Submit your post

Follow Us

ख़लील ज़िब्रान के ये 31 कोट 'बेहतर इंसान' बनने का क्रैश कोर्स हैं

608
शेयर्स

केवल 48 वर्ष की अवस्था में मृत्यु को प्राप्त हो चुके ख़लील ज़िब्रान को, उनके लेखन के चलते उस समय के धर्म-गुरुओं और रसूख वाले लोगों ने जाति से बहिष्कृत करके देश निकाला दे दिया था. ऐसे ‘क्रांतिकारी’ लेखक की पुस्तक, Sand & foam (रेत और झाग) से 31 झमाझम कोट्स पढ़िये और बेहतरी की तरफ़ एक कदम और बढ़ाइए:


#1

SNF - 1


#2

SNF - 2


#3

SNF - 3


#4

SNF - 4


#5

SNF - 5


#6

SNF - 6


#7

SNF - 7


#8

SNF - 8


#9

SNF - 9


#10

SNF - 10


#11

SNF - 11


#12

SNF - 12


#13

SNF - 13


#14

SNF - 14


#15

SNF - 15


#16

SNF - 16


#17

SNF - 17


#18

SNF - 18


#19

SNF - 19


#20

SNF - 20


#21

SNF - 21


#22

SNF - 22


#23

SNF - 23


#24

SNF - 24


#25

SNF - 25


#26

SNF - 26


#27

SNF - 27


#28

SNF - 28


#29

SNF - 29


#30

SNF - 30


#31

SNF - 31


ये भी पढ़ें:

मोदी के पास फरियाद लेकर आई थी शहीद की बहन, रैली से घसीटकर निकाला गया

कहानी गुजरात के उस कांग्रेसी नेता की, जो निर्विरोध विधायक बना

वो ईमानदार प्रधानमंत्री जिसका चुनाव धांधली के चलते रद्द हो गया

EVM में गड़बड़ी के इल्ज़ामों का ‘भेड़िया आया भेड़िया आया’ में बदल जाना खतरनाक है


Video देखें: इरशाद ने अतीत में भी दी लल्लनटॉप से ढेरों ‘दिल दियां गल्लां’ की हैं:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
31 Quotes from Sand and Foam written by Kahlil Gibran

पोस्टमॉर्टम हाउस

फैक्ट चेकः क्या 2014 के चुनाव से पहले मोदी ने किसानों का कर्ज माफ करने का वादा किया था?

जानिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शेयर किए जा रहे भाषण की हकीकत.

मूवी रिव्यू: नो फादर्स इन कश्मीर

कश्मीर पर बनी बेहद संवेदनशील फिल्म.

फिल्म रिव्यू: रोमियो अकबर वॉल्टर (RAW)

टुकड़ा-टुकड़ा फिल्म.

ये क्या है जिसे पीएम मोदी चुनावी मंच पर दिखा रहे थे?

हार लहराते हुए लोगों को बताया कि परंपराओं का अपमान करने वालों और उन्हें गौरव के साथ स्वीकार करने वालों के बीच क्या अंतर है.

फिल्म रिव्यू: 15 ऑगस्ट

जिस दिन एक प्रेमी जोड़े को भागना था, एक बच्चे का हाथ गड्ढे में फंस गया.

फिल्म रिव्यू: गॉन केश

'गॉन केश' एक अहम और आम मसले पर बनी एवरेज लेकिन स्वीट फिल्म है.

फिल्म रिव्यू: जंगली

2019 में बनी 70 के दशक की फिल्म.

फिल्म रिव्यू: नोटबुक

ये फिल्म कश्मीर में सिर्फ घटती नहीं है, बसती है. अपने कॉन्सेप्ट में थोड़ी नई है. खूबसूरत है. ईमानदार है. और सबसे ज़रूरी पॉजिटिव है.

कांग्रेस! मोदी के विकल्प के रूप में राहुल गांधी के ट्विटर अकाउंट को खड़ा कर दो

मेरी इस बात का समर्थन राहुल के ट्वीट पर की गई अमित शाह की टिप्पणी भी करती है