Submit your post

Follow Us

जानिए वर्ल्ड चैंपियन पी वी सिंधु के बारे में 10 खास बातें

1.38 K
शेयर्स

छोड़ो कल की बातें, कल की बात पुरानी
नए दौर में लिखेंगे मिलकर नई कहानी
हम सिंधुस्तानी, हम सिंधुस्तानी…

पी वी सिंधु. मात्र 37 मिनट में ही उन्होंने 21-7, 21-7 से वर्ल्ड चैंपियन का खिताब अपने नाम कर लिया- सनसनीखेज़ बैडमिंटन, क्रांतिकारी खेल और करिश्माई अंज़ाम! लेकिन ये सब तो आप कल से लेकर अब तक कई बार पढ़ ही चुके होंगे. हम कुछ स्पेशल बताते हैं. सिंधू के बारे में कुछ स्पेशल-

# 1

पुसरला वेंकट सिंधू भी साइना नेहवाल की तरह हैदराबाद से हैं. उन्होंने महबूब अली से शुरुआती गुर सीखे और फिर पुलेला गोपीचंद की नामी अकेडमी से उनके खेल में जान आई. उस वक्त सिंधू के करियर पर एक प्रोफाइल लिखते हुए अंग्रेजी अखबार ‘द हिंदू’ ने लिखा था-

रोज 56 किलोमीटर ट्रैवल करके ये लड़की टाइम पर कोचिंग कैंप पहुंचती है. यह अच्छी बैडमिंटन खिलाड़ी बनने की उसकी इच्छा, मेहनत और कमिटमेंट की झलक है.

# 2

गोपीचंद के मुताबिक, सिंधू के खेल की ताकत है, उसका एटीट्यूड और कभी हार न मानने की स्पिरिट. जानकार उनकी ताकत मानते हैं, उनकी लंबाई, अटैकिंग शॉट्स और संयम न खोने की आदत को. इस ओलंपिक में सारे मैच उन्होंने बिना किसी दबाव के खेले हैं. साइना नेहवाल का आखिरी मैच याद कीजिए. पहला सेट वो हार चुकी थीं, दूसरे में मामला करीबी चल रहा था. लेकिन आखिरी पलों में साइना की बॉडी लैंग्वेज से उन पर 121 करोड़ लोगों की उम्मीदों का बोझ महसूस हो रहा था. सिंधू के खेल की सबसे खास बात अब तक यही रही है कि वो दबाव मुक्त होकर खेली हैं.

Photo: Reuters
Photo: Reuters

# 3

पीवी सिंधू को खेल की स्पिरिट विरासत में मिली. उनके पिता पीवी रमन्ना और मां पी विजया, दोनों वॉलीबॉल के खिलाड़ी रहे हैं. रमन्ना को तो अपने खेल में शानदार प्रदर्शन के लिए साल 2000 में अर्जुन पुरस्कार भी मिल चुका है.

PV सिंधू अपने परिवार और पी गोपीचंद के साथ.
PV सिंधू अपने परिवार और पी गोपीचंद के साथ.

# 4

पीवी सिंधू बैडमिंटन की कई जूनियर चैंपियनशिप जीत चुकी हैं. अंडर-13 कैटेगरी में उन्होंने पुद्दुचेरी में हुए सब-जूनियर सिंगल और डबल टाइटल जीता. अंडर-14 51वें नेशनल स्कूल गेम्स में गोल्ड जीता. 2009 से वो इंटरनेशनल जूनियर टूर्नामेंट में हिस्सा लेने लगीं. 2010 में उन्हें पहली बार भारत की नेशनल टीम में जगह मिली.

Photo: Reuters
Photo: Reuters

# 5

2013 में जब पीवी सिंधू वर्ल्ड चैंपियनशिप में कांसा ले आईं तो बहुत सारे लोग उन्हें स्टार शटलर साइना नेहवाल के लिए खतरा बताने लगे. दोनों ने एक छत के नीचे, एक कोच से ट्रेनिंग ली है. हैदराबाद के कुछ खेल पत्रकार कहते हैं कि दोनों खिलाड़ियों के बीच बहुत दोस्ताना रिश्ते नहीं हैं.

