Submit your post

Follow Us

इस फिल्म को बनाने के दौरान मौत शाहरुख ख़ान को छूकर निकली थी!

3.03 K
शेयर्स

डायरेक्टर राकेश रोशन की फिल्म ‘कोयला’ की रिलीज़ को आज 22 साल पूरे हो गए हैं. 18 अप्रैल 1997 में इसे प्रदर्शित किया गया था. शाहरुख ख़ान और माधुरी दीक्षित ने लीड रोल किए थे. मेकिंग के दौरान की इन 16 बातों से फिल्म को याद कर रहे हैं.

#1: ‘कोयला’ 1990 में आई केविन कॉस्टनर स्टारर हॉलीवुड फिल्म ‘रिवेंज’ से प्रेरित थी. हालांकि राकेश रोशन ने ऐसी किसी प्रेरणा का कभी ज़िक्र नहीं किया. उनका कहना था कि ‘करण अर्जुन’ बनाने के बाद उन्हें नहीं समझ आ रहा था क्या बनाएं क्योंकि उनके पास कोई कहानी नहीं थी. वो सोच ही रहे थे, कि अपनी अन्य फिल्म ‘कारोबार’ की स्टोरी सिटिंग के लिए उनका खंडाला जाना हुआ. एक सुबह वहां वॉक कर रहे थे कि उन्हें ये आइडिया आया. एक इंटेंस लव स्टोरी का जो एक गूंगे नौजवान और एक गांव की भोली लड़की के बीच थी. पृष्ठभूमि में कोयला खदानें थीं.

1997 में हुए कोयला फिल्म के प्रीमियर पर कंपोजर राजेश रोशन, शाहरुख, अमरीश पुरी, माधुरी और डायरेक्टर राकेश रोशन.
1997 में हुए ‘कोयला’ के प्रीमियर पर कंपोजर राजेश रोशन, अमरीश पुरी, शाहरुख, माधुरी और राकेश रोशन.

#2: फिल्म का गाना ‘देखा तुझे तो, हो गई दीवानी..’ बहुत हिट हुआ था. फिल्म के कई गानों में कंपोजर राजेश रोशन ने मुख्य रूप में मटकों का इस्तेमाल किया. मटकों की धुन के पीछे बाकी मॉडर्न साऊंड डाले गए.

#3: सनी देओल इसमें हीरो के तौर पर राकेश रोशन की पहली पसंद थे. चूंकि ‘कोयला’ एक बड़ी एक्शन फिल्म थी और ‘अंगरक्षक’, ‘जीत’, ‘घातक’ जैसी फिल्मों के साथ उस समय सनी से बड़ा एक्शन हीरो कोई नहीं था. लेकिन किन्हीं वजहों से उन्होंने ये फिल्म नहीं की.

#4: उस सीन में जहां शंकर के रोल में शाहरुख आगे-आगे दौड़ रहे हैं और हैलीकॉप्टर उनका पीछा कर रहा है. उसमें हैली़कॉप्टर को नीचे आकर शाहरुख के बहुत करीब से निकल जाना था और उन्हें कलाबाज़ी खानी थी. तो हुआ ये कि पायलट लापरवाही से हैलीकॉप्टर को उनके सिर के बहुत करीब तक ले आया. शाहरुख को अपने सिर के पीछे कुछ अहसास हुआ, उन्होंने कलाबाज़ी खाई और ज़मीन पर गिर गए. पूरे क्रू को लगा कि हैलीकॉप्टर ने उनको टक्कर मार दी है. सबके होश फाख़्ता हो गए. दौड़कर आए. लेकिन शाहरुख बाल-बाल बच गए थे.

फिल्म का वो सीन.
फिल्म का वो सीन.

#5: ‘होश न खो दे कहीं…’ गाने के एक डांस स्टेप में शाहरुख को उछलकर घुटनों के बल ज़मीन पर गिरना था. ऐसा करते हुए उनके घुटने में चोट लग गई. ऐसा ग़लत बताया जाता है कि शाहरुख ने राकेश रोशन से कहा, कि सिनेमाघरों में इस सीन को पॉज़ किया जाए और फिर बड़े अक्षरों में लिखा आए – ‘यही वो सीन है जहां शाहरुख ख़ान का घुटना टूट गिया था’. ठीक वैसे ही जैसे ‘कुली’ फिल्म में अमिताभ बच्चन को पेट में लगी घातक चोट का सीन थियेटर्स में रोककर दिखाया गया था. बताया जाता है कि राकेश रोशन ने उनका आइडिया खारिज कर दिया. हालांकि इस बात में कोई सच्चाई नहीं है. शाहरुख ने फिल्म की मेकिंग के एक वीडियो में कहा था कि मेरा सपना है ऐसी फिल्म करूं जिसमें ऐसा कुछ लिखा आए. इसे सिनेमाघरों में दिखाने के लिए उन्होंने नहीं कहा था. शाहरुख ने ख़ुद स्पष्ट किया कि उन्होंने ऐसा कुछ भी राकेश रोशन से नहीं कहा था.

