Submit your post

Follow Us

CM योगी गोरखपुर शहर से लड़ेंगे पर वह कौन सी सीट चाहते थे, धर्मेंद्र प्रधान ने बताया

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गोरखपुर शहर से चुनाव लड़ेंगे. वहीं डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य प्रयागराज की सिराथू सीट से चुनाव लड़ेंगे. बीजेपी के यूपी चुनाव प्रभारी और केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने ये ऐलान किया. इससे पहले सीएम योगी के अयोध्या से चुनाव लड़ने के कयास लगाए जा रहे थे. हालांकि एक सवाल के जवाब में धमेंद्र प्रधान ने कहा कि ऐसी कोई बात नहीं थी. उन्होंने कहा,

मैं स्वंय उनसे बात करता था. उन्होंने कहा कि मैं 403 विधानसभा सीटों में से किसी भी सीट से, जहां से पार्टी कहेगी मैं चुनाव लड़ूंगा. कोई आग्रह किसी जगह से नहीं था. पार्टी ने तय किया कि योगीजी को गोरखपुर शहर से ही लड़ाया जाए.

अखिलेश यादव ने कसा तंज

इस बीच उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने योगी आदित्यनाथ के गोरखपुर से चुनाव लड़ने पर तंज कसा है. उन्होंने कहा,

कभी कहते थे मथुरा से लड़ेंगे, कभी कहते थे अयोध्या से लड़ेंगे. कभी कहते थे प्रयागराज से लड़ेंगे, कभी कहते थे देवबंद से लड़ेंगे. मुझे खुशी है इस बात की कि भारतीय जनता पार्टी ने उन्हें पहले ही उनके घर भेज दिया. हालांकि वो कल से गोरखपुर में हैं. टिकट बुक कराई गई थी उनकी 11 तारीख की. लेकिन अब मुझे लगता है कि उन्हें गोरखपुर में ही रहना पड़ेगा. गोरखपुर से उन्हें वापस आने की जरूरत नहीं है. उनको बहुत-बहुत बधाई. जनता के भेजने से पहले ही उन्हें बीजेपी ने उनके घर भेज दिया.

साल 1998 में अपने गुरु महंत अवेद्यनाथ के उत्तराधिकारी के तौर पर 26 साल की उम्र में योगी ने राजनीति में कदम रखा था. 1998 में लोकसभा के मध्यवधि चुनाव में योगी ने सपा के जमुना प्रसाद निषाद को हराकर चुनाव जीता. 1999 में योगी ने दूसरी बार भी जमुना प्रसाद को हराकर ही चुनाव जीता. 2004 में योगी लगातार तीसरी बार गोरखपुर से सांसद चुने गए. इसके बाद साल 2009 और 2014 में भी जीत हासिल की. 2017 में बीजेपी की प्रचंड जीत के बाद पार्टी ने उन्हें सीएम बना दिया. इसके बाद उन्होंने संसदीय सीट से इस्तीफा दे दिया. और एमएलसी बन गए.

वहीं केशव प्रसाद मौर्य ने अपने नाम के ऐलान पर ट्वीट कर कहा,

मेरी जन्मभूमि 251 सिराथू विधानसभा जनपद कौशांबी से पार्टी प्रत्याशी बनाने के लिए माननीय प्रधानमंत्री जी माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष जी संपूर्ण राष्ट्रीय नेतृत्व के प्रति हार्दिक आभार व्यक्त करता हूं.

केशव प्रसाद 2012 में सिराथू तहसील से बीजेपी के पहले विधायक बने थे. उन्होंने बसपा के आनंद मोहन को 8863 मतों के अंतर से हराया था.हालांकि इससे पहले वह इलाहाबाद विधानसभा क्षेत्र से 2007 का विधानसभा चुनाव हार गए थे. 2014 के लोकसभा चुनाव में केशव प्रसाद मौर्य फूलपुर सीट से चुनाव जीते. उन्होंने धर्मराज सिंह पटेल को 3,08,308 वोटों के बड़े अंतर से हराया था. योगी सरकार में डिप्टी सीएम बनने के बाद सितंबर 2017 में उन्हें एमएलसी मनोनित किया गया था.


जमघट: यूपी चुनाव 2022 से पहले योगी आदित्यनाथ का इंटरव्यू

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.