Submit your post

Follow Us

झारखंड चुनाव में चर्चित लेखिका महुआ माझी जीतीं या हार गईं?

झारखंड विधानसभा चुनाव के नतीजे आ चुके हैं. झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM), कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल (RJD) ने साथ मिलकर चुनाव लड़ा था. इन तीन पार्टियों के गठबंधन को बहुमत मिला है. वहीं बीजेपी के हिस्से में 25 सीटें आते दिख रही हैं. पिछले चुनाव में बीजेपी 35 सीटें हासिल करने में कामयाब रही थी.

खैर, बीजेपी के लिए अच्छी बात ये रही कि पार्टी का 29 साल का रिकॉर्ड टूटने से बच गया. रांची विधानसभा सीट पर 1990 से बीजेपी का कब्जा रहा है और ये कब्जा इस बार भी बरकरार है. पार्टी के सिटिंग एमएलए चंद्रेश्वर प्रसाद सिंह ने इस बार भी रांची से जीत हासिल की है. साल 2000 से इस सीट से चंद्रेश्वर ही विधायक हैं. उनका मुकाबला था JMM की महुआ माझी से.

कौन हैं महुआ?

झारखंड महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष हैं. फिलहाल JMM की महिला विंग की स्टेट प्रेसिडेंट हैं. फेमस लेखिका और उपन्यासकार हैं. कई सारी कहानियां लिख चुकी हैं. 2006 में उनका पहला उपन्यास ‘मैं बोरिशिल्ला’ प्रकाशित हुआ था, जो काफी ज्यादा फेमस हुआ था. 2013 में वो झारखंड महिला आयोग की अध्यक्ष बनी थीं.

एक इंटरव्यू में महुआ ने बताया कि वो अपने राइटिंग की रिसर्च करने के लिए कई बार राज्य के सुदूर इलाकों में जाती थीं. वहां वो महिलाओं की हालत देखती थीं. उन्हें लगता था कि कुछ तो करना चाहिए. इसलिए जब झारखंड महिला आयोग में वेकैंसी निकली, तो उन्होंने अप्लाई कर दिया और बन गईं आयोग की चेयरपर्सन.

एक अन्य इंटरव्यू में उन्होंने बताया कि राजनीति में आने का उनका कोई प्लान नहीं था. वो पूरी तरह से महिला आयोग के कामकाज में बिजी थीं. 2014 में झारखंड विधानसभा चुनाव के कुछ दिन पहले JMM ने उनसे कॉन्टैक्ट किया और चुनाव लड़ने का प्रस्ताव रखा. पहले तो महुआ ने मना कर दिया, लेकिन बाद में हां बोल दिया. रांची से चुनावी रण में उतरीं. लेकिन चंद्रेश्वर से हार का सामना करना पड़ा. महुआ पहला चुनाव 58863 वोटों से हार गई थीं.

दूसरी बार भी JMM ने महुआ पर विश्वास जताया. उन्हें रांची से टिकट दिया, इस बार भी उन्हें जीत नहीं मिली. नतीजे आने के बाद महुआ ने ट्वीट करके अपनी हार स्वीकार की और जनता को थैंक्यू कहा.

झारखंड में पिछली बार बीजेपी की सरकार थी. रघुवर दास के नेतृत्व वाली. पहली सरकार जिसने पांच साल का कार्यकाल पूरा किया. लेकिन अब सरकार बदल रही है. हेमंत सोरेन सूबे के अगले मुखिया होंगे.


वीडियो देखें:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.