Submit your post

Follow Us

ख़लील ज़िब्रान के ये 31 कोट 'बेहतर इंसान' बनने का क्रैश कोर्स हैं

केवल 48 वर्ष की अवस्था में मृत्यु को प्राप्त हो चुके ख़लील ज़िब्रान को, उनके लेखन के चलते उस समय के धर्म-गुरुओं और रसूख वाले लोगों ने जाति से बहिष्कृत करके देश निकाला दे दिया था. ऐसे ‘क्रांतिकारी’ लेखक की पुस्तक, Sand & foam (रेत और झाग) से 31 झमाझम कोट्स पढ़िये और बेहतरी की तरफ़ एक कदम और बढ़ाइए:


#1

SNF - 1


#2

SNF - 2


#3

SNF - 3


#4

SNF - 4


#5

SNF - 5


#6

SNF - 6


#7

SNF - 7


#8

SNF - 8


#9

SNF - 9


#10

SNF - 10


#11

SNF - 11


#12

SNF - 12


#13

SNF - 13


#14

SNF - 14


#15

SNF - 15


#16

SNF - 16


#17

SNF - 17


#18

SNF - 18


#19

SNF - 19


#20

SNF - 20


#21

SNF - 21


#22

SNF - 22


#23

SNF - 23


#24

SNF - 24


#25

SNF - 25


#26

SNF - 26


#27

SNF - 27


#28

SNF - 28


#29

SNF - 29


#30

SNF - 30


#31

SNF - 31


ये भी पढ़ें:

मोदी के पास फरियाद लेकर आई थी शहीद की बहन, रैली से घसीटकर निकाला गया

कहानी गुजरात के उस कांग्रेसी नेता की, जो निर्विरोध विधायक बना

वो ईमानदार प्रधानमंत्री जिसका चुनाव धांधली के चलते रद्द हो गया

EVM में गड़बड़ी के इल्ज़ामों का ‘भेड़िया आया भेड़िया आया’ में बदल जाना खतरनाक है


Video देखें: इरशाद ने अतीत में भी दी लल्लनटॉप से ढेरों ‘दिल दियां गल्लां’ की हैं:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

असुर: वेब सीरीज़ रिव्यू

वो गुमनाम-सी वेब सीरीज़, जो अब इंडिया की सबसे बेहतरीन वेब सीरीज़ कही जा रही है.

फिल्म रिव्यू- अंग्रेज़ी मीडियम

ये फिल्म आपको ठठाकर हंसने का भी मौका देती है मुस्कुराते रहने का भी.

गिल्टी: मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

#MeToo पर करण जौहर की इस डेयरिंग की तारीफ़ करनी पड़ेगी.

कामयाब: मूवी रिव्यू

एक्टिंग करने की एक्टिंग करना, बड़ा ही टफ जॉब है बॉस!

फिल्म रिव्यू- बागी 3

इस फिल्म को देख चुकने के बाद आने वाले भाव को निराशा जैसा शब्द भी खुद में नहीं समेट सकता.

देवी: शॉर्ट मूवी रिव्यू (यू ट्यूब)

एक ऐसा सस्पेंस जो जब खुलता है तो न सिर्फ आपके रोंगटे खड़े कर देता है, बल्कि आपको परेशान भी छोड़ जाता है.

ये बैले: मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

'ये धार्मिक दंगे भाड़ में जाएं. सब जगह ऐसा ही है. इज़राइल में भी. एक मात्र एस्केप है- डांस.'

फिल्म रिव्यू- थप्पड़

'थप्पड़' का मकसद आपको थप्पड़ मारना नहीं, इस कॉन्सेप्ट में भरोसा दिलाना, याद करवाना है कि 'इट्स जस्ट अ स्लैप. पर नहीं मार सकता है'.

फिल्म रिव्यू: शुभ मंगल ज़्यादा सावधान

ये एक गे लव स्टोरी है, जो बनाई इस मक़सद से गई है कि इसे सिर्फ लव स्टोरी कहा जाए.

फिल्म रिव्यू- भूत: द हॉन्टेड शिप

डराने की कोशिश करने वाली औसत कॉमेडी फिल्म.