Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

ख़लील ज़िब्रान के ये 31 कथन 'बेहतर इंसान' बनने का क्रैश कोर्स हैं

611
शेयर्स

केवल 48 वर्ष की अवस्था में मृत्यु को प्राप्त हो चुके ख़लील ज़िब्रान को, उनके लेखन के चलते उस समय के धर्म-गुरुओं और रसूख वाले लोगों ने जाति से बहिष्कृत करके देश निकाला दे दिया था. ऐसे ‘क्रांतिकारी’ लेखक की पुस्तक, Sand & foam (रेत और झाग) से 31 झमाझम कोट्स पढ़िये और बेहतरी की तरफ़ एक कदम और बढ़ाइए:


#1

SNF - 1


#2

SNF - 2


#3

SNF - 3


#4

SNF - 4


#5

SNF - 5


#6

SNF - 6


#7

SNF - 7


#8

SNF - 8


#9

SNF - 9


#10

SNF - 10


#11

SNF - 11


#12

SNF - 12


#13

SNF - 13


#14

SNF - 14


#15

SNF - 15


#16

SNF - 16


#17

SNF - 17


#18

SNF - 18


#19

SNF - 19


#20

SNF - 20


#21

SNF - 21


#22

SNF - 22


#23

SNF - 23


#24

SNF - 24


#25

SNF - 25


#26

SNF - 26


#27

SNF - 27


#28

SNF - 28


#29

SNF - 29


#30

SNF - 30


#31

SNF - 31


ये भी पढ़ें:

मोदी के पास फरियाद लेकर आई थी शहीद की बहन, रैली से घसीटकर निकाला गया

कहानी गुजरात के उस कांग्रेसी नेता की, जो निर्विरोध विधायक बना

वो ईमानदार प्रधानमंत्री जिसका चुनाव धांधली के चलते रद्द हो गया

EVM में गड़बड़ी के इल्ज़ामों का ‘भेड़िया आया भेड़िया आया’ में बदल जाना खतरनाक है


Video देखें: इरशाद ने अतीत में भी दी लल्लनटॉप से ढेरों ‘दिल दियां गल्लां’ की हैं:

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
31 Quotes from Sand and Foam written by Kahlil Gibran

पोस्टमॉर्टम हाउस

जब हेमा के पापा ने धर्मेंद्र को जीतेंद्र के सामने धक्का देकर घर से निकाल दिया

घरवाले हेमा-धर्मेंद्र की शादी के सख्त खिलाफ थे.

क्या आपको पता है हेमा को 'ड्रीम गर्ल' कहना भी एक स्ट्रैटजी थी?

आज अपना 70वां जन्मदिन मना रही हैं हेमा मालिनी.

म्यूज़िक रिव्यू - जलेबी

इस म्यूज़िक एलबम के किसी गीत में उंगली रखकर आप ये नहीं कह सकते कि ये वाला गीत बेस्ट है.

मूवी रिव्यू: हेलीकॉप्टर ईला

जब आप ऊपर वाले के हाथ की कठपुतली नहीं होते, तब अपनी मां के हाथ की कठपुतली होते हैं.

फिल्म रिव्यू: तुम्बाड

ये फिल्म पहले कंफ्यूज़ करती है और फिर एक-एक कर धागे खोलने शुरू करती है. अंत में इसी खुले धागे में आपको बांधकर चली जाती है.

फिल्म रिव्यू: लवयात्रि

लवयात्रि एक ऐसी फिल्म है, जिसमें थोड़ा-बहुत फील गुड है. बढ़िया गाने हैं. गुजरात का छौंका है और एक घिसी-पिटी सी प्रेम कहानी है.

फिल्म रिव्यू: अंधाधुन

बड़े-बड़े लोग इसे साल की सबसे अच्छी फिल्म बता रहे हैं.

क्या हुआ जब एक किसान के दो बैल खो गए!

और मामले पर मीडिया की नज़र पड़ गई.

फिल्म रिव्यू: सुई धागा

सब मिलाकर ये एक प्यारी फिल्म है, जो बहुत ज्ञान न देने का ध्येय रखते हुए भी ज्ञान दे जाती है और आपको पता भी नहीं चलता.

फिल्म रिव्यू: पटाखा

उन दो बहनों की कहानी, जो पटाखा नहीं परमाणु बम हैं.