Submit your post

Follow Us

धर्मेंद्र ने क्यों कहा अगर पहले पता होता तो सनी देओल को चुनाव लड़ने से मना कर देता?

801
शेयर्स

पंजाब के गुरदासपुर से सनी देओल बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं. पिता धर्मेंद्र अपने बेटे के लिए प्रचार कर रहे हैं. 11 मई को वह कैंपेन के लिए पहुंचे थे. कांग्रेस के उम्मीदवार सुनील जाखड़ को उन्होंने बेटे की तरह बताया. धमेंद्र ने कहा कि बलराम जाखड़ (सुनील जाखड़ के पिता) के लिए हमने चुनाव में कैंपेन किया था. अगर पता होता कि गुरदासपुर में बलराम जाखड़ के बेटे सुनील जाखड़ सनी के सामने चुनाव मैदान में हैं तो शायद सनी को यहां से चुनाव नहीं लड़वाता. धर्मेंद्र ने कहा,

बलराम जाखड़ मेरे दोस्त थे. राजस्थान के चुनाव में एक बार उनके लिए कैंपेनिंग की और लोगों से वोट देने की अपील की. बलराम जाखड़ के लिए दिल में बड़ी इज्जत थी. पता होता कि उनके बेटे सुनील जाखड़ गुरदासपुर से चुनाव लड़ रहे हैं तो हम चुनाव लड़ने से इनकार कर देते. मुझे गुरदासपुर आकर यह बात पता चली. सुनील मेरे बेटे की तरह हैं, लेकिन अब मुकद्दर की बात है. अब हम मैदान में उतर गए हैं तो जीतना ही है.

2004 में क्या हुआ था
सुनील जाखड़ के पिता और केंद्रीय मंत्री रहे बलराम जाखड़ से धर्मेंद्र की दोस्ती थी. 1991 में धर्मेंद्र ने राजस्थान के सीकर में उनके लिए चुनाव प्रचार किया था. 2004 के लोकसभा चुनाव में जाखड़ राजस्थान के चुरू से चुनाव लड़ रहे थे. बीजेपी उनके खिलाफ धर्मेंद्र को चुनाव में उतारना चाहती थी. लेकिन उन्होंने जाखड़ के खिलाफ चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया. इसके बाद बीजेपी ने उन्हें बीकानेर से लड़ने के लिए कहा. वह लड़े और जीत हासिल की. लेकिन चुरू से चुनाव लड़ने वाले बलराम जाखड़ चुनाव हार गए.

‘सुनील जाखड़ भविष्य के सीएम’
2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी की तरफ से गुरदासपुर में विनोद खन्ना ने जीत हासिल की थी. 2017 में उनके निधन के बाद उपचुनाव हुए जिसमें कांग्रेस के सुनील जाखड़ ने जीत हासिल की थी. वह एक बार फिर इस सीट से अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने उन्हें भविष्य का सीएम बताया है. कैप्टन ने कहा कि सुनील जाखड़ ही पंजाब में भविष्य के सीएम होंगे. भोआ में सुनील जाखड़ की चुनावी सभा में कई मंत्रियों के सामने सीएम ने ये बात कही. उन्होंने कहा-मैं इस मंच से खड़े होकर कह रहा हूं कि एक दिन सुनील जाखड़ को आप पंजाब के सीएम के रूप में देखेंगे.

धर्मेंद्र अपने बेटे सन्नी देओल के लिए चुनाव प्रचार कर रहे हैं.
धर्मेंद्र अपने बेटे सनी देओल के लिए चुनाव प्रचार कर रहे हैं.

अंतिम चरण में है वोटिंग
सनी देओल 23 अप्रैल को बीजेपी में शामिल हुए थे. पार्टी जॉइन करने के बाद उन्होंने कहा था कि, जिस तरह से मेरे पापा अटल जी के साथ जुड़े थे, आज मैं यहां मोदी जी के साथ जुड़ने आया हूं, उन्होंने देश के लिए बहुत कुछ किया है. मैं चाहता हूं 5 साल वही रहें क्योंकि मोदी जी की जरूरत है. इस परिवार से जुड़कर मैं जो कर सकता हूं, वो सब दिल से करूंगा. पंजाब की सभी 13 सीटों पर 19 मई को अंतिम चरण में वोटिंग होनी है.


देशनोक के करणी माता मंदिर में कोई पैर उठाकर नहीं चलता

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Wouldn’t have let Sunny contest had I known Balram’s son Sunil Jakhar was in fray says Dharmendra in Gurdaspur

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.