Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

लेडीज संगीत में इन गानों पर होता है धतिंग नाच

1.49 K
शेयर्स

ब्याह का एक मतलब होता है खूब सारा खाना और उससे भी ज्यादा नाच गाना. बिन फेरे ब्याह हो सकता है, पर बिन नाचे नहीं. लड़कियां लहंगा बाद में लेती हैं, कंफर्ट पहले देखती हैं कि पहन के नाच पाएंगी या नही. जो कभी नहीं खाते, वे इम्तिहान में घी खाते हैं और जो कभी नहीं नाचते, वे शादियों में नाच डालते हैं. हम डीजे वाले बाबू के गानों की बात नहीं कर रहे. हम तो ख़ास वही गाने गिनाएंगे, जिन पर लड़कियां घरेलू माहौल में लेडीज संगीत में दबाकर नाचती हैं.

लेडीज संगीत अकसर होता है बंद कमरे में. माहौल एकदम घरेलू और होती हैं सिर्फ औरतें. इसलिए लड़कियों को शर्म के लिहाफ नहीं ओढ़ने पड़ते. बहनें और भाभियां खुशी में नाचती हैं तो न अपने बढ़े हुए वजन की शर्म करती हैं, न घूंघट और दुपट्टे की फिक्र.

1. मेरे हाथों में नौ-नौ चूड़ियां हैं

चूड़ियों से लदी ननदें जब पैर पटक-पटक के इस गाने पर नाचती हैं तो शामत पुरानी भौजाइयों के कपारे आती है. न नाचें तो ननदें कोंथ डालती हैं. और जो नाचना शुरू करती हैं तो खुद ही रुकने का नाम नहीं लेतीं.

2. सात समंदर पार मैं तेरे पीछे-पीछे आ गई

ये तिलक वाला गाना है. किनारे में डीजे थके-थके सा बज रहा होता है. सबका ध्यान पीली-गुलाबी पन्नियों वाले थाल पर होता है और तभी अचानक किसी को नाच का कीड़ा काट लेता है. कोई भाभी एकदम पगला जाती हैं.

3. जोरा-जोरी चने के खेत में

ये वो वाला गाना है, जिसमें दुष्ट किस्म की लड़कियां सबसे सयानी ताइयों को कूल्हे खिसकने की हद तक नचवा देती हैं.

4. दीदी तेरा देवर दीवाना

नाचने वालों में एक प्रोफेशनल डांसर हुआ करते हैं. पहले तो ये हाली-हूला नाचना शुरू करते हैं. पर अचानक से स्पार्क मिले तो दम फूने तक नाचते हैं. अक्सर उनके लिए ये वाला गाना स्पार्क का काम करे है.

5. माही वे

इस गाने पर लड़कियां नाचती हैं. खूब नाचती हैं. दो-चार को साथ में लेकर नाचती हैं. बिना इस बात पर ध्यान दिए कि आधा गाना तो लड़कों की ओर से गाया जा रहा होता है. :grin:

6. बोले चूड़ियां

ई गाना नहीं है. ई रसम है, रसम. अनिवार्य है कि ये वाला तो बजनय है. ऊपर से जब से 'ये जवानी है दीवानी' आई तो ये गाना कल्ट बन गया.

7. आजा नचले

ये वो गाना है जिसमें दूल्हे की छोटी-छोटी भांजियां पहली बार लहंगा पहनने के बाद नाचा करती हैं. ये और बात है कि वो नाचती कम और बाकी नाचने वालों के पैर पर ज्यादा कूदती हैं.

8. नवराई माझी

ये नॉन डांसर्स के लिए नेमत जैसा गाना है. जो पूरे जोर से नहीं नाचते. दो लाइन पर थिरकने के बाद लजा-सकुचा के अपनी जगह बैठ मुस्काते हैं. ये वाला गाना उन्हीं के लिए है.

9. राधा ऑन द डांस फ्लोर

ये गाना वैसे तो वार्षिकोत्सव से लेकर फेयरवेल पार्टी तक का गाना बन चुका है. डीजे में भी बज जाता है और हल्दी लगाने वाली रस्म में भी. मजे कि ये घर वालों के आगे 'सेक्सी' जैसे शब्दों पर नाच भी लेते हैं और कोई चूं भी नहीं करता.

10. चिट्टियां कलाइयां वे

चिट्टियां कलाइयां शादी के गानों के स्टॉक का लेटेस्ट वाला है. गाना बजा नहीं कि लड़कियां आगे से लहंगा उठाकर यूं भागने आती हैं मानो लेट हो गईं तो कोई दूसरा उनके हिस्से का नाच जाएगा.

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
10 wedding songs girls dance to in a wedding

पोस्टमॉर्टम हाउस

2.0 का ट्रेलर आ गया, जिसे देखकर मोबाइल फ़ोन रखने वाले हर आदमी को डर लगेगा

साथ ही पढ़िए इस फिल्म की मेकिंग से जुड़ी 9 दिलचस्प बातें.

'डोंबिवली फास्ट': जब एक अकेला आदमी सिस्टम सुधारने निकल पड़ा

और फिर पूरे सिस्टम ने उसे मिटा डालने के लिए कमर कस ली.

फिल्म रिव्यू: काशी इन सर्च ऑफ गंगा

ऐसी फ़िल्में देखकर हर फिल्म क्रिटिक को अपने प्रोफेशन पर गर्व होता है!

फिल्म रिव्यू: बाज़ार

हाल-फिलहाल में जितने भी स्टारकिड्स ने डेब्यू किया है, उनमें से किसी को रोहन जैसा पोटासभरा कैरेक्टर प्ले करने का मौका नहीं मिला है.

फ़िल्म रिव्यू: नमस्ते इंग्लैंड

ये ऐसी फ़िल्म है जिसका कोई स्पॉइलर नहीं हो सकता!

फिल्म रिव्यू: बधाई हो

मां की प्रेग्नेंसी जैसे असहज करने वाले सब्जेक्ट पर बनी सपरिवार देखने लायक फिल्म.

जब हेमा के पापा ने धर्मेंद्र को जीतेंद्र के सामने धक्का देकर घर से निकाल दिया

घरवाले हेमा-धर्मेंद्र की शादी के सख्त खिलाफ थे.

क्या आपको पता है हेमा को 'ड्रीम गर्ल' कहना भी एक स्ट्रैटजी थी?

आज अपना 70वां जन्मदिन मना रही हैं हेमा मालिनी.

म्यूज़िक रिव्यू - जलेबी

इस म्यूज़िक एलबम के किसी गीत में उंगली रखकर आप ये नहीं कह सकते कि ये वाला गीत बेस्ट है.

मूवी रिव्यू: हेलीकॉप्टर ईला

जब आप ऊपर वाले के हाथ की कठपुतली नहीं होते, तब अपनी मां के हाथ की कठपुतली होते हैं.