Submit your post

Follow Us

हेमंत सोरेन अमित शाह को पटखनी दे पाए, उसकी वजह ये रही

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 के नतीजे हमारे सामने हैं. हेमंत सोरेन अब महागठबंधन के सीएम होंगे. भाजपा की रघुबर दास सरकार गिर गई है.

नतीजे ये रहे –

महागठबंधन (झामुमो+कांग्रेस+राजद) – 47
भाजपा – 25
झारखंड विकास मोर्चा – 3
आजसू – 2
अन्य – 3

ये हैं वो तीन वजहें कि झारखंड मुक्ति मोर्च, कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल के महागठबंधन को जीत मिली –

1. जो जीता वो सिकंदर – हेमंत सोरेन
झारखंड के लिए हेमंत सोरेन दिशोम गुरू शिबू सोरेन के वारिस हैं. लेकिन हेमंत इस विरासत को लेकर बैठे नहीं रहे. उन्होंने लगातार सूबे के दौरे किए. मार्च 2018 के बाद उन्होंने दो यात्राएं निकालीं – बदलाव यात्र और संघर्ष यात्रा. वो हर विधानसभा सीट पर कम से कम दो बार खुद पहुंचे. 182 सभाएं कीं. ऐसे में वो जनता की नज़र में भी सीएम फेस हो गए. जैसे ही भाजपा रघुबर दास को लेकर असहज होने लगी, मुकाबल हेमंत के पक्ष में झुकने लगा. सवाल हो गया – हमारा चेहरा हेमंत, तुम्हारा कौन? भाजपा के पास मोदी नाम का अंगद का पांव है. लेकिन वो तो दिल्ली में जमा है. और दिल्ली से रांची थोड़ा दूर रह गया.

2. बलिदान देना होगा – झामुमो का गठबंधन धर्म
महागठबंधन में तीन पार्टियां हैं. लेकिन झामुमो ने दिल बड़ा रखा. झामुमो जब भाजपा के साथ थी तो बराबरी पर थी. बावजूद इसके महागठबंधन बनाने के लिए कांग्रेस-राजद को सीटें देने में ना नुकुर नहीं किया. ऐसा भी नहीं था कि अपना ध्यान नहीं रखा. जब बाबूलाल मरांडी की महत्वाकांक्षा गठबंधन पर भारी लगने लगी, तो उनसे किनारे किया. जो काम का था, उसे साथ लिया, जो नहीं था, उसे नमस्ते किया. दुरुस्त टिकट वितरण भी रहा. फिर तीनों पार्टियों और ज़मीन में कार्यक्ताओं ने अच्छे संयोजन के साथ चुनाव लड़ा – एक ऐसी चीज़ जो विपक्ष यूपी में नहीं कर पाया था.

3. बाहरी नहीं चलेगा – लोकल मुद्दों पर फोकस
महागठबंधन ने इस बात को याद किया कि झारखंड में जितने सीएम हुए, सब आदिवासी थे. सो बिना रिस्क लिए दिशोम गुरू के बेटे को आगे कर दिया. फिर चुनाव को स्थानीय बनाए रहे. अमित शाह राम मंदिर की बात करते थे. मोदी रैली में कपड़ों से पहचान पूछते थे. लेकिन महागठबंधन सीटवार अभियान चलाता रहा. नरेंद्र मोदी या भाजपा के किसी स्टार प्रचारक को सीधे निशाने पर नहीं लिया. झामुमो ने खुलकर आदिवासी कार्ड भी खेला. और उस खेल को बेहतर भी किया. उसे संथालों की पार्टी माना जाता था. हेमंत ने दूसरी बड़ी जातियों जैसे ओराओं को साथ लिया. नतीजा, हम सबके सामने है.


वीडियोः झारखंड चुनाव: दुमका में पोस्टमॉर्टम करने वाला व्यक्ति ने जो बताया वो हैरान करने वाला है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.