Submit your post

Follow Us

दिल्ली में 'आप' की लहर में दल-बदलू नेताओं का क्या हुआ?

दिल्ली विधानसभा चुनाव, 2020 के नतीजों में आम आदमी पार्टी की एकतरफा लहर रही है. ‘आप’ को कुल 62 सीटें मिलीं, जबकि बीजेपी के खाते में सिर्फ आठ सीटें गईं. इस बार चुनाव में दल-बदलू उम्मीदवारों की बाढ़ थी. बीजेपी और कांग्रेस ही नहीं बल्कि आम आदमी पार्टी में भी कई ऐसे उम्मीदवार मौजूद थे, जिन्हें पार्टी में शामिल होने के 24 घंटों के अंदर ही टिकट दे दिया गया.

आम आदमी पार्टी ने अपने प्रत्याशियों की लिस्ट जारी की, तो उसमें पांच नाम ऐसे थे जिन्होंने एक दिन पहले ही पार्टी जॉइन की थी. ‘आप’ के अलावा बीजेपी और कांग्रेस में भी ऐसे नेता रहे. ऐसे ही उम्मीदवारों की सीट का क्या हाल रहा आइये आप को बताते हैं.

1. चांदनी चौक सीट:
अलका लांबा (कांग्रेस), प्रहलाद सिंह साहनी (‘आप’): इस सीट से आम आदमी पार्टी की जीत हुई. कांग्रेस छोड़कर ‘आप’ में आए प्रहलाद सिंह साहनी ने इस सीट पर लगभग 29,000 वोटों से जीत दर्ज की. वहीं ‘आप’ छोड़कर कांग्रेस में गईं अलका लांबा इस सीट से हार गईं. उन्होंने कुल 3876 वोट ही मिले.

2. गांधी नगर सीट:
अनिल कुमार बाजपेयी (बीजेपी), नवीन चौधरी (‘आप’): 2015 में आम आदमी पार्टी के टिकट पर जीते अनिल कुमार वाजपेयी 2019 लोकसभा से पहले बीजेपी में शामिल हो गए. 2020 विधानसभा चुनाव में उन्होंने 6000 वोटों से जीत दर्ज की. इस सीट पर ही एक दलबदलू थे नवीन चौधरी जो कि कांग्रेस छोड़कर ‘आप’ में आए थे. वो इस सीट पर 42610 वोटों के साथ दूसरे स्थान पर रहे.

3. मॉडल टाउन सीट:
कपिल मिश्रा (बीजेपी): सोशल मीडिया पर एक्टिव और 2015 के चुनाव में करावल नगर से ‘आप’ के टिकट पर जीते कपिल मिश्रा इस सीट से चुनाव हार गए. मॉडल टाउन सीट पर कपिल मिश्रा को ‘आप’ के अखिलेश पति त्रिपाठी ने लगभग 11,000 वोटों से हराया.

Kapil Mishra
दल-बदलकर बीजेपी में शामिल हुए कपिल मिश्रा. फोटो: Kapil Mishra Facebook

4. मटिया महल सीट:
शोएब इकबाल (‘आप’): विधानसभा चुनाव से ठीक पहले दल बदलने में माहिर नेता शोएब इकबाल ने आम आदमी पार्टी का दामन थामा. कांग्रेस से विदाई लेकर शोएब ने ‘आप’ की सदस्यता ली. मटिया महल सीट से ‘आप’ ने उन्हें अपना उम्मीदवार बनाया. उन्होंने इस सीट पर 50,000 वोटों से एकतरफा जीत दर्ज कर ली.

5. द्वारका सीट:
विनय मिश्रा (‘आप’), आदर्श शास्त्री (कांग्रेस): दिल्ली चुनाव से ठीक पहले टिकट की नाराज़गी को लेकर कांग्रेस के दिग्गज नेता महाबल मिश्रा के बेटे विनय मिश्रा ने पार्टी बदल दी. उन्होंने आम आदमी पार्टी का दामन थामा. और ‘आप’ ने उन्हें द्वारका सीट से अपना उम्मीदवार बनाया. विनय ने इस सीट पर बीजेपी के प्रद्युमन राजपूत को लगभग 14000 वोटों से हरा दिया. इस सीट पर ही दूसरे दल-बदलू नेता रहे आदर्श शास्त्री. जिन्होंने ‘आप’ का साथ छोड़कर कांग्रेस का हाथ थामा था. लेकिन द्वारका सीट पर वो 6747 वोटों के साथ तीसरे स्थान पर रहे.

6. बदरपुर सीट:
रामसिंह नेताजी(‘आप’): बदरपुर सीट पर कांग्रेस के नेता रामसिंह नेताजी टिकट बंटवारे से एक दिन पहले ‘आप’ में शामिल हुए थे. उन्हें टिकट भी दिया गया. लेकिन वो बदरपुर सीट पर बीजेपी के रामवीर सिंह बिधूड़ी से लगभग 4000 वोटों से चुनाव हार गए.

Ram Singh Netaji
दल बदलकर आम आदमी पार्टी में शामिल हुए रामसिंह नेताजी की तस्वीर. फोटो: Ram Singh Facebook

7. हरीनगर सीट:
राजकुमारी ढिल्लो (‘आप’): तेजिंदर पाल सिंह बग्गा की वजह से हाई-प्रोफाइल सीट बनी हरीनगर पर राजकुमारी ढिल्लो दल-बदलू नेता हैं. उन्होंने कांग्रेस का साथ छोड़कर ‘आप’ के टिकट पर चुनाव लड़ा, और वो लगभग 20,000 वोटों से चुनाव जीत गईं.

8. बवाना सीट:
जय भगवान उपकार (‘आप’): बवाना से आम आदमी पार्टी ने कांग्रेस के पूर्व पार्षद जय भगवान उपकार को टिकट दिया था. जय भगवान ने इस रिज़र्व सीट पर लगभग 12000 वोटों से जीत दर्ज की है.


दिल्ली चुनाव: उन कैंडिडेट का हाल जानिए, जिन्होंने एक दिन पहले ही AAP जॉइन किया था

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.