Submit your post

Follow Us

मध्य प्रदेश: कांग्रेस को बचाने मायावती-अखिलेश आ गए हैं

किसको कितनी सीटें मिलीं? 

कांग्रेस- 114
बीजेपी- 109
बहुजन समाज पार्टी (BSP)- 2
समाजवादी पार्टी (SP)- 1
निर्दलीय-4

सरकार बनाने के लिए चाहिए 116 सीटें

11 दिसंबर, 2018 को काउंटिंग शुरू हुई. इसके चौबीस घंटे बाद जाकर फाइनल नतीज़ा आया. सबसे आखिर तक भिंड़ जिले की मेहगांव सीट अटकी रही. 23 राउंड की गिनती के बाद जाकर 12 दिसंबर की सुबह 7 बजे कांग्रेस के ओ पी एस भदौरिया को जीत का सर्टिफिकेट मिल गया. इसके तकरीबन डेढ़ घंटे बाद चुनाव आयोग ने अपनी वेबसाइट अपडेट की. और तब जाकर Madhya Pradesh Assembly के नतीज़ों के ऐलान का काम पूरा हुआ. कांग्रेस और बीजेपी के बीच पांच सीटों का फासला है. वोट शेयर के हिसाब से दोनों पार्टियों के बीच एक बिंदु भर का फर्क है. बीजेपी को 41 फीसद वोट मिले हैं और कांग्रेस को इससे दशमलव एक फीसद कम, यानी 40.9 पर्सेंट वोट मिले हैं.

वोटों की गिनती शुरू होने के 24 घंटे से भी ज्यादा वक़्त बाद, 12 दिसंबर की सुबह साढ़े आठ बजे के करीब जाकर चुनाव आयोग ने मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव का फाइनल रिज़ल्ट जारी किया.
वोटों की गिनती शुरू होने के 24 घंटे से भी ज्यादा वक़्त बाद, 12 दिसंबर की सुबह साढ़े आठ बजे के करीब जाकर चुनाव आयोग ने मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव का फाइनल रिज़ल्ट जारी किया.

भयंकर फंसा हुआ मामला था मध्य प्रदेश में
230 सीटों की मध्य प्रदेश विधानसभा के लिए 28 नवंबर, 2018 को वोटिंग हुई थी. यहां सत्ता में थे बीजेपी के शिवराज सिंह चौहान. 2014 के लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी की जीत के बाद शायद ये पहली बार था कि किसी राज्य में चुनाव हुए और इलेक्शन मोदी की फेस वैल्यू पर नहीं लड़ा गया. मध्य प्रदेश में बीजेपी का मतलब ही शिवराज है. मगर इस बार शिवराज के लिए स्थितियां मक्खन कतई नहीं थीं. उन्हें कांग्रेस की तरफ से काफी तगड़ी चुनौती मिली. जानकारों ने कहा, कौन जीतेगा और कौन हारेगा, ये अंदाजा लगा पाना बहुत मुश्किल है. गिनती शुरू होने के बाद घंटों तक कभी कांटा बीजेपी की तरफ जाता रहा, तो कभी कांग्रेस की तरफ. कभी बीजेपी आगे होती, कभी कांग्रेस आगे होती. नतीज़ा आने में इतनी देर यूं लगी कि हर राउंड की गिनती के बाद रिजल्ट ऐलान किया जाता और प्रत्याशियों से दस्तखत करवाए जाते. ताकि किसी कन्फ्यूजन का या शिकायत का स्कोप न रहे.

किसी को नहीं मिला बहुमत
114 सीटें जीतकर कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बन गई है. मगर बहुमत उसे भी नहीं मिला. सरकार बनाने के लिए कम से कम 116 सीटों की ज़रूरत है. यानी कांग्रेस को सरकार बनाने के लिए दो और विधायकों का सपोर्ट चाहिए होगा. समाजवादी पार्टी के पास एक विधायक है. अखिलेश ने ऐलान किया है कि वो कांग्रेस को सपोर्ट करेंगे. मायावती की BSP को दो MLA मिले हैं. उन्होंने भी कांग्रेस के साथ जाने का ऐलान कर दिया है. इनके अलावा चार इंडिपेंडेंट भी जीते हैं. अगर 109 सीटें जीती बीजेपी उन्हें भी साथ मिला लेती, तब भी बस 113 तक ही पहुंच पाती. सरकार फिर भी नहीं बना पाती. मुख्यमंत्री रहे शिवराज सिंह चौहान ने भी हार स्वीकार कर ली है. उन्होंने ये भी कहा कि बीजेपी सरकार बनाने का दावा पेश नहीं करेगी.

