Submit your post

Follow Us

मोदी के कोलकाता आने से पहले ममता बनर्जी ने देश की राजधानी पर नई बहस छेड़ दी

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. उससे पहले रैलियों और रोड शो का दौर चल रहा है. शनिवार, 23 जनवरी को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोलकाता पहुंच रहे हैं, लेकिन उससे पहले मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शक्ति प्रदर्शन किया. कोलकाता के श्याम बाजार से रेंड रोड तक नौ किलोमीटर लंबा रोड शो. सामने आए वीडियो में भारी भीड़ देखने को मिली. इस रोड शो की शुरुआत शंदनाद की ध्वनि के साथ हुई. पदयात्रा दोपहर 12.15 पर शुरू हुई. क्योंकि 23 जनवरी 1897 को इसी वक्त नेताजी का जन्म हुआ था.

नेताजी की जयंती को केंद्र की मोदी सरकार पराक्रम दिवस के तौर पर मना रही है. इसे लेकर ममता ने केंद्र पर जमकर हमला बोला. ममता सरकार ने इसे देशनायक दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया है. उन्होंने कहा कि यह देशनायक दिवस है. क्योंकि रवींद्रनाथ ठाकुर ने सुभाष चंद्र बोस को देशनायक कहा था.

ममता ने कहा,

मुझे दुख है कि हम उनकी जयंती को जानते हैं, मृत्यु दिवस को नहीं. मैं पराक्रम को नहीं समझती, लेकिन वह देश प्रेमी थे. वह देशनायक थे. यह ‘देश नायक दिवस’ है, क्योंकि रवींद्रनाथ ठाकुर ने उन्हें देश नायक कहा था. सुभाष चंद्र बोस ने सभी जातियों और समुदायों के लिए काम किया. नेताजी सुभाष चंद्र बोस की आजाद हिंद फौज में हिंदू, मुस्लिम, सिख इसाई हर समुदाय के लोग थे. उनके विचार भारत को संगठित रखने के थे, बांटने के नहीं. अंग्रेजों ने बांटो और राज करो की नीति अपनाई थी. बीजेपी लोगों को बांटना चाहती है.

ममता बनर्जी ने कहा कि मेरा मानना है कि भारत में चार राजधानियां होनी चाहिए, जिनका रोटेशन होता रहे. अंग्रेजों ने पूरे देश में कोलकाता से ही शासन किया. देश में केवल एक ही राजधानी क्यों रहनी चाहिए.

ममता ने कहा कि बंगाल को और यहां की भावनाओं को बाहर के लोग नहीं समझ सकते. बीजेपी की सरकार इतिहास बदलना चाहती है. नेता वही होता है, जो सबको साथ लेकर चलता है.

वहीं हावड़ा में बवाल हो गया. बीजेपी कार्यकर्ताओं का आरोप है कि तृणमूल के लोगों ने उन पर हमला किया. स्थानीय भाजपा नेता का कहना है कि हमारे कार्यकर्ताओं पर हमला किया गया. अगर तृणमूल ऐसी राजनीति करना चाहती है तो उन्हें इसी भाषा में जवाब देंगे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी आज कोलकाता में है. मोदी विक्टोरिया हॉल में बंगाली समाज के 200 नामी गिरामी व्यक्तियों के साथ संवाद करेंगे. इसके लिए संस्कृति मंत्रालय द्वारा न्यौता भेजा गया है. इस कार्यक्रम में बंगाल के कला और संस्कृति से जुड़े लोग शामिल होंगे. यहां पीएम मोदी के साथ इनका हाई टी का कार्यक्रम है.


सुवेंदु अधिकारी का परिवार ममता बनर्जी को कितना नुकसान पहुंचा सकता है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.