Submit your post

Follow Us

10 बातें, जिनसे पता चलता है कि नरेंद्र मोदी, नेहरू के सबसे बड़े फॉलोवर हैं

नेहरू. नरेंद्र.दो शख्स. दो शख्सियतें. एक देश के पहले प्रधानमंत्री. एक मौजूदा PM. एक कांग्रेस से. एक भाजपा से. दोनों के बीच अंतर ढूंढने चलें, तो इतने मिलेंगे कि उस पर शायद एक सीरीज़ चल पड़े. लेकिन हमें दोनों के बीच कुछ स्ट्राइकिंग समानताएं भी पता लगी हैं. सो- मच-सो कि ऐसा लगता है कि जवाहर लाल नेहरू के धुर-विरोधी नरेंद्र दामोदर मोदी पूरी तरह उनका अनुसरण करते हुए लगते हैं. और हम कोई स्वीपिंग कमेंट्स नहीं दे रहे हैं. हम तथ्यों के साथ समानताएं बता रहे हैं. और जहां पर समानताएं होती हैं वहां पर ये कहना कतई अनुचित नहीं कि वर्तमान, अतीत का अनुसरण कर रहा है. तो आइए देखें कैसे-

# फैशन –

कहते हैं कि इतिहास अपने को दोहराता है, और ये भी कहते हैं कि फैशन लौट कर वापस आता है. बाकी हमसे ज़्यादा ये फोटो बोलती हैं. पहले नेहरू जैकेट के नाम से फेमस ये फैशन अब नाम बदलावों के इस दौर में मोदी जैकेट के नाम से जाना जाता है.

दस अंतर ढूंढो - लेफ्ट वाला नेहरू जैकेट है और राईट वाला मोदी जैकेट. (तस्वीरे क्रमशः indrayanihandlooms.com और wedlista.com से)
दस अंतर ढूंढो – लेफ्ट वाला नेहरू जैकेट है और राईट वाला मोदी जैकेट. (तस्वीरे क्रमशः indrayanihandlooms.com और wedlista.com से)
ये भी पढ़ें: मोदी को अपने गोडसे भक्त समर्थकों पर यकीन है, इसलिए वे गांधी हो जाना चाहते हैं

# फैशन टू पॉइंट ओ –

दोनों ही प्रधानमंत्री नॉर्थ ईस्ट के के प्रति ह्रदय में एक अलग की (अच्छी) भावनाएं क्रमशः रखते थे और रखते हैं. दोनों की नॉर्थ ईस्ट विज़िट की तस्वीरों पर गौर फरमाएं.

नेहरू की तस्वीर http://nehruportal.nic.in और मोदी की इंडिया टुडे से ली गई है)
नेहरू की तस्वीर http://nehruportal.nic.in से और मोदी की तस्वीर इंडिया टुडे से ली गई है

# नियति से साक्षात्कार –

दो राष्ट्र के नाम संदेश भारत के इतिहास में स्वर्णाक्षरों से अंकित हो गए हैं. एक नेहरू का आज़ादी से एक दिन पहले का, जिसका नाम था ट्रिस्ट विद डेस्टिनी यानी नियति से साक्षात्कार और दूसरा नोटबंदी से एक दिन पहले का जिसका कोई नाम नहीं था. दोनों की एक लाइन बहुत प्रसिद्ध हुई. और वो एक लाइन, वो एक उद्घोष अक्षरशः समान है – एट दी स्ट्रोक ऑफ़ मिडनाईट… और आज रात बारह बजे के बाद…

दो तस्वीरें जिन्हें देखकर आज भी रोंगटे खड़े हो जाते हैं.
दो तस्वीरें जिन्हें देखकर आज भी रोंगटे खड़े हो जाते हैं.

बाकी इन दो संदेशों के इंपेक्ट कफ़ील आज़र की उस बात की तरह थे जो जबनिकलती है तो दूर तलक जाती है.

ये भी पढ़ें: नोटबंदी पर सरकार के 5 दावे और उनकी हकीकत

# बाघ-बाघ देखो –

दोनों ही का पशु प्रेम अतुलनीय है. लेकिन इन दोनों ‘अतुलनीयता’ में भी इतना स्पेस था कि इनकी एक दूसरे से तुलना की जा सकती थी. हाथ कंगन को आरसी क्या, पढ़े लिखे को फ़ारसी (सॉरी हिंदी) क्या. तस्वीरें देख लें –

नेहरू की तस्वीर साभार - http://nehruportal.nic.in
मोदी की तस्वीर साभार – इंडिया टुडे, नेहरू की तस्वीर साभार – http://nehruportal.nic.in.
ये भी पढ़ें: कहानी आदमखोर बाघिन की, जिसने राजनीति से लेकर सेव टाइगर प्रोजेक्ट तक में हंगामा मचा दिया है!

