Submit your post

Follow Us

मोदी सरकार में वो तीन महिलाएं कौन हैं, जिन्हें कैबिनेट मंत्री बनाया गया है

97
शेयर्स

30 मई की शाम राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में नरेंद्र मोदी और उनके मंत्रिमंडल ने शपथ ली. कुल 24 कैबिनेट मंत्री हैं इस बार. इनमें से मात्र तीन महिलाएं हैं. ये कौन हैं, क्यों चुनी गई हैं, थोड़ा जान लीजिए.

1. स्मृति ईरानी:

कहां से सांसद हैं- अमेठी, उत्तर प्रदेश

कौन सा मंत्रालय मिला- महिला एवं बाल विकास मंत्रालय

पिछला कामकाज- कुछ समय तक उनके पास मानव संसाधन विकास मंत्रालय रहा था. टेक्सटाइल मिनिस्ट्री भी संभाली उन्होंने.

2014 में बीजेपी ने स्मृति को अमेठी में राहुल गांधी के खिलाफ लोकसभा चुनाव लड़ने भेजा. स्मृति लड़ीं और हार भी गईं. बावजूद इसके उन्हें कैबिनेट में शामिल किया गया. ये राहुल गांधी के खिलाफ लड़ने, जबकि हारने की संभावना ज्यादा थी, का इनाम था. स्मृति न केवल केंद्र में रहीं, बल्कि लगातार अमेठी भी जाती रहीं. काफी सक्रिय रहीं वहां. इसका रिज़ल्ट भी आया. स्मृति ने अपनी दूसरी कोशिश में राहुल को अमेठी से हरा दिया. इसका इनाम है शायद कि उन्हें कैबिनेट मंत्री की शपथ दिलाई गई है. प्रोफाइल क्या मिलेगा, ये भी तय नहीं है. पिछली सरकार में

2. निर्मला सीतारमण:

कहां से सांसद हैं- कर्नाटक से राज्यसभा MP

कौन सा मंत्रालय मिला- वित्त मंत्रालय

पिछला कामकाज- रक्षा मंत्री

पिछली मोदी सरकार में मनोहर पर्रिकर को रक्षा मंत्रालय मिला. फिर उन्हें गोवा संभालने के लिए भेजा पार्टी ने. उनके बाद निर्मला बनीं डिफेंस मिनिस्टर. इस बार भी उन्हें कैबिनेट मंत्री की शपथ दिलाई गई है. अनुमान है कि उन्हें शायद दोबारा रक्षा मंत्री बनाया जाए.

3. हरसिमरत कौर:

कहां से सांसद हैं- बठिंडा, पंजाब

कौन सा मंत्रालय मिला- फूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्रीज

पिछला कामकाज- 2014 से 2019 तक, पूरे पांच साल फूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्रीज में राज्यमंत्री रहीं.

बीजेपी और अकाली दल के गठबंधन ने पंजाब में चार लोकसभा सीटें निकाली हैं. प्रदर्शन बेकार रहा, लेकिन अकाली दल पुरानी सहयोगी है बीजेपी की. बादल परिवार की बहू हैं हरसिमरत. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सहयोगी संगठन ‘स्वदेशी जागरण मंच’ हरसिमत को मंत्री बनाए जाने का विरोध कर रहे थे. RSS कृषि में विदेशी निवेश का विरोध करता है. उसका आरोप है कि हरसिमत इंटरनैशनल रिटेल कंपनी वॉलमार्ट के साथ मिलकर उसके पक्ष में काम कर रही हैं. इसके बावजूद हरसिमत को कैबिनेट मंत्री का ओहदा मिला है.


मोदी ने अपने शपथग्रहण में किन नेताओं को बुलाया है?

मध्य प्रदेश में बीजेपी के क्लीन स्वीप के पीछे ये वजह है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.