Submit your post

Follow Us

बीजेपी में ख़ुशी की लहर, मणिशंकर अय्यर लौट आए हैं

1.22 K
शेयर्स

‘मुझको लगता है कि ये आदमी बहुत नीच किस्म का आदमी है. इसमें कोई सभ्यता नहीं है और ऐसे मौके पर इस प्रकार की गंदी राजनीति की क्या आवश्यकता है’.

ये बयान कांग्रेस के सीनियर नेता मणिशंकर अय्यर का है. 7 दिसंबर 2017 को उन्होंने पीएम मोदी को लेकर ये बयान दिया था. गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान अय्यर के इस बयान पर काफी बवाल मचा था. बाद में कांग्रेस नेता को माफी मांगनी पड़ी थी. पार्टी ने सस्पेंड भी कर दिया था. लगभग 17 महीने बाद मणिशंकर अय्यर ने अपने इस बयान को सही ठहराया है. जिस बयान के लिए अय्यर 2017 में माफी मांग रहे थे. 2019 में उसे सही क्यों ठहरा रहे हैं ये तो आप तय करें, लेकिन अय्यर के बयान से बीजेपी में जरूर खुशी की लहर है. 2017 के गुजरात विधानसभा चुनाव में बीजेपी इस बयान को चुनावी मुद्दा बना चुकी है. और चुनाव जीत भी चुकी है.

जम्मू-कश्मीर का एक अंग्रेजी अखबार है ‘राइजिंग कश्मीर’ मणिशंकर अय्यर ने 13 मई को इसमें एक लेख लिखा. लेख का शीर्षक है ‘On cloud Nine of Nationalism’ इस लेख में उन्होंने पीएम मोदी के बयानों का जिक्र किया है. ये बयान पीएम मोदी ने रैलियों और इंटरव्यू में दिए हैं. पीएम मोदी के भगवान गणेश की ‘प्‍लास्टिक सर्जरी’ और उड़नखटोलों को प्राचीन विमान बताने वाले बयानों को ‘अज्ञानता भरे दावे’ कहा है. इसके लिए उन्होंने पीएम मोदी की पढ़ाई लिखाई वाले बैकग्राउंड का जिक्र किया है. अय्यर ने इस लेख में पीएम मोदी के एयरस्ट्राइक वाले बयान का भी जिक्र किया है जिसमें मोदी ने कहा था कि इतने क्लाउड हैं, बारिश हो रही है तो हम रडार से बच सकते हैं.

और क्या है इस आर्टिकल में?

मणिशंकर अय्यर ने पीएम मोदी के उस बयान का भी जिक्र किया है जिसमें मोदी ने कहा था कि ‘दिसंबर 1987 में राजीव गांधी ने आईएनएस विराट का पर्सनल टैक्‍सी की तरह इस्तेमाल किया. अपने लेख में लिखा है कि मोदी को सेना और शहीद जवानों को चुनाव में घसीटने के लिए चेतावनी दी जानी चाहिए. उनकी वैज्ञानिक निरक्षरता के लिए भी उन्हें चेतावनी दी जानी चाहिए. इस आर्टिकल के अंत में अय्यर ने लिखा है, ‘याद है 2017 में मैंने मोदी के बारे में क्‍या कहा था? क्‍या मैंने सही भविष्‍यवाणी नहीं की थी?’

मणिशंकर अय्यर के इसी लेख को लेकर बवाल मचा हुआ है.
मणिशंकर अय्यर के इसी लेख को लेकर बवाल मचा हुआ है.

राइजिंग कश्मीर के इस आर्टिकल को द प्रिंट ने अपनी वेबसाइट पर पब्लिश किया. इसके बाद मीडिया में ये खबरें चलने लगीं. ‘नीच’ वाले बयान को सही ठहराने पर बीजेपी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधा है. बीजेपी नेता और प्रवक्ता संबित पात्रा ने ट्वीट किया,

‘2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की ‘प्यार की राजनीति’ में गांधी परिवार के और एक ‘मणि’ ने मोदी जी पर दिए गए अपने पहले के ‘नीच बयान’ को सही ठहराते हुए कुछ और योगदान किया है.’

मणिशंकर अय्यर के इस पूरे मामले से कांग्रेस ने किनारा कर लिया है. पार्टी ने उनके लेख को उनका निजी विचार बताया है. इससे पहले कांग्रेस के नेता सैम पित्रोदा ने बयान दिया था जिसे लेकर काफी बवाल हुआ था. पित्रोदा ने कहा था,

सिख दंगे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कांग्रेस पर आरोपों के जवाब में पित्रोदा ने कहा था- अब क्या है 84 का? आपने क्या किया पांच साल में उसकी बात करिए. 1984 में जो हुआ वो हुआ.

2017 में बना था बड़ा मुद्दा

2017 में मणिशंकर अय्यर ने जब ये बयान दिया था उस समय गुजरात में विधानसभा चुनाव चल रहे थे. पीएम मोदी ने अय्यर के इस बयान को अपनी जाति से जोड़ दिया था और पूरा कैंपेन इस ओर शिफ्ट कर दिया था कि कांग्रेस उन्हें नीच जाति का बता रही है. सूरत की चुनावी रैली में पीएम मोदी ने कहा था कि,

कांग्रेसी नेता ऐसी भाषा का प्रयोग कर रहे हैं, जो लोकतंत्र में शोभा नहीं देती. आज कांग्रेस के एक बड़े नेता, जो विद्वान परिवार से आते हैं, बड़ी-बड़ी यूनिवर्सिटी की डिग्री रखते हैं, भारत के राजदूत के दौर पर दुनिया में काम कर चुके हैं, फॉरेन सर्विस के बड़े अफसर रहे, मनमोहन सिंह जी की सरकार में बड़े जवाबदार मंत्री थे- श्रीमान मणिशंकर अय्यर. उन्होंने कहा कि मोदी तो नीची जाति का है, मोदी तो नीच है.

भाइयों बहनों, क्या ये गुजरात का अपमान है या नहीं? ये भारत की महान परंपरा का अपमान है या नहीं? ये तो मुगलई मानसिकता है, जिसने हिंदुस्तान में ऊंच-नीच का कुसंस्कार भर दिया. मुगल संस्कार वालों को मेरे जैसे का अच्छे कपड़े पहनना सहन नहीं होता. इन्हें लगता है कि कपड़ा धोने और प्रेस करने वाला ऐसे कपड़े कैसे पहन सकता है. ये मुगलई मानसिकता, सल्तनती मानसिकता है. आपने हमें गधा कहा, गंदी नाली का कीड़ा कहा, नीच जाति का कहा, नीच कहा. इसका जवाब मतपेटियां देंगी.

मणिशंकर अय्यर ने 2017 के अपने ‘नीच’ बयान को सही ठहराकर एक बार फिर पीएम मोदी और बीजेपी को मौका दे दिया है. अंतिम चरण में 8 राज्यों की 59 सीटों पर 19 मई को वोटिंग होनी है. नतीजे 23 मई को आएंगे.


आम आदमी पार्टी के सांसद उम्मीदवार के बेटे ने ही लगा दिया टिकट खरीदने का आरोप

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.