Submit your post

Follow Us

कोरोना महामारी के दौरान प्रचार को लेकर चुनाव आयोग ने बड़ा फ़ैसला लिया है!

कोरोना वायरस के लगातार बढ़ते संक्रमण के मामले को लेकर चुनाव आयोग ने नई गाइडलाइंस जारी कर दी है. चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव को लेकर 16 अप्रैल को राजनीतिक पार्टियों के चुनाव प्रचार पर कुछ पाबंदियां लगाई हैं, इसमें प्रचार के समय में कमी आदि शामिल है. इलेक्शन कमीशन ने क्या निर्देश जारी किए हैं, आइए विस्तार से जानते हैं.

न्यूज़ एजेंसी एएनआई का यह ट्वीट देखिए.

चुनाव आयोग के नए निर्देश क्या हैं?

नए निर्देशों के मुताबिक़ चुनाव प्रचार के लिए निर्धारित समय को घटाकर शाम 7 बजे तक कर दिया है. यह वक्त पहले रात 10 बजे तक का था. राजनीतिक पार्टियां अब चुनाव प्रचार वाले दिनों में शाम 7 बजे से सुबह के 10 बजे तक किसी तरह का कोई प्रचार नहीं कर सकेंगी. इसके साथ ही पश्चिम बंगाल में बाकी चरणों के लिए चुनाव प्रचार के समय में भी कटौती की गई है. अब वोटिंग से 72 घंटे पहले ही चुनाव प्रचार खत्म हो जाएगा. अभी तक यह वक्त 48 घंटे का था.

चुनाव आयोग ने कहा है कि उम्मीदवार और राजनीतिक पार्टियां कोरोना वायरस से संबंधित सभी गाइडलाइंस को फॉलो करेंगी. अगर गाइडलाइंस का उल्लंघन किया जाता है, तो कठोर कारवाई की जाएगी. इसमें आपराधिक कारवाई भी शामिल हैं.

चुनाव आयोग ने आगे कहा है कि सार्वजनिक सभाओं, रैलियों आदि के आयोजकों की ज़िम्मेदारी होगी कि वे इन सभाओं, रैलियों आदि में शामिल होने वाले हर एक व्यक्ति को मास्क और सैनिटाइज़र दें, जिसेउम्मीदवार की निर्धारित खर्च की सीमा के तहत जोड़ा जाएगा.

चुनाव आयोग ने स्टार प्रचारकों, नेताओं, उम्मीदवारों आदि सभी से कहा है कि वे सभी कोरोना वायरस संक्रमण से बचने को लेकर जनता के सामने नज़ीर पेश करेंगे. सभी लोगों से मास्क पहनने, सैनेटाइजर का इस्तेमाल करने और सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने की अपील करेंगे. चुनाव आयोग द्वारा लगायी गई ये सभी नई बंदिशें अंतिम तीन चरणों (22, 26 और 29 अप्रैल) के लिए हैं.

पश्चिम बंगाल चुनाव में कब-क्या?

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव 27 मार्च से शुरू हो चुके हैं. 8 चरणों में होने वाले चुनाव के आख़िरी चरण की वोटिंग 29 अप्रैल को होनी है. नतीजे 2 मई को घोषित किए जाएंगे. 2016 में हुए चुनावों में TMC 211, INC 44, CPM 26, BJP 3 और अन्य ने 10 सीटों पर जीत दर्ज़ की थी. राजनीति के जानकार अबकी बार TMC और BJP की मुख्य लड़ाई बता रहे हैं. पश्चिम बंगाल विधानसभा का कार्यकाल 30 मई 2021 को पूरा होने जा रहा है. ऐसे में 30 मई से पहले नई सरकार के गठन की प्रकिया पूरी होनी है.


वीडियो- ममता बनर्जी ने चुनाव आयोग से ऐसा क्या कह दिया जिसका बहुत लोग सपोर्ट कर रहे?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.