#6: ऋतिक रोशन ने ‘कोयला’ में अपने पिता को असिस्ट किया था. सेट पर हर छोटे से छोटा काम वो ख़ुद करते थे. एक्टर्स को सीन्स के लिए बुलाने जाते थे. इसके तीन साल बाद ऋतिक रोशन एक स्टार बन चुके थे. पिता राकेश रोशन ने उनको ‘कहो न प्यार है’ से लॉन्च किया था.

फिल्म "कोयला" के सेट पर शाहरुख को सीन समझाते डायरेक्टर राकेश रोशन और उन्हें सुनते हुए युवा ऋतिक.
सेट पर शाहरुख को सीन समझाते डायरेक्टर राकेश रोशन और उन्हें सुनते हुए युवा ऋतिक.

#7: फिल्म में उस सीन के देखकर दर्शकों के रौंगटे खड़े हो जाते हैं जहां शाहरुख के शरीर पर आग लगी हुई है और वो दौड़ रहे हैं. ये स्टंट उन्होंने ख़ुद किया था. उनके शरीर पर आग लगाई गई थी. आमतौर पर स्टंटमैन चेहरे पर मास्क लगाकर आग वाले सीन करते हैं लेकिन उन्होंने बिना मास्क के किया. उन्होंने फायर प्रूफ कपड़े पहन रखे थे और वॉटर जेल लगा रखा था लेकिन ये भी इंसान को 15 सेकेंड तक ही सुरक्षित रखता है. शाहरुख ने जब उस सीन का आखिरी टेक दिया तब दम घुटने से उनकी मौत हो सकती थी. उन्होंने बताया था:

“जब उन लोगों ने मुझे आग लगाई तो लपटों ने घेर लिया. और लपटें इतनी बढ़ गईं कि काबू से बाहर हो गईं. मैंने ख़ुद को ज़मीन पर गिरा लिया और लोगों ने मुझे घेर लिया. आगे बुझाने की कोशिश कर रहे थे. मेरे ऊपर गीले कंबल फेंके लेकिन उससे भी बात नहीं बनी. लपटें हर बार बढ़ जाती थीं. तभी एक लड़का था जो ये आगे देखकर डर गया और उसे लगा कि मेरे चेहरे पर भी आग लगी है. तो उसने कार्बन डाइऑक्साइड मेरे चेहरे पर छिड़क दी. मैंने सांस लेना बंद कर दिया था, क्योंकि सांस अंदर ले ही नहीं पा रहा था. वो दिन बहुत डराने वाला था. मैं मौत से बाल-बाल बचा था.”

मुंह पर पडती आग की लपटों के बीच दौड़ते शाहरुख.
मुंह पर पडती आग की लपटों के बीच दौड़ते शाहरुख.

#8: इस फिल्म की शूटिंग चीन के बॉर्डर से सिर्फ दो किलोमीटर दूर लोकेशन पर भी हुई थी. राकेश रोशन ने झरनों, जंगलों, पहाड़ों और ग्रीन लोकेशन के लिए अरुणाचल प्रदेश को चुना था. वे गुवाहाटी गए. वहां से करीब 17 घंटे की ड्राइव के बाद आने वाली एक आउटपोस्ट तक उनकी शूटिंग हुई जहां से चीन की सीमा महज दो किलोमीटर दूर थी. इसके अलावा ‘कोयला’ की शूटिंग जयपुर, हैदराबाद, ऊटी और अन्य जगहों पर भी हुई.

#9: फिल्म में हीरोइन के लिए मेकर्स की पहली पसंद सोनाली बेंद्रे थीं.

