्ट मूवी रिव्यू (यू ट्यूब)

एक ऐसा सस्पेंस जो जब खुलता है तो न सिर्फ आपके रोंगटे खड़े कर देता है, बल्कि आपको परेशान भी छोड़ जाता है.

ये बैले: मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

'ये धार्मिक दंगे भाड़ में जाएं. सब जगह ऐसा ही है. इज़राइल में भी. एक मात्र एस्केप है- डांस.'

फिल्म रिव्यू- थप्पड़

'थप्पड़' का मकसद आपको थप्पड़ मारना नहीं, इस कॉन्सेप्ट में भरोसा दिलाना, याद करवाना है कि 'इट्स जस्ट अ स्लैप. पर नहीं मार सकता है'.

फिल्म रिव्यू: शुभ मंगल ज़्यादा सावधान

ये एक गे लव स्टोरी है, जो बनाई इस मक़सद से गई है कि इसे सिर्फ लव स्टोरी कहा जाए.

फिल्म रिव्यू- भूत: द हॉन्टेड शिप

डराने की कोशिश करने वाली औसत कॉमेडी फिल्म.