Submit your post

Follow Us

चंद्रशेखर के आरोपों पर अखिलेश का पलटवार, कहा 'दो सीटें दी थीं, उन्होंने खुद छोड़ दीं'

उत्तर प्रदेश में बढ़ती सियासी सरगर्मी के बीच चंद्रशेखर आजाद की आजाद समाज पार्टी और अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी के बीच चल रही गठबंधन की चर्चाओं पर अब विराम लग चुका है. शनिवार, 15 जनवरी को चंद्रशेखर आजाद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर खुद इस बात की घोषणा की. इस दौरान उन्होंने अखिलेश यादव पर दलितों का अपमान करने का आरोप भी लगाया था. कहा कि अखिलेश यादव को दलित समाज का वोट तो चाहिए, लेकिन उनका नेतृत्व स्वीकार नहीं.

दूसरी तरफ, चंद्रशेखर के आरोपों पर अब अखिलेश यादव की भी प्रतिक्रिया आई है. एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष ने कहा कि उन्होंने चंद्रशेखर को सीटें तो दी थीं, लेकिन वो खुद ही पीछे हट गए. अखिलेश यादव ने कहा,

“मैंने रामपुर की मनिहारन विधानसभा सीट और गाजियाबाद की एक सीट उनको दी थी, लेकिन उन्होंने किसी से फोन पर बात की और वो दोनों सीटें छोड़ दीं. मुझे नहीं पता उन्होंने किससे बात की. उसके बाद वो आए और कहा कि मेरा संगठन मेरे खिलाफ है, मैं चुनाव नहीं लड़ सकता हूँ. मेरी पार्टी इतनी सीटों से संतुष्ट नहीं है. ये बात हुई थी.” 

अखिलेश यादव ने ये भी कहा कि उन्होंने चंद्रशेखर को बताया कि वो दो से अधिक सीट नहीं दे सकते. उनके पास देने के लिए इससे अधिक सीटें नहीं है. एक सीट तो आरएलडी से कहकर उन्हें देने की योजना बनाई थी. अखिलेश यादव ने चंद्रशेखर के आरोपों को षड्यंत्र भी बताया.

चंद्रशेखर ने क्या कहा था?

चंद्रशेखर आजाद ने 15 जनवरी की सुबह प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि उनकी अखिलेश यादव से पिछले 6 महीनों में काफी मुलाकातें हुईं हैं. इस बीच सकारात्मक बातें भी हुईं लेकिन अंत समय में उन्हें लगा कि अखिलेश यादव को दलितों की जरूरत नहीं है. वो इस गठबंधन में दलित नेताओं को नहीं चाहते.

चंद्रशेखर आजाद ने कहा कि उनका डर ये है कि अगर दलित वोट कर देंगे तो सरकार बनने के बाद वो अपने विषयों पर शायद बात ही न कर पाएं. भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद ने अखिलेश यादव पर आरोप लगाया कि उन्होंने बहुजन समाज का अपमान किया है. चंद्रशेखर ने आगे कहा कि उन्होंने बहुत कोशिश की लेकिन गठबंधन नहीं हो सका.

आजाद ने ये भी कहा कि बीजेपी को रोकने के लिए उन्होंने अपने स्वाभिमान से समझौता किया, लेकिन अब कार्यकर्ता अपनी लड़ाई खुद लड़ना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि उनका काम बिखरे विपक्ष को एतजुट करना है. बात हिस्सेदारी की है. जितनी संख्या हमारी, उतनी हिस्सेदारी भी. हम अपने दम पर चुनाव लड़ेंगे.


वीडियो: सपा से क्यों गठबंधन नहीं कर रहे चंद्रशेखर आजाद?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.