#10: ‘कोयला’ के गाने इंदीवर ने लिखे थे. ‘तन्हाई तन्हाई तन्हाई दोनों को पास ले आई..’, ‘देखा तुझे तो, हो गई दीवानी..’ और ‘घुंघटे में चंदा है, फिर भी है फैला चारों ओर उजाला’ जैसे गाने दो दशक बाद भी फिल्म की याद ताज़ा कर देते हैं.

#11: अरुणाचल प्रदेश में तवांग से कुछ पहले एक खूबसूरत झील पर माधुरी और शाहरुख के बीच एक गाने की शूटिंग हुई थी. 1996 तक इस झील को संगत्सेर लेक कहा जाता था लेकिन उस साल फिल्म की शूटिंग के बाद से इसे ‘माधुरी लेक’ कहा जाने लगा. ‘कोयला’ की शूटिंग के बाद यहां पर्यटकों की आवाजाही बढ़ गई. इस झील का नाम माधुरी लेक पड़ने के बाद स्थानीय बौद्ध भिक्षु नाराज हुए थे.

"तन्हाई.." गाने में नाचती हुईं माधुरी. उसके बाद से किसी को इस झील को ढूंढ़ना हो तो गूगल पर माधुरी लेक डालना पड़ता है.
“तन्हाई..” गाने में नाचती हुईं माधुरी. उसके बाद से किसी को इस झील को ढूंढ़ना हो तो गूगल पर ‘माधुरी लेक’ डालना पड़ता है.

#12: ‘कोयला’ की मेकिंग के दौरान ही फ्रांस के केन फिल्म फेस्टिवल में एक फिल्म गई थी जिसका नाम था ‘कोलया.’ दोनों के नामों में समानता की वजह से कई जोक किए गए. जबकि चैक गणराज्य की फिल्म ‘कोलया’ को यान स्वेराक नाम के महत्वपूर्ण डायरेक्टर ने बनाया था. इस फिल्म ने बेस्ट फॉरेन फिल्म का ऑस्कर भी जीता था.

कोयला और कोलया के पोस्टर.
कोयला और कोलया के पोस्टर.

#13: माधुरी ने फिल्म में अपने बहुत सारे कठिन एक्शन सीक्वेंस ख़ुद किए थे. जैसे अरुणाचल में जबरदस्त ठंड में उन्होंने पानी वाला सीन किया. इसमें उन्हें और शाहरुख को पानी में डूबते हुए जाना था और आगे एक गिरता हुआ झरना था. इस सीन में उनके पास सिर्फ स्टंट वायर की सेफ्टी ही थी. जमा देने वाले पानी से कोई बचाव नहीं था.

#14: ‘कोयला’ बॉक्स ऑफिस पर कमाई के मामले में फ्लॉप रही थी. आज तक इसे शाहरुख की सबसे बड़ी फ्लॉप फिल्मों में गिना जाता है. हालांकि इसके गाने सुपरहिट थे, बड़ी खूबसूरत लोकेशंस थीं, अमरीश पुरी और सलीम घाउस जैसे खूंखार विलेन थे, माधुरी और शाहरुख जैसी परफेक्ट जोड़ी थी, जबरदस्त एक्शन सीक्वेंस थे, जॉनी लीवर और अशोक सर्राफ की कॉमेडी थी और कठोर हालातों में फिल्म बनाई गई थी. राकेश रोशन से पूछा गया कि फिर भी फिल्म पिटी क्यों तो उनका कहना था:

“पता नहीं, शायद फिल्म की रिलीज के टाइम दर्शकों के बीच अलग तरह का मूड था. फिल्म हमेशा दर्शकों के मूड के हिसाब से सेट नहीं हो पाती. पता नहीं मेरी फिल्म ‘करण अर्जुन’ इतनी बड़ी हिट क्यों थी. मैं नहीं जानता ‘किशन कन्हैया’ और ‘ख़ून भरी मांग’ ने इतना अच्छा परफॉर्म क्यों किया. ठीक इसी तरह मैं ये नहीं जानता कि ‘कोयला’ ने अच्छा परफॉर्म क्यों नहीं किया. शायद जब ये रिलीज हुई तब वो समय था जब दर्शक हिंसक एक्शन फिल्मों से दूर जा रहे थे और रोमैंटिक फिल्मों के प्रति आकर्षित हो रहे थे.”

