Submit your post

Follow Us

राजनीति में आने से पहले इन्वेस्टमेंट बैंकर थे पीयूष गोयल

367
शेयर्स

नामः पीयूष गोयल

परिचय/सांसदः राज्यसभा सांसद, महाराष्ट्र से

मंत्रिमंडल में शामिल करने की वजहः
1-आर्थिक मामलों के अच्छे जानकार हैं.
2-अरुण जेटली की गैरहाजिरी में मोदी सरकार को आर्थिक मामलों को देखने के लिए स्पेशलिस्ट की जरूरत होगी.
3-पिछली सरकार में अरुण जेटली की बीमारी के बाद दो बार वित्त मंत्रालय का प्रभार संभाला.
4-पिछली सरकार में ऊर्जा, कोयला और नवीन उर्जा मंत्रालय जैसे अहम डिपार्टमेंट संभाले. कोयला और ऊर्जा मंत्रालय में काम भी ठीक-ठाक हुए.
5- सबसे अहम ये कि गोयल कॉरपोरेट के साथ अच्छे रिश्तों के लिए जाने जाते हैं. वे पार्टी के कोषाध्यक्ष हैं. और चुनाव के दौरान पैसा जुटाने में उनकी भूमिका अहम रहती है.

मंत्रालयः कैबिनेट मंत्रीः रेलवे और वाणिज्य मंत्रालय.

रोचक तथ्यः
1-पीयूष गोयल पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट और मैनजमेंट कंसल्टेंट हैं.
2-उनके पिता वेद प्रकाश गोयल लंबे वक्त तक भाजपा के कोषाध्यक्ष रहे.
3-अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में वेद प्रकाश गोयल केंद्रीय जहाजरानी मंत्री थे.
4-पीयूष गोयल की मां चंद्रकला गोयल महाराष्ट्र विधानसभा की 3 बार विधायक रह चुकी हैं.
5-पीयूष बचपन से ही पढ़ाई में तेज थे. CA के एग्जाम में देश भर में दूसरे नंबर पर आए थे. लॉ में भी मुंबई यूनिवर्सिटी से दूसरे स्थान पर थे.
6-राजनीति में आने से पहले पीयूष इन्वेस्टमेंट बैंकर थे.
7-गोयल पत्नी सीमा गोयल के साथ मिलकर कुछ NGO भी चलाते हैं, गरीब बच्चों की शिक्षा के लिए.
8-साल 2014 के चुनाव में पीयूष ने भाजपा के प्रचार-प्रसार का काम संभाला था.


वीडियोः पीयूष गोयल ने रितेश देशमुख के पिता पर इल्ज़ाम लगाए, रितेश बोले- मंत्री जी आप 7 साल लेट हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Profile of central Minister Piyush Goyal, his life and biography

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.