Submit your post

Follow Us

नेल्सन मंडेला के वो 10 कोट्स, जो समझ आ जाएं तो ज़िंदगी बन जाएगी


आज नेल्सन मंडेला (18 जुलाई, 1918 – 5 दिसंबर, 2013) का जन्मदिन है. साउथ अफ्रीका के प्रथम अश्वेत राष्ट्रपति, नोबेल प्राइज विनर. उनका जन्म दिन नेल्सन मंडेला अन्तर्राष्ट्रीय दिवस के रूप में मनाया जाता है.


अफ्रीका के गांधी कहे जाने वाले मंडेला के बारे में आज बहुत कुछ लिखा और पढ़ा जाएगा. क्यूं न उनको भी पढ़ा जाए. तो आइए पढ़ते हैं उनके 10 ऐसे कोट्स जो किसी फिलोसोफी के सिद्धांत की तरह गूढ़ न होते हुए भी ज़िंदगी और ज़िंदगी से जुड़ी चीज़ों के बारे में बहुत कुछ बयां कर जाते हैं.

# 1 –

Mandela - 9


# 2 –

Mandela - 8


# 3 –

Mandela - 7


# 4 –

Mandela - 6


# 5 –

Mandela - 5


# 6 –

Mandela - 4


# 7 –

Mandela - 3


# 8 –

Mandela - 2


# 9 –

Mandela - 1


# 10 –

Mandela - Featured


वीडियो देखें: फ़िल्म 3 इडियट्स में आमिर खान ने जिनका रोल किया था वो सोनम वांगचुक हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

सैमसंग के नए-नवेले गैलेक्सी M01s और रियलमी नार्ज़ो 10A की टक्कर में कौन जीतेगा?

सैमसंग गैलेक्सी M01s 9,999 रुपए में लॉन्च हुआ है.

अनदेखी: वेब सीरीज़ रिव्यू

लंबे समय बाद आई कुछ उम्दा क्राइम थ्रिलर्स में से एक.

शॉर्ट फिल्म रिव्यू: पंडित उस्मान

एक चलते-फिरते 'पैराडोक्स' की कहानी.

फ़िल्म रिव्यूः भोंसले

मनोज बाजपेयी की ये अवॉर्ड विनिंग फिल्म कैसी है? और कहां देख सकते हैं?

जॉर्ज ऑरवेल का लिखा क्लासिक 'एनिमल फार्म', जिसने कुछ साल पहले शिल्पा शेट्‌टी की दुर्गति कर दी थी

यहां देखें इस पर बनी दो मजेदार फिल्में. हिंदी वालों के लिए ये कहानी हिंदी में.

फिल्म रिव्यू: बुलबुल

'परी' जैसी हटके हॉरर फिल्म देने वाली अनुष्का शर्मा का नया प्रॉडक्ट कैसा निकला?

फ़िल्म रिव्यूः गुलाबो सिताबो

विकी डोनर, अक्टूबर और पीकू की राइटर-डायरेक्टर टीम ये कॉमेडी फ़िल्म लेकर आई है.

फिल्म रिव्यू: चिंटू का बर्थडे

जैसे हम कई बार बातचीत में कह देते हैं कि 'ये दुनिया प्यार से ही जीती जा सकती है', उस बात को 'चिंटू का बर्थडे' काफी सीरियसली ले लेती है.

फ़िल्म रिव्यूः चोक्ड - पैसा बोलता है

आज, 5 जून को रिलीज़ हुई ये हिंदी फ़िल्म अनुराग कश्यप ने डायरेक्ट की है.

फिल्म रिव्यू- ईब आले ऊ

साधारण लोगों की असाधारण कहानी, जो बिलकुल किसी फिल्म जैसी नहीं लगती.