#15: तवांग में फिल्म की शूटिंग सब लोगों के लिए बहुत टफ थी. शाहरुख का कहना था कि ये बहुत ही कठिन फिल्म थी. वहां ठंड बहुत ज्यादा थी. इस वजह से कई-कई दिन शूटिंग रुकी रहती थी. ठंड की वजह से लोगों को घाव हो जाते थे. एक ऐसा ही किस्सा है जब पहाड़ पर एक सीन शूट हो रहा था. शाहरुख को पहाड़ पर खड़े दिखाना था. राकेश रोशन उन्हें छोड़ने गए तो सीन पर बातें करते हुए हैलीकॉप्टर पर हाथ रखकर खड़े थे. वहां उनका हाथ ठंड से जल गया था.

#16: शंकर का गला रेतकर राजा साहब पहाड़ से नीचे फेंक देते हैं. उसके बाद उसका उपचार होता है. एक सीन है जब शंकर के पैर की हड्डी जोड़ने के लिए लकड़ियां बांधी हुई हैं और वो दौड़ता है और इतना तेज़ दौड़ता है कि लकड़ियां अपने आप टूटकर गिर जाती हैं और वो ठीक हो जाता है. ठीक ऐसा ही सीन इससे तीन साल पहले आई टॉम हैंक्स स्टारर बड़ी पॉपुलर हॉलीवुड फिल्म ‘फॉरेस्ट गंप’ में भी था जहां छोटे बच्चे फॉरेस्ट के पैरों में स्टील के ब्रेस बंधे हुए हैं और कुछ बड़े लड़के उसे बुली करते हैं और उसकी दोस्त उसे कहती है – ‘भाग फॉरेस्ट भाग’. और वो इतना तेज़ दौड़ता है कि सारे ब्रेस खुलकर गिर जाते हैं.

'फॉरेस्ट गंप' और 'कोयला' के संबंधित दृश्य.
‘फॉरेस्ट गंप’ और ‘कोयला’ के वो सीन.
लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
16 Trivia about film Koyla you’ll enjoy reading : How Shah Rukh Khan nearly got killed in this Rakesh Roshan film also starring Madhuri Dixit

पोस्टमॉर्टम हाउस

मेड इन हैवन: रईसों की शादियों के कौन से घिनौने सच दिखा रही है ये सीरीज़?

क्यों ये वेब सीरीज़ सबसे बेस्ट मानी जाने वाली सीरीज़ 'सेक्रेड गेम्स' से भी बेस्ट है.

गेम ऑफ़ थ्रोन्स सीज़न 8 एपिसोड 4 - रिव्यू

सब कुछ तो पिछले एपिसोड में हो चुका, अब बचा क्या?

मूवी रिव्यू: सेटर्स

नकल माफिया कितना हाईटेक हो सकता है, ये बताने वाली थ्रिलर फिल्म.

फिल्म रिव्यू: ब्लैंक

आइडिया के लेवल पर ये फिल्म बहुत इंट्रेस्टिंग लगती है. कागज़ से परदे तक के सफर में कितनी दिलचस्प बन बाती है 'ब्लैंक'.

'जुरासिक पार्क' जैसी मूवी के डायरेक्टर ने सत्यजीत राय की कहानी कॉपी करके झूठ बोला!

जानिए क्यों राय अपनी वो हॉलीवुड फिल्म न बना पाए, जिसकी कॉपी सुपरहिट रही थी, और जिसे फिर बॉलीवुड ने कॉपी किया.

ढिंचाक पूजा का नया गाना, वो मोदी विरोधी हो गईं हैं

फैंस के मन में सवाल है, क्या ढिंचाक पूजा समाजवादी हो गई हैं?

गेम ऑफ़ थ्रोन्स सीज़न 8 एपिसोड 3 - रिव्यू

एक लंबी रात, जो अंत में आपको संतुष्ट कर जाती है.

कन्हैया के समर्थन में गईं शेहला राशिद के साथ बहुत ग़लीज़ हरकत की गई है

पॉलिटिक्स अपनी जगह है लेकिन ऐसा घटिया काम नहीं होना था.

एवेंजर्स एंडगेम रिव्यू: 11 साल, 22 फिल्मों का ग्रैंड फिनाले, सुपरहीरोज़ का महाकुंभ और एक थैनोस

याचना नहीं, अब रण होगा!

क्या शीला दीक्षित ने कहा कि सरकारी स्कूल में बूथ न बनें, वरना लोग स्कूल देख AAP को वोट दे देंगे?

ज़ी रिबप्लिक के बाकी ट्वीट पढ़ेंगे तो पूरा मामला क्लियर हो जाएगा.