Submit your post

Follow Us

West Bengal Election Results : जहां से सुवेंदु अधिकारी के बाप-भाई जीते, वहां कौन जीता?

सीट का नाम : कांथी दक्षिण (Kanthi Dakshin) (पूर्वा मेदिनीपुर)

रिज़ल्ट : टीएमसी के ज्योतिर्मय कार को बीजेपी के अरूप कुमार दास ने 10,293 वोटों से हरा दिया है.

कांथी दक्षिण विधानसभा सीट (Kanthi Dakshin Assembly Seat) बहुत महत्वपूर्ण सीट है. पूर्बा मेदिनीपुर जिले में आती है. यह टीएमसी से भाजपा में गए सुवेंदु अधिकारी के घर की सीट है. पारिवारिक सीट कह लें, तो भी कोई दिक़्क़त नहीं है. क्योंकि तृणमूल की चंद्रिमा भट्टाचार्य के पहले हमेशा अधिकारी परिवार का ही कोई नेता इस सीट पर जीतता आया था. चंद्रिमा टीएमसी सरकार में मंत्री भी हैं. इस बार इस सीट पर मुकाबला तृणमूल के ज्योतिर्मय कार, बीजेपी के अरुप कुमार दास और सीपीआई के अनुलुप पांडा के बीच था.

ये भी पढ़ेंःपश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव 2021: भबनीपुर सीट, जहां ममता का घर, वहां TMC का क्या हाल?

कौन जीता?

अरूप कुमार दास (BJP)
कितने वोट मिले: 98,477

कौन हारा?

ज्योतिर्मय कार (TMC)
कितने वोट मिलेः 88,184

पिछले चुनाव के नतीजे

# साल 2016 में हुए विधानसभा चुनाव में तृणमूल उम्मीदवार के तौर पर दिव्येंदु अधिकारी को इस सीट पर 93 हज़ार 359 वोट मिले थे. वहीं सीपीआई के उत्तम प्रधान को 59 हज़ार 459  वोट. दिव्येंदु जीत गए. लेकिन इसी साल कुछ सीटों पर लोकसभा उपचुनाव हुए. इसमें से एक सीट थी तमलुक. तमलुक से सांसद थे सुवेंदु अधिकारी. पार्टी ने कहा कि नंदीग्राम से विधानसभा चुनाव लड़ जाओ, तो सांसदी छोड़कर विधायकी लड़ गए थे. जीत गए तो सांसदी से इस्तीफ़ा दे दिया. और दिव्येंदु अपने भाई की सीट तमलुक पर सांसदी लड़ने चले गए तो इधर कांथी सीट ख़ाली हो गयी. फिर 2017 में इस सीट पर उपचुनाव हुए. चंद्रिमा भट्टाचार्य विधानसभा के लिए चुनकर आईं. उन्होंने बीजेपी के सौरिंद्र मोहन जना को 40 हजार से ज्यादा वोटों से हराया.

# साल 2011 में इस सीट पर टीएमसी के दिव्येंंदु अधिकारी ने जीत हासिल की थी. उन्हें 86,933 वोट मिले थे. उनके मुकाबले सीपीआई के उत्तम कुमार प्रधान को 58,296 वोट मिले थे.

ये भी पढ़ेंःWest Bengal Election Results: आखिरी राउंड तक आते-आते नंदीग्राम में टक्कर कांटे की हो गई है

सीट ट्रिविया

# ये विधानसभा सीट 2001 से 2017 तक अधिकारी परिवार के किसी सदस्य के पास ही रही. साल 2001 में सिसिर अधिकारी जीते. यानी सुवेंदु अधिकारी के पिताजी. फिर 2006 में आए दिव्येंदु. और आख़िर में अधिकारी परिवार से ये सीट छिटकी साल 2017 में, जब ममता बनर्जी की करीबी रही चंद्रिमा भट्टाचार्य ने उपचुनावों में यह सीट जीत ली.

# हर साल गांधी मेला लगता है. लोकल लेवल पर बहुत फ़ेमस है. 10-15 दिन धूमधाम से चलता है. एकाध महीने पहले तस्वीरें फ़्लैश हुई थीं मीडिया में. एक गाड़ी थी, उसका सामने वाला शीशा कुछ लोगों ने मारकर कचर दिया था. वो सौमेंदु अधिकारी की गाड़ी थी. सुवेंदु के भाई. आरोप लगे थे तृणमूल पर.


वीडियो – पश्चिम बंगाल में खरहद विधानसभा सीट से TMC के उम्मीदवार काजल सिन्हा की कोरोना से मौत!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.