# स्टैचू ऑफ़ यूनिटी –

अगर आपको लगता है कि नरेंद्र मोदी का ये प्लान अपने आप में यूनिक है कि लौह पुरुष को एक स्टैचू डेडीकेट की जाए तो ज़रा ये वीडियो देख लीजिए –

चलिए इस वीडियो के कंटेंट को शॉर्ट में यहीं बता देते हैं –

सरदार पटेल की पहली प्रतिमा उनके उप-प्रधानमंत्री रहते 1949 में गोधरा में स्थापित की गई थी. जिसका अनावरण नेहरू ने 22 फरवरी 1949 को किया था. गोधरा में ही पटेल की गांधी से पहली मुलाकात हुई थी, 1917 में. बाकी मोदी जी वाली पटेल प्रतिमा तो वर्ल्ड रिकॉर्ड वाली है. उसे कौन नहीं जानता?

तस्वीरें Illustrated weekly of india और Reuters की हैं.
बाएं में टाइम्स ऑफ़ इंडिया का स्क्रीन शॉट और दाईं तस्वीर Reuters की हैं.
ये भी पढ़ें: मोदी से पहले नेहरू कर चुके हैं पटेल की मूर्ति का अनावरण

# योग –

योग को लेकर मोदी का प्रेम तो सब जानते ही हैं. नेहरू शीर्षासन किया करते थे. मोदी को मुश्किल लगा होगा तो शवासन कर लिया. जाकी रही भावना जैसी…

फिटनेस चैलेंज! (तस्वीर - इंडिया टुडे)
फिटनेस चैलेंज! (तस्वीर – इंडिया टुडे)
ये भी पढ़ें: फिटनेस चैलेंज की ये चूक देख लें तो मोदी जी शर्मिंदा हो जाएंगे!

# फेक न्यूज़ –

फेक न्यूज़ में अगर फर्स्ट प्राइज मोदी को मिलता है तो सेकेंड प्राइज़ नेहरू को या अगर नेहरू फर्स्ट आते हैं तो मोदी बहुत कम मार्जिन से हारते हैं. लेकिन चूंकि बड़ी लकीर ही छोटी और छोटी लकीर ही बड़ी की जा सकती है, इसलिए मोदी की फेक न्यूज़ ज़्यादातर पॉजिटिव और नेहरू की ज़्यादातर नेगेटिव होती हैं.

दोनों की फेक और फोटोशॉप्ड तस्वीरें.
दोनों की फेक और फोटोशॉप्ड तस्वीरें.
ये भी पढ़ें: क्या इस वजह से हुई थी नेहरू की मौत?

# क्रिकेट –

एक तरफ मोदी जी के नारे क्रिकेट स्टेडियम में गूंजते हैं दूसरी तरफ नेहरू बल्ला पकड़े हुए पाए जाते हैं. क्रिकेट भारत का दूसरा धर्म है और धर्म भारत की पहली राजनीति इसलिए कनेक्शन के ऐसे वायर व्हिच ऑलवेज कैचेज़ फायर.

मोदी वाली तस्वीर साभार - पीटीआई, नेहरू की तस्वीर बीबीसी के एक आर्काइव वीडियो का स्क्रीनशॉट है.
मोदी वाली तस्वीर साभार – पीटीआई, नेहरू की तस्वीर बीबीसी के एक आर्काइव वीडियो का स्क्रीनशॉट है.
ये भी पढ़ें: पीएम मोदी ने राशिद खान के बारे में जो बोला, वो सुन कहीं राशिद भारत से न खेलने लगें

# साहित्य –

सृष्टि से पहले कुछ नहीं था…

नहीं-नहीं ये दोनों में से किसी ने नहीं लिखा है. लेकिन इस गीत की यादें जुड़ी हुई हैं दूरदर्शन में आने वाले एक धारावाहिक से. जिसका नाम था भारत एक खोज. ये नेहरू के द्वारा रचित उपन्यास डिस्कवरी ऑफ़ इंडिया का ही नाट्य रूपांतरण था. इसके अलावा भी नेहरू ने काफी कुछ लिखा. जैसे ग्लिंप्स ऑफ़ वर्ल्ड हिस्ट्री, लेटर्स फ्रॉम फादर टू हिज़ डॉटर, आदि-आदि…

किताबों की दुनिया में आपका स्वागत है!
किताबों की दुनिया में आपका स्वागत है!

