Submit your post

Follow Us

राजा भैया के 'पीछे' मायावती क्यों पड़ी थीं, पर्दे के पीछे की पूरी कहानी

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले दी लल्लनटॉप अपने राजनीतिक मंच जमघट के तहत अलग-अलग नेताओं का इंटरव्यू कर रहा है. इसी क्रम में हमारे संपादक सौरभ द्विवेदी ने उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले की कुंडा सीट से विधायक और जनसत्ता दल (लोकतांत्रिक) के अध्यक्ष रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया से सवाल पूछे. रघुराज प्रताप सिंह ने कहा कि बसपा सुप्रीमो मायावती की सरकार में उनके ऊपर फर्जी मुकदमे लगाए गए. हमारे संपादक ने पूछा कि आखिर कथित तौर पर मायावती ने ऐसा क्यों किया? जवाब में रघुराज प्रताप सिंह ने बताया,

“ऐसा करने की अनेक वजहें हो सकती हैं. एक वजह तो ये थी कि मायावती जी की सरकार अल्पमत में थी. हम लोगों की ये मांग थी कि आप बहुमत सिद्ध करें. छह महीने से अधिक हो गया था और कभी भी बहुमत सिद्ध करने के लिए कहा जा सकता था. ये बात सब जानते थे कि मायावती जी के पास बहुमत नहीं था. भारतीय जनता पार्टी के कुछ विधायकों से लेकर छोटे दलों के और निर्दलीय विधायक अंसतुष्ट थे. इस आवाज को दबाने के लिए फर्जी मुकदमे किए गए. ये बताने की कोशिश की गई कि इस तरह के मुकदमे तैयार हैं, सुधर जाओ. लेकिन हम लोग आगे बढ़ते गए.”

‘मुलायम का नैतिक समर्थन’

रघुराज प्रताप सिंह ने बताया कि उनके ऊपर एक विधायक के नाम पर फर्जी मुकदमा दर्ज कराया गया. शिकायत की गई कि उन्होंने उस विधायक के माथे पर लखनऊ के किसी चौराहे पर पिस्टल लगा दी. उन्होंने यह भी बताया कि उन्हें लगातार खबरें मिल रही थीं कि जल्द ही उन्हें जेल में डाल दिया जाएगा. इसके चलते उन्होंने अपना सामान भी पैक कर लिया था.

कुंडा के विधायक ने आगे बताया कि एक रात वो सो रहे थे कि रात ढाई बजे उन्हें बताया गया कि पुलिसवाले आए हैं. इसके बाद उन्होंने पुलिसवालों के लिए चाय बनाने के लिए कहा. फिर पूछा कि आखिर वो उनके घर क्यों आए. पुलिसवालों ने कहा कि उनके पास रघुराज प्रताप सिंह की गिरफ्तारी का वारंट है. जिसके बाद रघुराज प्रताप सिंह ने कहा कि अगर पुलिसवालों के पास समय हो तो वो आराम से चाय पी लें और फिर वो उनके साथ चलेंगे. उन्होंने बताया कि इस सब घटनाक्रम के दौरान उन्हें मुलायम सिंह यादव का नैतिक समर्थन मिल रहा था.


वीडियो- यूपी चुनाव 2022 से पहले राजा भैया का इंटरव्यू

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.