Submit your post

Follow Us

जमशेदपुर पूर्वी सीट: सीएम रघुवरदास, अपने ही बागी मंत्री सरयू राय से पार न पा सके

सीट का नाम- जमशेदपुर पूर्वी

प्रत्याशी: सीएम रघुवरदास, बीजेपी

सरयू राय, निर्दलीय

गौरव बल्लभ: कांग्रेस, जेएमएम और आरजेडी गठबंधन से 


जमशेदपुर पूर्वी सीट से सीएम रघुवरदास, सरयू राय से 15833 वोटों से पीछे चल रहे हैं.


जमशेदपुर पूर्वी सीट. झारखंड चुनाव में इस सीट की सबसे ज्यादा चर्चा हुई. झारखंड के सीएम रघुवर दास की पारंपरिक सीट. झारखंड बनने से पहले से रघुवर दास यहां से विधायक चुने जाते रहे हैं. 1995 से लगातार चुनाव जीत रहे हैं. रघुवर दास छठवीं बार मैदान में थे. सीएम के खिलाफ उनके ही मंत्री ने बागावत कर चुनाव लड़ा. सरयू राय खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री थे. रघुवरदास सरकार में. 18 नवंबर को जिस दिन सीएम रघुवर दास से अपना नामांकन भरा था, उसी दिन सरयू राय ने भी नामांकन दाखिल किया था. इस सीट से एक और प्रत्याशी मैदान में थे. कांग्रेस के प्रवक्ता गौरव वल्लभ. टीवी का चेहरा. झारखंड मुक्ति मोर्चा, कांग्रेस और आरजेडी महागठबंधन की ओर से मैदान में थे. जमशेदपुर पूर्वी सीट पर दूसरे चरण के तहत 7 दिसंबर को मतदान हुआ था.

जमशेदपुर पूर्वी सीट पर 1995 से 2014 तक रघुवर दास ने लगातार 5 बार जीत हासिल की. पिछली बार रघुवर दास ने कांग्रेस के आनंद बिहारी दुबे को 33 हजार से ज्यादा वोटों से हराया था.

सरयू राय ने पिछली बार जमशेदपुर पश्चिम सीट से चुनाव लड़ा था. लेकिन इस बार उन्होंने अपनी दिशा बदल ली. पश्चिम से पूरब आ गए थे. क्योंकि बीजेपी ने टिकट नहीं दिया था. सीएम रघुवर दास से नहीं बनती थी तो टिकट भी नहीं मिला. सरयू राय के बारे में कहा जाता है कि वो विसलब्लोअर रहे हैं. चारा घोटाला, कोयला घोटाला और कई अन्य घोटालों का खुलासा उन्होंने किया है. 27 दिसंबर, 2018 को सीएजी की एक रिपोर्ट में कंबल घोटाले का नाम सामने आया था. सीएजी रिपोर्ट के मुताबिक, झारखंड की बीजेपी सरकार में ऐसे ट्रकों से धागे ‘ढोए’ गए जो तकरीबन 250 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ते थे. विधानसभा में सरयू राय ने सीबीआई जांच की मांग की थी. दिक्कतें बढ़ीं तो पीएम मोदी से गुहार लगाई. कहा कि उन्हें मंत्री पद से मुक्त कर दिया जाए. लेकिन ऐसा नहीं किया गया. पांच साल तक वो रघुवरदास सरकार में मंत्री रहे. चुनाव से ठीक पहले बीजेपी छोड़ दी और रघुवर दास के खिलाफ चुनाव मैदान में कूद गए.

गौरव वल्लभ गठबंधन के उम्मीदवार. एक टीवी चैनल के टॉक शो में आर्थिक मंदी पर बात हो रही थी. गौरव वल्लभ ने भाजपा के ट्रिलियन डॉलर इकॉनमी के सवाल पर पूछ दिया कि बताएं कि ट्रिलियन में कितने ज़ीरो होते हैं. संबित पात्रा ने जवाब नहीं दिया फिर गौरव वल्लभ को ही जवाब देना पड़ा. बताया कि ट्रिलियन में कितने ज़ीरो होते हैं. सोशल मीडिया पर लोगों ने गौरव वल्लभ की तारीफ की. लेकिन जमशेदपुर के लिए गौरव की पहचान इससे अलग है. वो जमशेदपुर स्थित XLRI मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट में पढ़ाते हैं. फाइनेंस के प्रोफेसर हैं. और यही कारण है कि कांग्रेस ने उन्हें मैदान में उतारा था. अपने परिवार के पहले व्यक्ति हैं जो राजनीति में आए थे.जनवरी 2019 में कांग्रेस में शामिल हुए. पार्टी ने 10 नए प्रवक्ता नियुक्त किए तो उसमें गौरव का नाम था.


झारखंड चुनाव: जमशेदपुर में सीएम रघुवर दास और सरयू राय में किसका पलड़ा भारी है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.