ये मंदसौर में हुए किसान प्रदर्शनों के समय की दो तस्वीरें हैं. यहां पुलिस के गोलियां चलाने के बाद बात काफी बिगड़ गई थी (फोटो: PTI)
ये मंदसौर में हुए किसान प्रदर्शनों के समय की दो तस्वीरें हैं. यहां पुलिस के गोलियां चलाने के बाद बात काफी बिगड़ गई थी (फोटो: PTI)

शिवराज सरकार के पांच साल
शिवराज सिंह चौहान का पिछला कार्यकाल, यानी 2008 से 2013 के बीच वाले पांच साल की छवि काफी पॉजीटिव रही थी. मगर इस बार के उनके कार्यकाल में उपलब्धियां कम और विवाद ज्यादा रहे. सरकार की किसी योजना से आबादी का एक बड़ा धड़ा खुश हो, ऐसा दिखा नहीं. सबसे बड़ा मुद्दा व्यापमं का रहा. शिवराज सरकार पर व्यापमं के मुद्दे को दबाने और मैनेज करने के भी गंभीर इल्जाम लगे. हालांकि व्यापमं चुनाव में बड़ा मुद्दा नहीं बन पाया. बल्कि हैरत की बात ये रही कि ये कोई चुनावी फैक्टर बना ही नहीं. वैसे इसको शिवराज की बड़ी उपलब्धि और कांग्रेस की बड़ी नाकामी मानेंगे. शिवराज सरकार के लिए जो दूसरी सबसे बड़ी मुश्किल रही, वो थी मंदसौर की घटना. जून 2017 में मंदसौर के अंदर किसानों ने प्रदर्शन किया. वो अपनी फसल की बेहतर कीमत मांग रहे थे. पुलिस ने उनपर गोलियां चलवाईं. छह किसान मारे गए. किसानों पर गोलियां चलीं, इस बात ने न केवल मध्य प्रदेश में बल्कि बाकी जगहों पर भी बीजेपी की खूब किरकिरी की. इसी मंदसौर में एक आठ साल की बच्ची से हुआ नृशंस रेप भी काफी सुर्खियों में रहा.

ये 2013 में हुए मध्य प्रदेश विधानसभा के पार्टी वाइज़ रिजल्ट देखिए.
ये 2013 में हुए मध्य प्रदेश विधानसभा के पार्टी वाइज़ रिजल्ट देखिए.

पिछली विधानसभा चुनाव में क्या हुआ था? 
बीजेपी को सबसे ज्यादा 165 सीटें मिली थीं. सरकार बनाने के लिए कम से कम 116 सीटें चाहिए होती हैं. इस लिहाज से बीजेपी को बड़ी जीत मिली थी. रिजल्ट के हिसाब से दूसरे नंबर पर थी कांग्रेस. कांग्रेस ने कुल 229 सीटों पर चुनाव लड़ा था. इसमें से 58 सीटें उसके पास आईं. बहुजन समाज पार्टी (BSP) को मिली थीं चार सीटें. तीन सीटें निर्दलीय उम्मीदवारों की झोली में गईं. वोटिंग पर्सेंटेज के हिसाब से बीजेपी को कुल 45.19 फीसद वोट मिले. कांग्रेस को भी ठीक-ठाक 36.79 पर्सेंट वोट मिले. BSP को साढ़े छह फीसद वोट मिले थे.


सारे एग्ज़िट पोल में कौन जीत रहा है मध्य प्रदेश?

क्या है फ़ॉरेस्ट राइट्स एक्ट के तहत मिलने वाले पट्टों की सच्चाई?

सरदार पटेल को PM बनाने की दलील सुन आप सन्न रह जाएंगे

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.