Submit your post

Follow Us

चंद्रशेखर आजाद की अखिलेश यादव के साथ बात बनते-बनते कहां बिगड़ गई

यूपी चुनाव में चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Azad) की आजाद समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी के बीच गठबंधन नहीं हो पाया. शनिवार, 15 जनवरी को चंद्रशेखर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अखिलेश को दलित विरोधी तक बता दिया. वहीं अखिलेश यादव का कहना है कि उन्होंने चंद्रशेखर को सीटें तो दी थीं, लेकिन वो खुद ही पीछे हट गए. चंद्रशेखर की आजाद समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी के बीच गठबंधन के लिए सपा के ही सहयोगी ओम प्रकाश राजभर मध्यस्थता कर रहे थे.

बात बनते-बनते कहां बिगड़ गई?

किसी भी चुनाव में ये बात बहुत मायने रखती है कि कोई नेता कितनी तेजी से फैसला लेता है. समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव पिछले कुछ समय से अपने फैसलों की वजह से चर्चा में थे. बीजेपी छोड़ने वाले नेताओं को वह सपा में शामिल कर रहे थे. लेकिन शनिवार की सुबह वैसी नहीं थी. बीजेपी के खेमे में सेंध लगाने के बाद यह तय था कि अखिलेश के लिए छोटी पार्टियों के साथ गठबंधन करना कोई मुश्किल वाला काम नहीं होगा. पश्चिमी यूपी के मामले में यह तय लग रहा था कि अखिलेश यादव आजाद सामाज पार्टी के साथ गठबंधन करेंगे. लेकिन जैसा कि राजनीति में कहा जाता है, किसी राजनेता पर तब तक भरोसा नहीं करना चाहिए जब तक कि डील पर पक्की वाली मुहर न लग जाए.

दोनों पार्टियों की अलग कहानी

इंडिया टुडे के कुमार कुनाल और अभिषेक मिश्रा की रिपोर्ट के मुताबिक, आजाद समाज पार्टी के सूत्रों की मानें तो पिछले छह महीने से सपा और आजाद समाज पार्टी के बीच बातचीत चल रही थी. शुरू में चंद्रशेखर ने 2 दर्जन सीटों की मांग की. लेकिन कहा गया कि यह बहुत ज्यादा थीं. बुधवार को जब चंद्रशेखर लखनऊ पहुंचे तो अंतिम दौर की बातचीत शुरू हुई. चंद्रशेखर ने 10 सीटों की मांग की. लेकिन समाजवादी पार्टी की ओर से कहा गया कि हम आपको 4 से ज्यादा सीटें नहीं दे पाएंगे. पार्टी के सूत्रों का कहना है कि चंद्रशेखर को लगता है कि पश्चिमी यूपी में उनकी पकड़ है. राज्य के हर जिले में उनकी संगठनात्मक संरचना है. सिर्फ 4 सीटों के ऑफर के बाद गठबंधन को लेकर बातचीत पर फुल स्टॉप लग गया. इसके बाद चंद्रशेखर ने शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की और गठबंधन नहीं होने का ऐलान कर दिया.

Akhilesh Yadav (2)

सपा के लोग क्या बता रहे?

समाजवादी पार्टी के सूत्र अलग कहानी बता रहे हैं. उनका कहना है कि चंद्रशेखर ने 8 सीटें मांगी थीं. लेकिन अखिलेश इसके लिए तैयार नहीं थे. बाद में चंद्रशेखर ने 5 सीटें मांगीं. लेकिन अखिलेश उन्हें सिर्फ दो सीटें देने के लिए तैयार हुए.रामपुर की मनिहारन और गाजियाबाद की एक सीट देने पर राजी हुए. क्योंकि समाजवादी पार्टी पहले ही आरएलडी के साथ गठबंधन कर चुकी है ऐसे में इससे ज्यादा सीटें देने की कोई गुंजाइश नहीं थी. सूत्रों का कहना है कि चंद्रशेखर दो सीटों पर मान भी गए थे. लेकिन आजाद समाज पार्टी के अन्य नेताओं को लगा कि सिर्फ दो सीटें बहुत कम हैं. कहा जा रहा है कि समाजवादी पार्टी की ओर से सरकार बनने पर चंद्रशेखर को पोस्ट देने की भी पेशकश की गई थी.

Chandrashekhar Azad

चंद्रशेखर आजाद और दलित राजनीति

उत्तर प्रदेश में दलितों की आबादी 20 प्रतिशत है. यह समाज किसी की हार-जीत तय करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. राज्य की सबसे बड़ी दलित नेता मायावती और उनकी पार्टी बसपा ने पिछले कुछ चुनावों में अच्छा प्रदर्शन नहीं किया है. मायावती जाटव समाज से हैं. चंद्रशेखर आजाद भी इसी समाज से आते हैं. कई लोगों का मानना ​​है कि मायावती का कद कम होता जा रहा है. लेकिन आजाद स्थानीय राजनीति में काफी सक्रिय हैं. सीएए विरोधी प्रदर्शन के दौरान, उन्होंने एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और इसके लिए मुस्लिमों का समर्थन भी हासिल किया. उन्होंने एक नया नारा दिया- जय भीम, जय मीम, जो दलितों और मुसलमानों को एक साथ लाने के लिए अच्छा रहा.

चंद्रशेखर आजाद सहारनपुर से ताल्लुक रखते हैं. पूरे पश्चिमी यूपी में उनकी अच्छी उपस्थिति है. आजाद समाज पार्टी ने अपनी पहली चुनावी लड़ाई वर्ष 2020 में लड़ी, जब उसने बुलंदशहर में एक उम्मीदवार उतारा जो भाजपा और बसपा के बाद तीसरे स्थान पर रहा. यहां तक ​​कि सपा-रालोद के संयुक्त उम्मीदवार और कांग्रेस के उम्मीदवार भी चंद्रशेखर के कैंडिडेट से पीछे रहे. बुलंदशहर सदर विधानसभा सीट से बीजेपी के विधायक वीरेंद्र सिंह सिरोही का लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया था.इसके बाद इस सीट पर उपचुनाव हुए थे. आजाद समाज पार्टी ने मोहम्मद यामीन को मैदान में उतारा था.

Chandra Shekhar Aazad
आजाद समाज पार्टी के मुखिया चंद्रशेखर ने बताया कि समाजवादी पार्टी के साथ उनका गठबंधन नहीं हो पाया है.

वहीं से उन्हें विश्वास होने लगा कि लंबे समय में उनकी पार्टी दलित मतदाताओं के लिए एक विकल्प हो सकती है, क्योंकि वैचारिक स्पष्टता के कारण कई युवा पार्टी की ओर आकर्षित हो रहे हैं.

पिछले 6 महीने से अधिक समय से चंद्रशेखर आजाद गठबंधन को लेकर राजनीतिक दलों के साथ बातचीत कर रहे थे. इससे पहले आजाद, राजभर, ओवैसी और शिवपाल यादव के नए मोर्चे की बात चल रही थी, जो अमल में नहीं आई. ओम प्रकाश राजभर और शिवपाल सिंह यादव अब समाजवादी पार्टी गठबंधन का हिस्सा हैं. गठबंधन से बाहर निकलने के बाद अब चंद्रशेखर AIMIM या कांग्रेस के साथ कुछ विकल्प देखने की कोशिश करेंगे, लेकिन अगर बातचीत विफल हो गई तो आजाद के सामने एकमात्र विकल्प अपने दम पर लड़ाई लड़ना होगा.


सपा से क्यों गठबंधन नहीं कर रहे चंद्रशेखर आजाद?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.