Submit your post

Follow Us

अमेरिका में भारत के नाम का डंका बजाने वाले भारत के इस राष्ट्रपति की ये 15 बातें सुनिए

साल 1921 में मैसूर के महाराजा कॉलेज से एक प्रोफ़ेसर कलकत्ता यूनिवर्सिटी जा रहे थे. छात्रों ने अपने सबसे प्रिय अध्यापक को फूलों से सजी बग्घी में बिठाया. लेकिन उस बग्घी को खींचने के लिए घोड़े नहीं थे. बल्कि छात्रों ने ख़ुद उसे खींचकर प्रोफ़ेसर को मैसूर स्टेशन तक पहुंचाया और विदाई दी. प्रोफ़ेसर का नाम था डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन. 20 साल की उम्र में प्रोफ़ेसर बने राधाकृष्णन आगे चलकर भारत के राष्ट्रपति बने. डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का नाम 1937 में दर्शन के क्षेत्र में किए उनके काम की वजह से साहित्य के नोबेल पुरस्कार के लिए नामांकित किया गया.

भारत में हर साल 5 सितंबर को ‘शिक्षक दिवस’ के तौर पर मनाया जाता है. जब एक बार कुछ छात्रों ने राधाकृष्णन का जन्मदिन मनाना चाहा तो उनका जवाब था कि ‘मेरे जन्मदिन पर अगर भारत में शिक्षकों का सम्मान होगा तो मैं भी सम्मानित महसूस करूंगा’. इसी के बाद भारत में हर 5 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाया जाने लगा.

पूरी दुनिया में राधाकृष्णन बतौर भारत के राष्ट्रपति कम और दार्शनिक-विचारक के तौर पर ज़्यादा पहचाने जाते हैं. साल 1926 में अमेरिका की हावर्ड यूनिवर्सिटी में फ़िलॉसफ़ी कांग्रेस हुई. वहां डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने लेक्चर दिया, उससे पूरे अमेरिका को स्वामी विवेकानंद याद आ गए. जिन्होंने ऐसा ही एक भाषण शिकागो में दिया था. आइए आज जानते हैं डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की कही 15 बातें –

#1)शिक्षा का परिणाम एक मुक्त रचनात्मक व्यक्ति होना चाहिए, जो ऐतिहासिक परिस्थितियों और प्राकृतिक आपदाओं के विरुद्ध लड़ सके.

सर्वपल्ली राधाकृष्णन

 

#2)शिक्षक वह नहीं जो छात्र के दिमाग में तथ्यों को जबरन ठूंसेबल्कि वास्तविक शिक्षक तो वह है जो उसे आने वाले कल की चुनौतियों के लिए तैयार करे.

सर्वपल्ली राधाकृष्णन

 

#3)  कोई भी आज़ादी तब तक सच्ची नहीं होती, जब तक उसे विचार की आज़ादी प्राप्त न हो.

सर्वपल्ली राधाकृष्णन 3

 

#4)  शिक्षा से ही मानव मस्तिष्क का सदुपयोग किया जा सकता है. अत: विश्व को एक ही इकाई मानकर शिक्षा का प्रबंधन करना चाहिए.

सर्वपल्ली राधाकृष्णन 4

 

#5)  किताबें पढ़ने से हमें एकांत में विचार करने की आदत और सच्ची खुशी मिलती है.

सर्वपल्ली राधाकृष्णन 5

 

#6)  हमें मानवता की उन नैतिक जड़ों को अवश्य याद रखना चाहिए जिनसे अच्छी व्यवस्था और स्वतंत्रता दोनों बनी रहें.

सर्वपल्ली राधाकृष्णन 6 (1)

 

#7)  राष्ट्रव्यक्तियों की तरह हैंउनका निर्माण केवल इससे नहीं होता है कि उन्होंने क्या प्राप्त किया, बल्कि इससे होता है कि उन्होंने क्या त्याग किया है.

सर्वपल्ली राधाकृष्णन 7 (1)

 

#8)  मानव का दानव बनना उसकी हार है. मानव का महामानव बनना उसका चमत्कार है. मनुष्य का मानव बनना उसकी जीत है.

सर्वपल्ली राधाकृष्णन 8

 

#9)  हमारे सारे विश्व संगठन गलत साबित हो जाएंगे यदि वे इस सत्य से प्रेरित नहीं होंगे कि प्यार ईर्ष्या से ज्यादा मजबूत है.

सर्वपल्ली राधाकृष्णन 9

 

#10)  इस जीवन में जो कुछ होता हैवह सब कुछ हमारी आंखें नहीं देख पातीं. जीवन केवल भौतिक कारणों तथा प्रभावों की श्रृंखला मात्र नहीं है.