वहीं मोदी जी की रीसेंट किताब का नाम है – एग्जाम वॉरियर्स. इसके अलावा उनकी कुछ प्रमुख पुस्तकें हैं – अ जर्नी (कविता संग्रह), ज्योतिपुंज, आदि-आदि…

ये भी पढ़ें: क्या नरेंद्र मोदी ने इस इंटरव्यू में कहा- मैं बस हाईस्कूल तक पढ़ा हूं!

# चाचा नेहरू और काका मोदी –

नेहरू भारत के सभी बच्चों के लिए चाचा नेहरू हैं. इतने कि उनके जन्मदिन को ‘चिल्ड्रन्स डे’ के रूप में मनाया जाता है. वहीं दूसरी तरफ मोदी जी चाहते हैं कि उनको बच्चे काका बुलाएं. जनसत्ता की एक खबरके अनुसार बच्चों को बाकायदा रटवाया गया था कि बड्डे वाले दिन प्रधानमंत्री मोदी को मोदी काका कहकर पुकारा जाए.

चाचा नेहरू, काका नेहरू
चाचा नेहरू, काका नेहरू
ये भी पढ़ें: जब नेहरू को मवेशियों के रहने की जगह पर रहना पड़ा था

इन सबके साथ बोनस में सबसे लेटेस्ट वाला भी. नेहरू ने कबूतर उड़ाए तो मोदी ने तितली-

कबूतर जा जा जा, तितली उड़ी
कबूतर जा जा जा, तितली उड़ी

वीडियो देखें:

अटल के मंत्री जसवंत सिंह को परवेज मुशर्रफ ने कैसे धोखा दिया-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

ये गेम आस्तीन का सांप ढूंढना सिखा रहा है और लोग इसमें जमकर पिले पड़े हैं!

ये गेम आस्तीन का सांप ढूंढना सिखा रहा है और लोग इसमें जमकर पिले पड़े हैं!

पॉलिटिक्स और डिप्लोमेसी वाला खेल है Among Us.

फिल्म रिव्यू- कार्गो

फिल्म रिव्यू- कार्गो

कभी भी कुछ भी हमेशा के लिए नहीं खत्म होता है. कहीं न कहीं, कुछ न कुछ तो बच ही जाता है, हमेशा.

फिल्म रिव्यू: सी यू सून

फिल्म रिव्यू: सी यू सून

बढ़िया परफॉरमेंसेज़ से लैस मजबूत साइबर थ्रिलर,

फिल्म रिव्यू- सड़क 2

फिल्म रिव्यू- सड़क 2

जानिए कैसी है संजय दत्त, आलिया भट्ट स्टारर महेश भट्ट की कमबैक फिल्म.

वेब सीरीज़ रिव्यू- फ्लेश

वेब सीरीज़ रिव्यू- फ्लेश

एक बार इस सीरीज़ को देखना शुरू करने के बाद मजबूत क्लिफ हैंगर्स की वजह से इसे एक-दो एपिसोड के बाद बंद कर पाना मुश्किल हो जाता है.

फिल्म रिव्यू- क्लास ऑफ 83

फिल्म रिव्यू- क्लास ऑफ 83

एक खतरनाक मगर एंटरटेनिंग कॉप फिल्म.

बाबा बने बॉबी देओल की नई सीरीज़ 'आश्रम' से हिंदुओं की भावनाएं आहत हो रही हैं!

बाबा बने बॉबी देओल की नई सीरीज़ 'आश्रम' से हिंदुओं की भावनाएं आहत हो रही हैं!

आज ट्रेलर आया और कुछ लोग ट्रेलर पर भड़क गए हैं.

करोड़ों का चूना लगाने वाले हर्षद मेहता पर बनी सीरीज़ का टीज़र उतना ही धांसू है, जितने उसके कारनामे थे

करोड़ों का चूना लगाने वाले हर्षद मेहता पर बनी सीरीज़ का टीज़र उतना ही धांसू है, जितने उसके कारनामे थे

कद्दावर डायरेक्टर हंसल मेहता बनायेंगे ये वेब सीरीज़, सो लोगों की उम्मीदें आसमानी हो गई हैं.

फिल्म रिव्यू- खुदा हाफिज़

फिल्म रिव्यू- खुदा हाफिज़

विद्युत जामवाल की पिछली फिल्मों से अलग मगर एक कॉमर्शियल बॉलीवुड फिल्म.

फ़िल्म रिव्यू: गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल

फ़िल्म रिव्यू: गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल

जाह्नवी कपूर और पंकज त्रिपाठी अभिनीत ये नई हिंदी फ़िल्म कैसी है? जानिए.