Submit your post

Follow Us

रेशमा के 12 गाने जो जीते जी सुन लेने चाहिए!

शुरू करने से पहले वो वीडियो देखिए जो मन में ऐसी कहानी दौड़ा देता है कि ये रश ड्रग्स जैसा लगता है. एक बंजारन लड़की रेशमा. पढ़ाई लिखाई नहीं की. मुंह में चांदी का चमचा, सिरहाने मलमल का तकिया नहीं मिला. गलियों, फुटपाथों पर सौदागरी करते हुए वो सम्मान नहीं मिला जो एक इंसान को मिलना चाहिए. एक औरत होने के नाते जो जकड़ने होती हैं, वो थीं. एक गायिका के नाते दो वक्त की रोटी कमाने के संघर्ष भी रहे. रेशमा ने गाना रियाज़ करके नहीं सीखा. आवारा भटकते हुए सीखा, भूखे पेेट सीखा. ठोकरों ने उनके गाने ‘बिछड़े अभी तो हम बस कल परसों..’ में दर्द भरा. और इसीलिए बिना किन्हीं मुर्कियों के गीत मूल्यवान हो जाता है. न जाने कितने दर्द रेशमा के जीवन में रहे होंगे कि ऐसी हूक वे दे पाती थीं.

जवानी में ये गाना गाया. हिट हो गईं. फिर परिवार, बच्चे, घरेलू दुश्वारियां, सामाजिक दिक्कतें – इन सब में घिसती चली गईं.

फिर संगीत की दुनिया बदली. वे आसमान से जमीन पर आ गईं. उनका गायन पुराना पड़ गया. चमक-धमक जीत गई. न जाने कितनी रातें रेशमा रोई होंगी.

ये सब विचार उस समय मन में कौंध जाते हैं जब हम 2008 में पाकिस्तान में हुए एक स्टाइल अवॉर्ड्स में आवाज सुनते हैं ‘बिछड़े अभी तो हम..’ और फिर रेशमा मंच पर आती हैं. बूढ़ी. गले के भीतर कैंसर से कर दिए गए घाव और वहां से स्पर्श करके निकलती वो आवाज. सोचते हुए रोना आता है. आतिफ असलम आते हैं और जब ये पंक्ति गाते हैं, “टूटे जमाने तेरे हाथ निगोड़े..” और आंखें भीग जाने को तैयार हो जाती हैं. क्योंकि मन में वो उधेड़बुन चल रही होती है कि जमाने और रेशमा का आमना सामना है. नियति और रेशमा का आमना-सामना है. रेशमा के जीवन में कोई प्रेम भी रहा होगा जिसने विरह दी होगी ये भी मन में आता है क्योंकि गीत ऐसा सोचने पर मजबूर कर देता है.

आतिफ आगे गाते हैं,  “दिल से दिलों के तूने शीशे तोड़े, हिज्र की ऊंची दीवार बनाई, हाय लंबी जुदाई.”

ये जुदाई प्रेमी से भी है, जीवन के सुखों से भी, पर्याप्त सम्मान से भी, शरीर की तंदुरुस्ती से भी, संगीत की दुनिया में ऊपर बने रहने से भी.

इमोशंस और भी भारी हो जाते हैं जब रेशमा को देखते हैं. वे चुप चाप नीचे देखते हुए सुन रही होती हैं. जीवन ने उन्हें जो भी दिया है, चुप चाप उन्होंने सहा है, भोगा है. कल्पनाएं करोड़ों की संख्या में दिमाग में दौड़ने लगती हैं. ज्यादा कुछ समझ नहीं आता. बस इसे देखते हुए रोना आता है.