राधाकृष्णन 11

 

#11)  हम दुनिया के सामने पराजय की तुलना में अपनी सफलता, और अपनी हानि के बजाय लाभ का दिखावा करने के लिए ज़्यादा उत्सुक रहते हैं.

सर्वपल्ली राधाकृष्णन 12

 

#12)  सच्चा गुरु भगवद् गीता के कृष्ण की तरह होता हैजो अर्जुन को स्वयं देखने तथा अपनी इच्छानुसार कार्य करने का परामर्श देता है- यथे इच्छसि तथा कुरू’

सर्वपल्ली राधाकृष्णन 13 (1)

 

#13)  ज्ञान हमें शक्ति देता है और प्रेम हमें पूर्णता प्रदान करता है.

सर्वपल्ली राधाकृष्णन 14

 

#14)  वैभवताकत और कार्यकुशलता जीवन के साधन हैंजीवन नहीं.

सर्वपल्ली राधाकृष्णन 15

 

#15)  पूजा ईश्वर की नहीं होती बल्कि उनके नाम पर प्रवचन करनेवालों की होती है. पवित्रता का उल्लंघन करना पाप नहींबल्कि इनकी आज्ञा नहीं मानना पाप बन जाता है.

सर्वपल्ली राधाकृष्णन 16

तो ये थीं वो 15 बातें जो डॉक्टर राधाकृष्णन ने दुनिया को बताई थीं. दुनिया के लिए बताई थीं. भारत के दूसरे राष्ट्रपति को शिक्षा से इतना लगाव था कि उनके जन्मदिन पर देशभर के शिक्षक सम्मानित किए जाते हैं. ये उनकी शिक्षाओं का निचोड़ है. पढ़िए, समझिए.


और विस्तार से जानना चाहते हैं तो इस वीडियो को देखिए –

महामहिम: जब भारत के इस राष्ट्रपति ने चीन के तानाशाह के गाल थपथपा दिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

मूवी रिव्यू - अंतिम: द फाइनल ट्रुथ

मूवी रिव्यू - अंतिम: द फाइनल ट्रुथ

कायदे से ये सलमान खान फिल्म नहीं होनी चाहिए थी, लेकिन बन जाती है.

फिल्म रिव्यू- सत्यमेव जयते 2

फिल्म रिव्यू- सत्यमेव जयते 2

'सत्यमेव जयते 2' मसाला जॉनर का नाम खराब करने वाला कॉन्टेंट है.

वेब सीरीज़ रिव्यू: इल्लीगल सीज़न  2

वेब सीरीज़ रिव्यू: इल्लीगल सीज़न 2

नेहा शर्मा, पीयूष मिश्रा का ये शो 'सूट्स' तो नहीं, लेकिन बुरा भी नहीं.

फिल्म रिव्यू- ये मर्द बेचारा

फिल्म रिव्यू- ये मर्द बेचारा

फिल्म का मक़सद ये था कि टॉक्सिक मैस्क्यूलिनिटी और जेंडर स्टीरियो टाइप को तोड़ा जाए, मगर फिल्म ओवरबोर्ड चली जाती है.

ट्रेलर रिव्यू: 'इनसाइड एज-3'

ट्रेलर रिव्यू: 'इनसाइड एज-3'

कितने नए सस्पेंस हैं इस स्पोर्ट्स ड्रामा की तीसरी किस्त में?

फिल्म रिव्यू: धमाका

फिल्म रिव्यू: धमाका

कार्तिक आर्यन की फिल्म ने 'धमाका' किया या नहीं?

फिल्म रिव्यू- बंटी और बबली 2

फिल्म रिव्यू- बंटी और बबली 2

ये फिल्म अपने होने को जस्टिफाई नहीं कर पाती. यही इसकी सबसे बड़ी कमी है.

फिल्म रिव्यू: चुरुली

फिल्म रिव्यू: चुरुली

साइंस फिक्शन फिल्म, जो भगवान का शुक्रिया अदा करती है.

फ़िल्म रिव्यू :अंडमान

फ़िल्म रिव्यू :अंडमान

लॉकडाउन के दौर पर बनी रियलिस्टिक फिल्म, जिसकी राइटिंग कमाल की है.

क्या ख़ास है'अंडमान' फिल्म में, जो सिर्फ मेकर्स को नहीं आपको भी पैसे कमाकर देगी

क्या ख़ास है'अंडमान' फिल्म में, जो सिर्फ मेकर्स को नहीं आपको भी पैसे कमाकर देगी

कैसा है 'अंडमान' फिल्म का ट्रेलर, जिसमें संजय मिश्रा चप्पू चला रहे हैं?