BADMINTON-IND-UBER

# 6

2014 में सिंधू ने कॉमनवेल्थ गेम्स में कांसा जीता. इसी साल उन्हें पहली बार दुनिया के टॉप-10 महिला बैडमिंटन खिलाड़ियों में जगह मिली.

# 7

तीन-चार साल पहले एक इंटरव्यू में सिंधू ने कहा था-

टॉप-10 में आना भी आसान नहीं होता, लेकिन वहां बने रहना बहुत मुश्किल है. इसके लिए लगातार अच्छा खेलना होता है. जहां तक मेरे वर्ल्ड नंबर एक बनने की बात है, मैं खुद को अभी तीन-चार साल देना चाहूंगी.

Photo: Reuters
Photo: Reuters

# 8

सिंधू अपना खेल सुधारने के लिए ट्रेनिंग में जबरदस्त मेहनत करती हैं. उनके करीबी बताते हैं कि पिछले कई सालों से वह सुबह 4.15 बजे उठ जाती हैं. जब ट्रेनिंग सेशन सबाब पर होता है तो वो हफ्ते में 6 दिन 10-12 घंटे प्रैक्टिस करती हैं.

Photo: Reuters
Photo: Reuters

# 9

2015 में प्रीमियर बैडमिंटन लीग की नीलामी में उन्हें चेन्नई की फ्रेंचाइजी चेन्नई स्मैशर्स ने करीब 63 लाख रुपयों में खरीदा. मलेशियन दिग्गज ली चोंग वेई और भारत की साइना नेहवाल के बाद वो इस लीग की वो तीसरी सबसे महंगी खिलाड़ी थीं.

Photo: Reuters
Photo: Reuters

# 10

पीवी सिंधू को बिरयानी बहुत पसंद है. उनका शहर भी उम्दा बिरयानी के लिए मशहूर है. एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था, ‘मैं हर टाइम बिरयानी नहीं खा सकती (फिटनेस डाइट की वजह से). अपनी डाइट बिगाड़े बिना जब भी मौका मिलता है बिरयानी पेट भरके खाती हूं.’


Video देखें:

विराट कोहली पर वीरेंद्र सहवाग ने एक अच्छी, एक खराब भविष्यवाणी की है-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

अपने डबल स्टैंडर्ड पर एक बार फिर ट्रोल हो गई हैं प्रियंका चोपड़ा

लोग उन्हें उनकी पुरानी बातें याद दिला रहे हैं.

उजड़ा चमन : मूवी रिव्यू

रिव्यू पढ़कर जानिए ‘मास्टरपीस’ और ‘औसत’ के बीच का क्या अंतर होता है.

फिल्म रिव्यू: टर्मिनेटर - डार्क फेट

नया कुछ नहीं लेकिन एक्शन से पैसे वसूल हो जाएंगे.

इस एक्टर ने फिल्म देखने गई फैमिली को सिनेमाघर में हैरस किया, वो भी गलत वजह से

इतनी बद्तमीजी करने के बावजूद ये लोग थिएटर में 'भारत माता की जय' का जयकारा लगा रहे थे.

हाउसफुल 4 : मूवी रिव्यू

दिवाली की छुट्टियां. एक हिट हो चुकी फ़्रेन्चाइज़ की चौथी क़िस्त. अक्षय कुमार जैसा सुपर स्टार और कॉमेडी नाम की विधा.

फिल्म रिव्यू: मेड इन चाइना

तीन घंटे से कुछ छोटी फिल्म सेक्स और समाज से जुड़ी हर बड़ी और ज़रूरी बात आप तक पहुंचा देना चाहती है. लेकिन चाहने और होने में फर्क होता है.

सांड की आंख: मूवी रिव्यू

मूवी को देखकर लगता है कि मेकअप वाली गड़बड़ी जानबूझकर की गई है.

कबीर सिंह के तमिल रीमेक का ट्रेलर देखकर सीख लीजिए कि कॉपी कैसे की जाती है

तेलुगू से हिंदी, हिंदी से तमिल एक ही डिश बिना एक्स्ट्रा तड़के के परोसी जा रही.

हर्षित: मूवी रिव्यू

शेक्सपीयर के नाटक हेमलेट पर आधारित है.

लाल कप्तान: मूवी रिव्यू

‘तुम्हारा शिकार, तुम्हारा मालिक है. वो जिधर जाता है, तुम उधर जाते हो.’