ये आंसू उन कलाकारों के लिए भी हैं जो ठोकरों से बनाए जाते हैं. इतनी पीड़ा के बाद उनका गला वो लहरें निकालता है जो बहा ले जाती हैं. खाली पेट, पीड़ा में गा रहे होते हैं तो वो गीत अमर हो जाते हैं. हमें सुनने का ये सुख देने के लिए उन्हें इन सबसे से गुजरना पड़ता है और एक दिन जब वे बूढ़े हो जाते हैं तो हम उन्हें छोड़ देते हैं. इस ट्रैजिडी से हमारे ज्यादातर आइकॉनिक गायक नवाजे गए हैं. रेशमा उनमें से एक हैं, प्रमुख हैं. अगर हम उन्हें पूरी डिग्निटी देते हुए और उनके गीतों की ऐतिहासिकता को समझते हुए सुनेंगे तो बहुत आनंदित हो जाएंगे. जीते जी एक बार ये आनंद लेना चाहिए.

#1. बिछड़े अभी तो हम बस कल परसों

#2. हायो रब्बा नइयो लगदा दिल मेरा

#3. औंदियां नसीबां नाले ए घड़ियां

#4. इक तैनू मंगेया इ रब्ब कोलों, कोई होर दुआ मंगेया नइ

#5. किते नैन ना जोड़ीं

#6. वे मैं चोरी चोरी तेरे नाल ला लेय्यां अक्खां वे

#7. साड्‌डे वल मुखड़ा मोड़, वे प्यारेया साड्‌डे वल मुखड़ा मोड़

#8. अखियां नूं रेण दे अखियां दे कौल कौल

#9. केसरिया बालम आवो नी

#10. तू मिल जावें दुख मुक जांदे ने

#11. लो दिल की बात आप भी हम से छुपा गए

#12. फूल बनड़ो, रे नादान बनड़ो

Also Read :
रेशमा: वो बंजारन जिसके गाने सुन क्रेज़ी हो गए थे राजकपूर, बटालवी, दिलीप साब

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

बाबा बने बॉबी देओल की नई सीरीज़ 'आश्रम' से हिंदुओं की भावनाएं आहत हो रही हैं!

आज ट्रेलर आया और कुछ लोग ट्रेलर पर भड़क गए हैं.

करोड़ों का चूना लगाने वाले हर्षद मेहता पर बनी सीरीज़ का टीज़र उतना ही धांसू है, जितने उसके कारनामे थे

कद्दावर डायरेक्टर हंसल मेहता बनायेंगे ये वेब सीरीज़, सो लोगों की उम्मीदें आसमानी हो गई हैं.

फिल्म रिव्यू- खुदा हाफिज़

विद्युत जामवाल की पिछली फिल्मों से अलग मगर एक कॉमर्शियल बॉलीवुड फिल्म.

फ़िल्म रिव्यू: गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल

जाह्नवी कपूर और पंकज त्रिपाठी अभिनीत ये नई हिंदी फ़िल्म कैसी है? जानिए.

फिल्म रिव्यू: शकुंतला देवी

'शकुंतला देवी' को बहुत फिल्मी बता सकते हैं लेकिन ये नहीं कह सकते इसे देखकर एंटरटेन नहीं हुए.

फ़िल्म रिव्यूः रात अकेली है

नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी और राधिका आप्टे अभिनीत ये पुलिस इनवेस्टिगेशन ड्रामा आज स्ट्रीम हुई है.

फिल्म रिव्यू- यारा

'हासिल' और 'पान सिंह तोमर' वाले तिग्मांशु धूलिया की नई फिल्म 'यारा' ज़ी5 पर स्ट्रीम होनी शुरू हो चुकी है.

फिल्म रिव्यू- दिल बेचारा

सुशांत के लिए सबसे बड़ा ट्रिब्यूट ये होगा कि 'दिल बेचारा' को उनकी आखिरी फिल्म की तरह नहीं, एक आम फिल्म की तरह देखा जाए.

सैमसंग के नए-नवेले गैलेक्सी M01s और रियलमी नार्ज़ो 10A की टक्कर में कौन जीतेगा?

सैमसंग गैलेक्सी M01s 9,999 रुपए में लॉन्च हुआ है.

अनदेखी: वेब सीरीज़ रिव्यू

लंबे समय बाद आई कुछ उम्दा क्राइम थ्रिलर्स में से एक.