Submit your post

Follow Us

दलित-पिछड़ों के सम्मान का हवाला देकर अब सपा के पार्षद ने इस्तीफा दे दिया

चुनावी माहौल के बीच उत्तर प्रदेश में नेताओं के एक पार्टी से दूसरी पार्टी में जाने का सिलसिला जारी है. बीते तीन दिनों से सत्तारूढ़ बीजेपी के कई विधायक और मंत्री पार्टी का दामन छोड़ समाजवादी पार्टी की साइकिल पर सवार हो गए. अब एक पार्षद ने अपनी पार्टी छोड़ दूसरी पार्टी पकड़ ली है. लेकिन इस बार नेता बीजेपी के नहीं, सपा के हैं. नाम है घनश्याम सिंह लोधी. शुक्रवार 14 जनवरी की शाम उनका एक लेटर वायरल हुआ. इसमें लिखा था,

अवगत कराना है कि समाजवादी पार्टी की पिछड़ा व दलित समाज की उपेक्षा के कारण मैं समाजवादी पार्टी की सदस्यता से इस्तीफ़ा देता हूं. पार्टी में पिछड़े और दलित समाज को उच्च सम्मान न मिलने से मेरे हृदय को दुख हुआ है जिस कारण मैं अपना इस्तीफ़ा आपको भेज रहा हूं.

ghanshyam singh lodhi
घनश्याम सिंह लोधी का इस्तीफा.

एक खबर ये भी है कि सपा ने खुद ही घनश्याम सिंह लोधी को निष्कासित कर दिया है. पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोप के चलते सपा के जिलाध्यक्ष वीरेंद्र गोयल ने घनश्याम सिंह लोधी को बाहर का रास्ता दिखाया है. बताया गया है कि निष्कासन के कुछ देर बाद ही घनश्याम सिंह लोधी का इस्तीफ़ा सामने आया. उनके निष्कासन पत्र में लिखा है,

इस प्रकार की सूचनाएं काफ़ी समय से प्राप्त हो रही हैं कि श्री घनश्याम सिंह लोधी (MLC) समाजवादी पार्टी की नीतियों एवं निर्णयों के विरुद्ध कार्य कर रहे हैं. और पार्टी के हित के ख़िलाफ़ गतिविधियों में लिप्त रह कर पार्टी को नुक़सान पहुंचा रहे हैं. अतः लगातार पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त रहने के कारण श्री घनश्याम सिंह लोधी को तत्काल प्रभाव से समाजवादी पार्टी से निष्कासित किया जाता है.

वहीं इस्तीफा सौंपने के पीछे लोधी ने आरोप लगाया कि पार्टी में पिछड़े और दलितों को अपेक्षित सम्मान नहीं मिल रहा है, जिसके चलते वे दुखी हैं. और इस वजह से पार्टी छोड़ना चाहते हैं. अब वो आगे किस पार्टी में जाने वाले हैं, इसकी फिलहाल कोई जानकारी नहीं है.

इससे पहले 14 जनवरी को स्वामी प्रसाद मौर्य अपने समर्थक विधायकों के साथ समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए. शामिल होते ही उन्होंने भाजपा पर जमकर हमला बोला. स्वामी मौर्य ने कहा कि 14 जनवरी मकर संक्रांति का दिन भाजपा के अंत का इतिहास लिखने जा रहा है.


यूपी चुनाव 2022 से पहले संजय सिंह का लल्लनटॉप इंटरव्यू

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.